educratsweb logo


प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज: अब तक की प्रगति

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के तहत 33 करोड़ से भी अधिक गरीबों को 31,235  करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता मिली 10,025  करोड़ रुपये कुल 20.05  करोड़ महिला जन धन खाताधारकों को दिए गए 1405 करोड़ रुपये लगभग 2.82 करोड़ वृद्धों, विधवाओं और दिव्‍यांगजनों को दिए गए पीएम-किसान की पहली किस्त: 16,146  करोड़ रुपये कुल 8 करोड़ किसानों को हस्तांतरित किए गए   ईपीएफ में अंशदान के रूप में 162 करोड़ रुपये 68,775 प्रतिष्ठानों में हस्तांतरित किए गए, 10.6 लाख कर्मचारी लाभान्वित हुए   2.17 करोड़ भवन और निर्माण श्रमिकों को 3497 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता मिली  प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्‍न योजना के तहत 39.27  करोड़ लाभार्थियों को खाद्यान्न का मुफ्त राशन वितरित किया गया 1,09,227 मीट्रिक टन दलहन विभिन्न राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में भेजी गई प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना: 2.66 करोड़ मुफ्त उज्ज्वला सिलेंडर वितरित किए गए
 

डिजिटल भुगतान अवसंरचना का उपयोग करते हुए 33 करोड़ से भी अधिक गरीब लोगों को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज (पीएमजीकेपी) के तहत सीधे तौर पर 31,235 करोड़ रुपये (22 अप्रैल, 2020 तक) की वित्तीय सहायता दी गई है। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज की घोषणा केंद्रीय वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने 26 मार्च, 2020 को कोविड-19 के कारण किए गए लॉकडाउन के प्रभाव से गरीबों को बचाने के लिए की है।


प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के एक हिस्से के रूप में सरकार ने महिलाओं और गरीब वरिष्ठ नागरिकों एवं किसानों को मुफ्त में अनाज देने और नकद भुगतान करने की घोषणा की। इस पैकेज के त्‍वरित कार्यान्वयन पर केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा निरंतर पैनी नजर रखी जा रही है। वित्त मंत्रालय, संबंधित मंत्रालय, मंत्रिमंडलीय सचिवालय और प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) यह सुनिश्चित करने में कोई भी कसर नहीं छोड़ रहे हैं कि राहत के उपाय तेजी से और लॉकडाउन से उत्‍पन्‍न स्थिति के मद्देनजर जरूरतमंदों तक अवश्‍य ही पहुंच जाएं।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के तहत 22 अप्रैल 2020 तक लाभार्थियों को निम्नलिखित वित्तीय सहायता (नकद राशि) जारी की गई है।

 

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज

 

22/04/2020 तक कुल प्रत्यक्ष लाभ हस्‍तांतरण

 

योजना

लाभार्थियों की संख्‍या

हस्‍तांतरित धनराशि

पीएमजेडीवाई महिला खाताधारकों को सहायता

20.05 करोड़ (98%)

10,025 करोड़ रुपये

एनएसएपी के लाभार्थियों (वृद्ध विधवा, दिव्यांगजन और वरिष्ठ नागरिक) को सहायता

2.82 करोड़ (100%)

1405 करोड़ रुपये

‘पीएम-किसान’ के तहत किसानों के खातों में डाली गई धनराशि

8 करोड़ (8 करोड़ में से)

16,146 करोड़ रुपये

भवन और अन्य निर्माण श्रमिकों को सहायता

2.17 करोड़

3497 करोड़ रुपये

ईपीएफओ में 24% योगदान

0.10 करोड़

162 करोड़ रुपये

कुल

33.14  करोड़

31,235 करोड़ रुपये

 

 

फि‍नटेक एवं डिजिटल तकनीक का उपयोग लाभार्थियों को त्‍वरित और सही ढंग से हस्तांतरण करने के लिए किया जाता है। प्रत्यक्ष लाभ अंतरण (डीबीटी), अर्थात हस्‍तांतरण का उपयोग किया जाता है जो यह सुनिश्चित करता है कि राशि सीधे लाभार्थी के खाते में ही जमा हो, धनराशि के कहीं और न जाने (लीकेज) की गुंजाइश ही न रहे तथा इसकी प्रभावकारिता बेहतर हो जाए। इसने लाभार्थी के खाते में धनराशि को सीधे डालना भी सुनिश्चित कर दिया है और इसके लिए लाभार्थी को बैंक शाखा जाने की आवश्यकता नहीं रहती है।

 

पीएमजीकेपी के अन्य घटकों में अब तक की प्रगति इस प्रकार है:

 

  1. प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्‍न योजना  :-

अप्रैल के लिए निर्धारित 40 लाख मीट्रिक टन में से अब तक 40.03  लाख मीट्रिक टन खाद्यान्न का उठाव 36 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा किया जा चुका है। अप्रैल 2020 की पात्रता के रूप में 1.19 करोड़ राशन कार्डों द्वारा कवर किए गए 39.27  करोड़ लाभार्थियों को 19.63  लाख मीट्रिक टन अनाज 31 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा वितरित किए गए हैं।

1,09,227 मीट्रिक टन दलहन भी विभिन्न राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों को भेजी गई है। 

 

  1. प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के लाभार्थियों को मुफ्त में गैस सिलेंडर :-

इस पीएमयूवाई योजना के तहत अब तक कुल 3.05 करोड़ सिलेंडर बुक किए जा चुके हैं और 2.66 करोड़ पीएमयूवाई मुफ्त सिलेंडर पहले ही लाभार्थियों को वितरित किए जा चुके हैं

 

  1. बाकी शेष राशि का 75% गैर-वापसी योग्‍य अग्रिम या 3 माह का वेतन, इनमें से जो भी कम हो, लेने की अनुमति ईपीएफओ के सदस्यों को है:-

ईपीएफओ के 6.06 लाख सदस्यों ने अब तक 1954 करोड़ रुपये की ऑनलाइन निकासी की है।  

 

  1. 3 माह के लिए ईपीएफ अंशदान;  100 कामगारों तक के प्रतिष्ठानों में प्रति माह 15000 रुपये से कम वेतन प्राप्त करने वाले ईपीएफओ सदस्यों के योगदान के रूप में वेतन के 24% का भुगतान।

अप्रैल, 2020 हेतु इस योजना के लिए ईपीएफओ को 1000 करोड़ रुपये की राशि पहले ही जारी की जा चुकी है। 78.74 लाख लाभार्थियों और संबंधित प्रतिष्ठानों को सूचित कर दिया गया है। घोषणा को लागू करने के लिए एक योजना को अंतिम रूप दे दिया गया। प्राय: पूछे जाने वाले प्रश्न वेबसाइट पर उपलब्‍ध हैं।

 कुल 10.6 लाख कर्मचारी अब तक लाभान्वित हुए हैं और 68,775 प्रतिष्ठानों में कुल 162.11 करोड़ रुपये हस्तांतरित किए गए हैं।

 

  1. मनरेगा:-

बढ़ी हुई मजदूरी दर को अधिसूचित कर दिया गया है जो 01 अप्रैल 2020 से प्रभावी है। चालू वित्त वर्ष में 1.27 करोड़ कार्य-दिवस सृजित हुए। इसके अलावा, मजदूरी और सामग्री दोनों के लंबित बकाये को समाप्त करने के लिए राज्यों को 7300 करोड़ रुपये जारी किए गए।

 

  1. सरकारी अस्पतालों और स्वास्थ्य देखभाल केंद्रों में स्वास्थ्य कर्मचारियों के लिए बीमा योजना:-

योजना का संचालन न्यू इंडिया एश्योरेंस द्वारा किया गया है जिसमें 22.12 लाख स्वास्थ्य कर्मचारियों को कवर किया गया है

 

  1. किसानों को सहायता :-

कुल वितरित राशि में से 16,146 करोड़ रुपये पीएम-किसान की पहली किस्त के भुगतान में लगाए गए हैं। योजना के तहत 8 करोड़ चिन्हित लाभार्थियों में से सभी 8 करोड़ के खातों में 2,000-2,000 रुपये सीधे डाले गए हैं।

 

  1. पीएमजेडीवाई महिलाओं खाताधारकों को सहायता:-

चूंकि भारत में बड़ी संख्या में घरों का प्रबंधन मुख्‍यत: महिलाओं द्वारा ही किया जाता है, इसलिए पैकेज के तहत 20.05 करोड़ महिला जन धन खाताधारकों को अपने खाते में 500-500 रुपये प्राप्त हुए22 अप्रैल, 2020 तक इस मद में कुल वितरण 10,025 करोड़ रुपये का हुआ।  

 

  1. वृद्धों, विधवाओं और दिव्‍यांगजनों को सहायता:-

 

राष्ट्रीय सामाजिक सहायता कार्यक्रम (एनएसएपी) के तहत लगभग 2.82 करोड़ वृद्धों, विधवाओं और दिव्‍यांगजनों को तकरीबन 1,405 करोड़ रुपये वितरित किए गए। प्रत्येक लाभार्थी को इस योजना के तहत पहली किस्त के रूप में 500 रुपये की अनुग्रह राशि प्राप्त हुई। 500-500 रुपये की एक और किस्त का भुगतान अगले महीने किया जाएगा।

 

  1. भवन और अन्य निर्माण श्रमिकों को सहायता:-

2.17 करोड़ भवन एवं निर्माण श्रमिकों को राज्य सरकारों द्वारा प्रबंधित भवन और निर्माण श्रमिक कोष से वित्तीय सहायता मिली। इसके तहत लाभार्थियों को 3,497 करोड़ रुपये दिए गए हैं।

Sources https://pib.gov.in/newsite/PrintHindiRelease.aspx?relid=89674

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज: अब तक की प्रगति
educratsweb.com

Posted by: educratsweb.com

I am owner of this website and bharatpages.in . I Love blogging and Enjoy to listening old song. ....
Enjoy this Author Blog/Website visit http://twitter.com/bharatpages

if you have any information regarding Job, Study Material or any other information related to career. you can Post your article on our website. Click here to Register & Share your contents.
For Advertisment or any query email us at educratsweb@gmail.com

RELATED POST
1. PF Advance Form 31 Rules In Hindi – Online PF Kaise Nikale
  बहुत से EPF मेंबर को शायद यह पता ना हो कि जरूरत पड़ने पर आप अपने जमा पीएफ में से एडवांस के तौर पर कुछ पैसे निकाल सकते हैं और वह भी नौकरी जा
2. PM Modi Yojana 2020
PM Modi Yojana के अंतर्गत भारत सरकार विभिन्न प्रकार की सरकारी योजनाओं को देश के सभी लाभार्थियों तक पहुंचा रही है।  बीते वर्ष प्रधानमंत्री बनने के पश्चात हमारे श्री माननीय नरेंद्र मोदी जी के द्
3. FM launches facility of Instant PAN through Aadhaar based e-KYC
FM launches facility of Instant PAN through Aadhaar based e-KYC In line with the announcement made in the Union Budget, Union Minister for Finance & Corporate Affairs Smt. Nirmala Sitharaman formally launched the facility for instant allotment of PAN (on near to real time basis) here today. This facility is now available for those PAN applicants who possess a valid Aadhaar number and have a mobile number registered with Aadhaar. The allotment process is paperless and an e
4. प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज: अब तक की प्रगति
प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज: अब तक की प्रगति प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के तहत 33 करोड़ से भी अधिक गरीबों को 31,235  करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता मिली 10,025  करोड़ रुपये कुल 20.05  क
5. Cane UP Status at www.caneup.in Website Online 2020
गन्ना उद्योग /Cane Production In UP आज दुनिया की लगभग 50% चीनी उत्तर प्रदेश से आती है क्योंकि UP is well known for Cane UP Production गन्ना के शीर्ष उत्पादक भारत और ब्राजील में हैं। यह बड़ा व्यवसाय है क्योंकि दु
6. ग्रामीण डाक सेवक (GDS) कैसे बने ?
भारतीय डाक विभाग (Indian Post Office) लगभग 150 साल से सेवाएं प्रदान कर रहा है। । यह देश की सबसे उन्नत व्यवस्था में से एक है । बड़े से बड़े शहरो और छोटे-छोटे गांव तक इस सेवा को पहुंचाने के लिए ग्रामीण डाक सेवक की श
7. प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना ऑनलाइन आवेदन
प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना ऑनलाइन आवेदन के अंतर्गत केंद्र सरकार ग्रामीण क्षेत्रों के आर्थिक कमजोर वर्ग के पिछड़े परिवारों को PMAY Gramin YOjana के अंतर्गत पक्के मकान बनाने के लिए आर्थिक सहाय
8 बिहार तकनीकी सेवा आयोग | आयुष चिकित्सा पदाधिकारी की नियुक्ति हेतु विज्ञापान #Bihar 0 Days Remaining for Apply
बिहार तकनीकी सेवा आयोग | आयुष चिकित्सा पदाधिकारी की नियुक्ति हेतु विज्ञापान बिहा ...
We would love to hear your thoughts, concerns or problems with anything so we can improve our website educratsweb.com ! visit https://forms.gle/jDz4fFqXuvSfQmUC9 and submit your valuable feedback.
Save this page as PDF | Recommend to your Friends

http://educratsweb(dot)com http://educratsweb.com/content.php?id=1852 http://educratsweb.com educratsweb.com educratsweb