educratsweb logo


Guru Gobind Singh Jayanti 2020

गुरु गोबिंद सिंह ने दिया था पंच ककार पहनने का आदेश, आज भी प्रेरित करती हैं इनकी शिक्षाएं

शौर्य और साहस के प्रतीक गुरु गोबिंद सिंह जी का जन्म पौष माह की शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को बिहार के पटना में हुआ। इस बार यह तिथी 02 जनवरी को है। इनके बचपन का नाम गोबिंद राय था और वे दसवें सिख गुरु थे। एक आध्यात्मिक गुरु होने के साथ-साथ वे एक निर्भयी योद्धा, कवि और दार्शनिक भी थे।

    गुरु गोबिंद सिंह जी ने खालसा पंथ की स्थापना की थी। यह सिखों के इतिहास की सबसे महत्वपूर्ण घटना मानी जाती है। गुरु गोबिंद सिंह ने ही गुरु ग्रंथ साहिब को सिखों का गुरु घोषित किया था। कहा जाता है कि उन्होंने अपना पूरा जीवन लोगों की सेवा करते हुए और सच्चाई की राह पर चलते हुए ही गुजार दिया था। गुरु गोबिंद सिंह का उदाहरण और शिक्षाएं आज भी लोगों को प्रेरित करती हैं।

सिखों की 5 मर्यादाएं

कहा जाता है कि गुरु गोबिंद सिंह ने खालसा पंथ की रक्षा के लिए कई बार मुगलों का सामना किया था। सिखों के लिए 5 मर्यादाएं- केश, कड़ा, कच्छा, कृपाण और कंघा धारण करने का आदेश गुरु गोबिंद सिंह ने ही दिया था। इन चीजों को पांच ककार कहा जाता है, जिन्हें धारण करना सभी सिखों के लिए अनिवार्य होता है। गुरु गोबिंद सिंह को ज्ञान, सैन्य क्षमता आदि के लिए जाना जाता है। उन्होंने संस्कृत, फारसी, पंजाबी और अरबी भाषाएं भी सीखीं थी। साथ ही उन्होंने धनुष-बाण, तलवार, भाला चलाने की कला भी सीखी।

विद्वानों के संरक्षक

गुरु गोबिंद सिंह एक लेखक भी थे, उन्होंने स्वयं कई ग्रंथों की रचना की थी। उन्हें विद्वानों का संरक्षक माना जाता था। कहा जाता है कि उनके दरबार में हमेशा 52 कवियों और लेखकों की उपस्थिति बनी रहती थी। इस लिए उन्हें संत सिपाही भी कहा जाता था। सिख धर्म के लोग गुरु गोबिंद सिंह जयंती को बहुत धूम-धाम से मनाते हैं। इस दिन घरों और गुरुद्वारों में कीर्तन होता है। खालसा पंथ की झांकियां निकाली जाती हैं। इस दिन खासतौर पर लंगर का आयोजन किया जाता है।

educratsweb.com

Posted by: educratsweb.com

I am owner of this website and bharatpages.in . I Love blogging and Enjoy to listening old song. ....
Enjoy this Author Blog/Website visit http://twitter.com/bharatpages

if you have any information regarding Job, Study Material or any other information related to career. you can Post your article on our website. Click here to Register & Share your contents.
For Advertisment or any query email us at educratsweb@gmail.com

RELATED POST
1. Steps taken for Documentation of various art forms
Sangeet Natak Akademi, New Delhi has a scheme Survey, Research, Documentation, Dissemination & Publication which has the objective of preserving recordings of different arts forms, for the purpose of research and dissemination. Under the said scheme, Akademi provides grant to individuals and arts and cultural institutions for research work and documentation of various dance forms of the country. Sangeet Natak Akademi, New Delhi organized Festivals all over the country, gives grants-in-aid f
2. Guru Gobind Singh Jayanti 2020 | गुरु गोबिंद सिंह ने दिया था पंच ककार पहनने का आदेश, आज भी प्रेरित करती हैं इनकी शिक्षाएं
Guru Gobind Singh Jayanti 2020 गुरु गोबिंद सिंह ने दिया था पंच ककार पहनने का आदेश, आज भी प्रेरित करती हैं इनकी शिक्षाएं शौर्य और साहस के प्रती
3 Recruitment of Teaching Faculty in Ch. Ranbir Singh University (CRSU) Jind 2020 #Haryana 8 Days Remaining for Apply
Recruitment of Teaching Faculty  in CRSU Jind 2020 Online applications are invited for the following Faculty Sarkari Naukri vacancy positions at the levels of Professor and Associate Professors for Direct Recruitment on Regular Basis in Ch. Ranbir Singh University (CRSU), Jind, Haryana in the various subjects/disciplines  (Advertisement No.: 05/2020). Faculty Vacancy Recruitment CRSU Jind 2020 CRSU Jind  Teaching Faculty Recruitment 2020 Vacanc ...
We would love to hear your thoughts, concerns or problems with anything so we can improve our website educratsweb.com ! visit https://forms.gle/jDz4fFqXuvSfQmUC9 and submit your valuable feedback.
Save this page as PDF | Recommend to your Friends

http://educratsweb(dot)com http://educratsweb.com/content.php?id=1060 http://educratsweb.com educratsweb.com educratsweb