educratsweb logo


आस्था का केन्द्र, प्राचीन महावीर मन्दिर।

महावीर मन्दिर, पटना, बिहार, भारत में स्थित भगवान श्री हनुमान जी को समर्पित सबसे पवित्र हिंदू मन्दिरों में से एक है। यह देश के सर्वोत्तम और प्राचीन हनुमान मन्दिरों में से एक है। महावीर मंदीर उत्तर भारत का सबसे प्रसिद्ध मन्दिर है। मन्दिर में हर साल लाखों श्रद्धालु आते हैं। संकट मोचन की प्रतिमा भक्तों के दिल में एक विशेष स्थान रखती है। रामनवमी के पावन अवसर पर अनेक लोग इस मन्दिर में आते हैं।

HANUMAN MANDIR PATNA BIHAR

लाखों भक्तों की आस्था से जुड़ा यह मन्दिर अपने धार्मिक महत्व और मान्यताओं के लिए जाना जाता है। इस मन्दिर के बारे में यह मान्यता है कि, यहां आने वाले हर भक्त की मुराद जरूर पूरी होती है, कोई भी भक्त यहां से खाली हाथ नहीं लौटता है।महावीर मन्दिर में भक्तों के साथ किसी तरह का कोई भेदभाव नहीं किया जाता है।

 

माननीय आचार्य किशोर कुणाल और उनके सहयोगियों के तमाम प्रयासों के बाद इस मन्दिर का निर्माण हुआ। वहीं माननीय आचार्य किशोर कुणाल, महावीर मन्दिर ट्रस्ट के सचिव भी हैं।

महावीर मन्दिर न सिर्फ लाखों श्रद्धालुओं की आस्था का केन्द्र है, बल्कि गरीब (निर्बल) लोगों के उपकार का माध्यम भी है।

मन्दिर को रामानंद संप्रदाय के उच्चतम कैलिबर और बैरागी साधुओं के 'पंडित' (संस्कृत विद्वान) और साथ ही दलित पुजारी मिले हैं, जो सबसे अधिक सद्भा के साथ प्रदर्शन करते हैं।

यहां विराजे श्री हनुमान जी वास्तव में लोगों के संकट हरने वाले हैं, तभी इस मन्दिर में चढ़ने वाला नैवेद्यम भोग और दान पेटी से प्राप्त राशि से गरीब (निर्बल) लोगों का कैंसर का इलाज करवाया जाता है और अन्य जरुरतमंदो की सेवा और परोपकार के कार्य में लगाया जाता है।

इस मन्दिर के ट्रस्ट का नाम श्री महावीर स्थान न्यास समिति है, जो कि उत्तर भारत की सबसे बड़ी धार्मिक न्यास समिति है, यह समिति महावीर कैंसर इंस्टीट्यूट और रिसर्च सेंटर के अलावा, महावीर वात्सल्य हॉस्पिटल, महावीर आयोग्य अस्पताल समेत कई अन्य अस्पताल गरीब (निर्बल) और जरूरतमंद लोगो कें उपकार के लिए संचालित करती है इसके साथ ही यह धार्मिक समिति बिहार के ग्रामीण इलाकों में अनाथालय भी चलाती है।

 

महावीर मन्दिर का विस्तार।

बिना किसी सदस्यता के मन्दिर का पुनर्निर्माण युद्धस्तर पर किया गया। दान स्वेच्छा से आया क्योंकि लोगों को मन्दिर के 'कायाकल्प' से जुड़े व्यक्तियों पर विश्वास था। मन्दिर के पुनर्निर्माण के दौरान आयोजित किए गए 'कार सेवा' में हजारों भक्तों ने भाग लिया।

यह एक ऐसा मन्दिर है जहाँ भक्त निश्चित शुल्क के भुगतान पर अनुष्ठान पूरा करने के लिए सभी सामग्री प्राप्त करते हैं और पुरोहितों को 'दक्षिणा' का भुगतान मन्दिर प्रबंधन द्वारा किया जाता है।

सुबह वाल्मीकि रामायण का पाठ एक दैनिक दिनचर्या है जिसमें सभी महत्वपूर्ण शास्त्रों से नियमित पाठ शामिल हैं।

इसके अलावा इस मन्दिर के परिसर में भगवान राम, श्री कृष्ण भगवान, और दुर्गा माता का भी मन्दिर हैं। इन मन्दिरों में राधा-कृष्ण, राम-सीता, शिव-पार्वती, नंदी, भगवान गणेश समेत तमाम देवी-देवताओं की मूर्तियां स्थापित हैं। इसके अलावा इस मन्दिर के बगल में पीपल का पेड़ भी है, जिसमें भगवान शनिदेव विराजमान हैं।

महावीर मन्दिर धर्म के साथ सहयोग परोपकार में अग्रणी है। दिव्य-अर्पण एवं कर्मकाण्ड के सहयोग से समिति ने पटना में चार चैरिटेबल अस्पताल स्थापित किए हैं और दो उत्तर बिहार में निर्माणाधीन हैं। समिति ने गरीब कैंसर रोगियों के इलाज के लिए 50 लाख प्रदान किए हैं और समाज के वंचित वर्गों और योग्य व्यक्तियों को सहायता के लिए लगभग समान राशि प्रदान किए हैं।

यह पहला धार्मिक ट्रस्ट है जिसने माता-पिता की समर्पित सेवा के लिए श्रवण कुमार अवार्ड की शुरुआत की। प्रथम पुरस्कार के रूप में ₹1,00,000 दूसरा ₹50,000 और तीसरा एक ₹25,000 निर्धारित किया गया है। इसके अलावा, 5,000 के 10 पुरस्कार हैं। प्रत्येक पुरस्कार माता-पिता की समर्पित सेवा के लिए है।

 

महावीर मन्दिर का इतिहास।

महावीर मन्दिर, पटना देश में अग्रणी हनुमान मन्दिरों में से एक है। हज़ारों भक्तों ने श्री हनुमानजी की आराधना और मन्दिर की यात्रा की। यह एक मनोकामना मन्दिर है, जहां भक्तों की हर मनोकामना पूरी होती है, और यह मन्दिर में भक्तों की बढ़ती संख्या का कारण है।

सन् 1948 ईसा पूर्व पटना उच्च न्यायालय ने इसे सार्वजनिक मन्दिर घोषित कर दिया। नए भव्य मन्दिर का विनिर्माण सन् 1983 ईसा पूर्व से सन् 1985 ईसा पूर्व के बीच माननीय आचार्य किशोर कुणाल और उनके भक्तो के योगदान से किया गया था, और वर्तमान में ये देश के विश्व प्रसिद्ध मन्दिरों में से एक है।

मन्दिर में श्री हनुमान जी की दो युग्म प्रतिमाएं एक साथ हैं, पहली परित्राणाय साधूनाम् जिसका अर्थ है अच्छे व्यक्तियों की सुरक्षा के लिए और दूसरी विनाशाय च दुष्कृताम् जिसका अर्थ है दुष्ट व्यक्तियों की बुराई दूर करने के लिए। ये मन्दिर सन् 1900 ईसा पूर्व से रामानंद संप्रदाय के अंतर्गत आता है जबकि सन् 1948 ईसा पूर्व तक गोसाईं सन्यासियों के संप्रदाय के अधीन था।

सन् 1948 ईसा पूर्व पटना उच्च न्यायालय के फैसले के अनुसार मन्दिर अनादि काल से मौजूद है। यह मन्दिर मूल रूप से स्वामी बालानंद द्वारा स्थापित किया गया था।

 

महावीर मन्दिर का निर्माण।

वर्तमान मन्दिर का जीर्णोद्धार 30 नवंबर से 4 मार्च 1985 के बीच हुआ है। मन्दिर का क्षेत्रफल 10 हजार वर्ग फुट क्षेत्रफल में फैला हुआ है। मन्दिर परिसर में आगंतुकों और भक्तों की सभी जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाती है। मन्दिर परिसर में प्रवेश करने के पश्चात बायीं तरफ एक चबूतरे पर सीढ़ियों की श्रृंखला है जो मन्दिर के मुख्य क्षेत्र जिसे गर्भगृह कहा जाता है की ओर जाती है, जहां भगवान हनुमान का गर्भ गृह है। इसके चारों ओर एक गलियारा है जिसमें भगवान शिव जी है।

मन्दिर की पहली मंजिल में देवताओं की चार गर्भगृह है। इनमें से एक भगवन राम का मन्दिर है जहां से इसका प्रारंभ होता है। राम मन्दिर के पास भगवान कृष्ण का चित्रण किया गया है जिसमें वे अर्जुन को धर्मोपदेश दे रहे है। इससे अगला देवी दुर्गा का मन्दिर है। इसके बाद भगवान शिव, ध्यान करती माँ पार्वती और नंदी-पवित्र बैल की मुर्तिया हैं जो लकड़ी के कटघरे में रखी गयी हैं। लकड़ी के कटघरे में शिव जी के ज्योतिर्लिंग को स्थापित किया गया है।

इस मंजिल पर एक अस्थायी राम सेतु है। इस सेतु को कांच के एक पात्र में रखा गया है। इस पत्थर की विशिष्ट भार मात्र 13,000 एमएम है जबकि इसका वजन लगभग 15 किलो है और पानी में तैर रही है जो कि कभी डूबती नहीं है

मन्दिर की दूसरी मंजिल का प्रयोग अनुष्ठान प्रयोजन के लिए किया जाता है। संस्कार मंडप इसी मंजिल पर मौजूद है। यहाँ मंत्रो का उच्चारण, जप, पवित्र ग्रंथो का गायन, सत्यनारायण कथा और अन्य धर्मिक अनुष्ठान किये जाते है। इस मंजिल पर रामायण की विभिन्न दृश्यों का चित्र प्रदर्शन भी किया गया है।

पहली मंजिल पर ध्यान मंडप को पार करने के पश्चात, बायीं ओर मौजूद भगवान गणेश, भगवान बुद्ध, भगवान सत्यनारायण, भगवान राम और सीता और देवी सरस्वती की प्रतिमाएं भक्तो को अपना आशीर्वाद देकर कृतार्थ करते है। इन देवताओं के सामने, पीपल के वृक्ष के नीचे शनि महाराज का मन्दिर है जिसे एक गुफा के आकार का बनाया गया है जो दिखने में बहुत आकर्षक लगता है।

मन्दिर के मुख्य परिसर में एक कार्यालय, धर्मिक वस्तुयों की एक दूकान और किताबो की दुकान है जहां धार्मिक शैली की किताबें मिलती है। इस परिसर में एक ज्योतिषी और हस्तकला केंद्र और मणि पत्थरो का भी केंद्र है जो भक्तो की आवश्कताओं को सही मार्गदर्शन से पूर्ण करता है।

 

महावीर मन्दिर का प्रसाद।

मन्दिर को एक और विशेषता इसके प्रसाद की है, जो पीठासीन देवताओ को अर्पित किया जाता है। प्रसाद के रूप में “नैवेद्यम” दिया जाता है जिसे तिरुपति और आंध्र प्रदेश के विशेषज्ञों द्वारा तैयार किया जाता है।

महावीर मन्दिर का नैवेद्यम लडडुओं का पर्याय है जिसे हनुमान जी को अर्पित किया जाता है। संस्कृत भाषा में नैवेद्यम का अर्थ है देवता के समक्ष खाद्य सामग्री अर्पित करना। इस प्रसाद को तिरुपति के विशेषज्ञों द्वारा तैयार किया जाता है। इस प्रसाद में बेसन का आटा, चीनी, काजू, किशमिश, हरी इलायची, कश्मीरी केसर और अन्य फलेवर डालकर घी में पकाया जाता है और गेंद के आकार में बनाया जाता है।

नैवेद्यम बनाने में प्रयोग की जाने वाली केसर कश्मीर के पंपोर जिले के उत्पादकों से सीधे मंगाई जाती है जिसे कश्मीर में सोने (केसर) की भूमि के नाम से जाना जाता है।

इस मन्दिर से होनेवाली आय से जनहित में महावीर कैंसर संस्थान, महावीर आरोग्य संस्थान, महावीर नेत्रालय, महावीर वात्सल्य अस्पताल संचालित है जहां न्यूनतम शुल्कों पर लोगों का इलाज किया जाता है।

महावीर मन्दिर, पटना, बिहार
Contents shared By educratsweb.com

बिहार में 30 जून तक जारी रहेगा लॉकडाउन, नीतीश सरकार ने केंद्र की गाइडलाइन को किया लागू | Apna Bihar
Published on Sunday May 31 2020
if you have any information regarding Job, Study Material or any other information related to career. you can Post your article on our website. Click here to Register & Share your contents.
For Advertisment or any query email us at educratsweb@gmail.com

RELATED POST
2 दूसरे प्रदेशों में फंसे बिहार के लोगों को लाने के लिए 19 नोडल अधिकारी तैनात
3 संविदा कर्मियों के साथ भेदभाव कर रही सरकार
4 कोरोना महामारी से व्याप्त वैश्विक संकट में बिहार सरकार अपने प्रवासी नागरिकों की सुरक्षा व संरक्षण हेतु दृढ़ संकल्पित है
5 अत्याचार पीड़ित के अधिकार
6 सावधान: बिहार सरकार में बहाली के नाम पर चल रहा है फर्जीवाड़ा, देखभाल कर ही करें आवेदन
7 बिहार दिवसः क्या आप जानते हैं ये पांच बातें, जानें कैसे ट्रेंड में आया ये शब्द
8 बिहार आयें कोरोना से पीड़ित अथवा कोरोना संदिग्ध व्यक्तिओं का पंजीकरण
9 महावीर मन्दिर, पटना, बिहार
10 बिहार में व्यवसाय का प्रारंभ अब आसान। सरकारी जमीन मिलना आप की सोच से भी अधिक आसान। #BiharIndustriesDept #BiharBiyada
11 भ्रष्ट को पकड़ावाओ 5 लाख तक इनाम पाओ - बिहार सरकार
12 आत्मा क्या है ?
13 लॉकडाउन के दौरान Covid 19 ePass के लिए बिहार के वेबसाइट पर ऐसे कर सकते हैं ऑनलाइन आवेदन
14 किसान भाइयों के लिए आवश्यक जानकारी बिहार बागवानी विकास सोसाईटी #BiharAgricultureDept
15 बिहार बजट-2020-21 हेतु आम नागरिकों से सुझाव आमंत्रित हैं। #BiharFinanceDept
16 Contact Details of 19 nodal officers deployed to bring people of Bihar stranded in other states
17 बिहार विद्यालय परीक्षा समति द्वारा सिमुलतला आवासीय विद्यालय, जमुई के कक्षा-VI(सत्र 2020-2021) में नामांकन हेतु दिनांक 30.11.2019 को आयोजित मुख्य प्रवेश परीक्षा,2020 के परीक्षाफल की घोषणा की गई। #BiharEducationDept
18 गाँधी मैदान, पटना में एग्रो बिहार का किया गया समापन, जमकर कृषि यंत्र खरीदे किसान #BiharAgricultureDept
19 अशोक चौधरी कमिटी संविदा कर्मियों के लिए लॉलीपॉप : बिहार संविदा कर्मी महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष
20 बिहार राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण, परिवहन विभाग व एम्स पटना के संयुक्त तत्वावधान में जिला स्तरीय सड़क सुरक्षा कार्यक्रम के तहत छात्र-छात्राओं को जागरूक किया गया। #BiharDisasterManagementDept #BiharStateDisasterManagementDeptAuthority
21 बिहार सरकारी सेवक शिकायत निवारण प्रणाली
22 बिहार कराधान विवाद समाधान योजना दिनांक 15.01.2020 से लागू वाणिज्य-कर विभाग अन्तर्गत GST पूर्व के बकाया समाप्त करने का सुनहरा अवसर #BiharCommercialTaxesDept
23 एग्रो बिहार- 2020 14 से 17 फरवरी राष्ट्रीय कृषि यंत्र प्रदर्शनी-सह-किसान मेला 14 से 17 फरवरी, 2020 #BiharAgricultureDept
24 बिहार राज्य फसल सहायता योजना रबी 2019-20 #BiharCooperativeDept
25 Guru Gobind Singh Prakash Parv: 353 Celebration Of Prakash Utsav - 2 जनवरी को गुरु गोबिंद सिंह का 353 वां प्रकाश पर्व
26 बिहार कुशल युवा प्रोग्राम 2019-20 | ऑनलाइन आवेदन, रजिस्ट्रेशन | Kushal Yuva Program KYP Bihar
27 Guru Gobind Singh Prakash Parv: 353 Celebration Of Prakash Utsav - 2 जनवरी को गुरु गोबिंद सिंह का 353 वां प्रकाश पर्व
28 मुख्यमंत्री राहत कोष , बिहार से आपदा प्रबंधन विभाग , बिहार पटना के माध्यम से मुख्यमंत्री विशेष सहायता अन्तर्गत बिहार से बाहर फसे लोगो को सहायता राशि रु.1000/ - दी जाएगी | इसे प्राप्त करने हेतू नीचे दिए गए लिंक से मोबाइल ऍप कोरोना सहायता बिहार[Bihar Corona Sahayata] डाउनलोड करे तथा अपने बारे में सूचना अंकित करें
29 प्रखंडों में वाहन प्रदूषण जांच खोलने का सुनहरा अवसर परिवहन विभाग, बिहार सरकार #BiharTransportDept
30 बिहार वासी जो #COVID19 महामारी की रोकथाम हेतु किये गए #lockdown के कारण अन्य राज्यों में फंसे हैं
31 बिहार राशन कार्ड सूची | जिलेवार Bihar Ration Card List 2019 | EPDS Bihar अन्तोदय (AAY,PHH) List
32 बिहार मुख्यमंत्री ग्रामीण परिवहन योजना हेतु ऑनलाईन आवेदन करें (4th Phase)
33 बिहार जल-जीवन हरियाली अभियान योजना 2020
34 How to know Pradhan Mantri krishi Samman Nidhi Yojna Application Status Online ?
35 26 दिसम्बर से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जा सकते है बिहार राज्य के सभी आईटी कर्मचारी
36 बिहार के नियोजित प्रारंभिक शिक्षकों के लिए आयोजित प्रारंभिक शिक्षक मूल्यांकन (दक्षता) परीक्षा 2016 का रिजल्ट अब दोबारा घोषित किया जाएगा
37 अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम, १९८९
38 मुख्यमंत्री अत्यंत पिछड़ा वर्ग सिविल सेवा प्रोत्साहन योजना?
39 लड़की के जन्म पर 2000, इंटर करने पर 10 और ग्रेजुएशन पर मिलेंगे 25 हजार रुपए / लड़की के जन्म पर 2000, इंटर करने पर 10 और ग्रेजुएशन पर मिलेंगे 25 हजार रुपए
40 ऑनलाइन FIR कैसे करते है? बिहार पुलिस में ऑनलाइन FIR/Complaint और उसकी पूरी जानकारी | Register FIR Online in Bihar
41 लोक सेवाओं का अधिकार एवं अन्य सेवाएँ
42 बिहार के सरकारी शिक्षकों की छुट्टियों का कैलेंडर हुआ जारी, देखें पूरी लिस्‍ट
43 बिहार वृद्धावस्था पेंशन योजना | मुख्यमंत्री ओल्ड ऐज पेंशन स्कीम पंजीकरण | 1 हजार रुपये मासिक वृद्ध पेंशन योजना | समाज कल्याण विभाग वृद्ध पेंशन सहायता योजना | बिहार सरकार मुख्यमंत्री योजना | Apply for Bihar Old Age Pension Scheme | Vidha Pension Yojana Avedan | Application Form Samaj Kalyan Vibhag | Mukhyamantri Pension Yojana | Bihar Chief Minister Govt Scheme | Social Welfare Dept
44 JHARKHAND GOVERNMENT CALENDAR 2020
45 मुख्यमंत्री अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति उद्यमी योजना
46 स्वास्थ्य विभाग, बिहार सरकार द्वारा सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों के OPD में ईलाज कराना हुआ अब और भी आसान; ईलाज के लिए चिकित्सकों का ऑनलाईन अपॉइंटमेंट एवं पंजीकरण सुविधा प्रारम्भ
47 बिहार में जॉब चाहिए तो जरूर पढ़ें यह खबर, 30 हजार बंपर बहाली की तैयारी में सरकार
48 बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना (Bihar Student Credit Card Yojana)
49 बिहार कैबिनेट ने 8 एजेंडों पर लगाई मुहर, CM ने आंगनबाड़ी सेविकाओं-सहायिकाओं को दिया तोहफा
50 बिहार मुख्यमंत्री वृद्धजन पेंशन योजना हेतु ऑनलाइन आवेदन कैसे करें
51 बिहार राज्य के पिछड़ा वर्ग एवं अति पिछड़ा वर्ग के छात्र-छात्राओं के लिए यू.पी.एस.सी., बी.पी.एस.सी., रेलवे, बैंकिंग, पुलिस, एस.एस.सी. एवं अन्य प्रतियोगिता परीक्षाओं में चयनित होने के लिए परीक्षा पूर्व निःशुल्क प्रशिक्षण प्रदान करने हेतु आवेदन-पत्र का आमंत्रण
We would love to hear your thoughts, concerns or problems with anything so we can improve our website educratsweb.com ! visit https://forms.gle/jDz4fFqXuvSfQmUC9 and submit your valuable feedback.
Save this page as PDF | Recommend to your Friends

http://educratsweb(dot)com http://educratsweb.com/content.php?id=1656 http://educratsweb.com educratsweb.com educratsweb