MANN KI BAAT HIGHLIGHTS: PM मोदी को उम्मीद- अगले 'मन की बात' तक दुनिया में कोरोना से राहत की ख़बर आए #EDUCRATSWEB - Know more visit http://educratsweb.com/content.php?id=1874” />

educratsweb logo


मन की बात 2.0’ की 11वीं कड़ी में प्रधानमंत्री के सम्बोधन का मूल पाठ (26.04.2020)

मेरे प्यारे देशवासियो, नमस्कार। आप सब lockdown में इस ‘मन की बात’ को सुन रहे हैं। इस ‘मन की बात’ के लिये आने वाले सुझाव, phone call की संख्या, सामान्य रूप से कई गुणा ज्यादा है। कई सारे विषयों को अपने अन्दर समेट, आपकी यह मन की बातें, मेरे तक, पहुँची हैं। मैंने कोशिश की है, कि, इनको ज्यादा-से-ज्यादा पढ़ पाऊँ, सुन पाऊँ। आपकी बातों से कई ऐसे पहलू जानने को मिले हैं, जिनपर, इस आपा-धापी में ध्यान ही नहीं जाता है। मेरा मन करता है, कि, युद्ध के बीच हो रही इस ‘मन की बात’ में, उन्हीं कुछ पहलुओं को, आप सभी देशवासियों के साथ बाटूँ।

 

साथियो, भारत की CORONA के खिलाफ़ लड़ाई सही मायने में  people driven है। भारत में CORONA के खिलाफ़ लड़ाई जनता लड़ रही है, आप लड़ रहे हैं, जनता के साथ मिलकर शासन, प्रशासन लड़ रहा है। भारत जैसा विशाल देश, जो विकास के लिए प्रयत्नशील है, ग़रीबी से निर्णायक लड़ाई लड़ रहा है। उसके पास, CORONA से लड़ने और जीतने का यही एक तरीका है। और, हम भाग्यशाली हैं कि, आज, पूरा देश, देश का हर नागरिक, जन-जन, इस लड़ाई का सिपाही है, लड़ाई का नेतृत्व कर रहा है। आप कहीं भी नज़र डालिये, आपको एहसास हो जायेगा कि भारत की लड़ाई people driven है। जब पूरा विश्व इस महामारी के संकट से जूझ रहा है। भविष्य में जब इसकी चर्चा       होगी, उसके तौर-तरीकों की चर्चा होगी, मुझे विश्वास है कि भारत की यह people driven लड़ाई, इसकी ज़रुर चर्चा होगी। पूरे देश में, गली-मोहल्लों में, जगह-जगह पर, आज लोग एक-दूसरे की सहायता के लिए आगे आये हैं। ग़रीबों के लिए खाने से लेकर, राशन की व्यवस्था हो, lockdown का पालन हो, अस्पतालों की व्यवस्था हो, medical equipment का देश में ही निर्माण हो - आज पूरा देश, एक लक्ष्य, एक दिशा, साथ-साथ चल रहा है। ताली, थाली, दीया, मोमबत्ती, इन सारी चीज़ों ने जो भावनाओं को जन्म दिया। जिस ज़ज्बे से देशवासियों ने, कुछ-न-कुछ करने की ठान ली - हर किसी को इन बातों ने प्रेरित किया है। शहर हो या गाँव, ऐसा लग रहा है, जैसे देश में एक बहुत बड़ा महायज्ञ चल रहा है, जिसमें, हर कोई अपना योगदान देने के लिये आतुर है। हमारे किसान भाई-बहनों को ही देखिये – एक तरफ, वो, इस महामारी के बीच अपने खेतों में दिन-रात मेहनत कर रहे हैं और इस बात की भी चिंता कर रहे हैं कि देश में कोई भी भूखा ना सोये। हर कोई, अपने सामर्थ्य के हिसाब से, इस लड़ाई को लड़ रहा है। कोई किराया माफ़ कर रहा है, तो कोई अपनी पूरी पेंशन या पुरस्कार में मिली राशि को, PM CARES  में जमा करा रहा है। कोई खेत की सारी सब्जियाँ दान दे रहा है, तो कोई, हर रोज़ सैकड़ों ग़रीबों को मुफ़्त भोजन करा रहा है। कोई mask बना रहा है, कहीं हमारे मजदूर भाई-बहन quarantine में रहते हुए, जिस school में रह रहे हैं, उसकी रंगाई-पुताई कर रहे हैं।

 

    साथियो, दूसरों की मदद के लिए, आपके भीतर, ह्रदय के किसी कोने में, जो ये उमड़ता-घुमड़ता भाव है ना ! वही, वही CORONA के खिलाफ, भारत की इस लड़ाई को ताकत दे रहा है, वही, इस लड़ाई को सच्चे मायने में people driven बना रहा है और हमने देखा है, पिछले कुछ साल में, हमारे देश में, यह मिज़ाज बना है, निरंतर मज़बूत होता रहा है। चाहे करोड़ों लोगों का gas subsidy छोड़ना हो, लाखों senior citizen का railway subsidy छोड़ना हो, स्वच्छ भारत अभियान का नेतृत्व लेना हो, toilet बनाने हो - अनगिनत बातें ऐसी हैं। इन सारी बातों से पता चलता है - हम सबको - एक मन, एक मजबूत धागे से पिरो दिया है। एक होकर देश के लिए कुछ करने की प्रेरणा दी है।

   

मेरे प्यारे देशवासियो, मैं पूरी नम्रतापूर्वक, बहुत ही आदर के साथ, आज, 130 करोड़ देशवासियों की इस भावना को, सर झुका करके, नमन करता हूँ। आप, अपनी भावना के अनुरूप, देश के लिए अपनी रूचि के हिसाब से, अपने समय के अनुसार, कुछ कर सके, इसके लिए सरकार ने एक Digital Platform भी तैयार किया है। ये platform है – covidwarriors.gov.in। मैं दोबारा बोलता हूँ - covidwarriors.gov.in। सरकार ने इस platform के माध्यम से तमाम सामाजिक संस्थाओं के Volunteers, Civil Society के प्रतिनिधि और स्थानीय प्रशासन को एक-दूसरे से जोड़ दिया है। बहुत ही कम समय में, इस portal से सवा-करोड़ लोग जुड़ चुके हैं। इनमें Doctor, Nurses से लेकर हमारी ASHA, ANM बहनें, हमारे NCC, NSS के साथी, अलग-अलग field के तमाम professionals, उन्होंने, इस platform को, अपना platform बना लिया है। ये लोग स्थानीय स्तर पर crisis management plan बनाने वालों में और उसकी पूर्ति में भी बहुत मदद कर रहें हैं। आप भी covidwarriors.gov.in से जुड़कर, देश की सेवा कर सकते हैं, Covid Warrior बन सकते हैं।

    साथियो, हर मुश्किल हालात, हर लड़ाई, कुछ-न-कुछ सबक देती है, कुछ-न-कुछ सिखा करके जाती है, सीख देती है। कुछ संभावनाओं के मार्ग बनाती है और कुछ नई मंजिलों की दिशा भी देती है। इस परिस्थिति में आप सब देशवासियों ने जो संकल्प शक्ति दिखाई है, उससे, भारत में एक नए बदलाव की शुरुआत भी हुई है। हमारे Business, हमारे दफ्तर, हमारे शिक्षण संस्थान, हमारा Medical Sector, हर कोई, तेज़ी से, नये तकनीकी बदलावों की तरफ भी बढ़ रहें हैं। Technology के front  पर तो वाकई ऐसा लग रहा है कि देश का हर innovator नई परिस्तिथियों के मुताबिक कुछ-न-कुछ नया निर्माण कर रहा है।

 

    साथियो, देश जब एक team बन करके काम करता है, तब क्या कुछ होता है - ये हम अनुभव कर रहें हैं। आज केन्द्र सरकार हो, राज्य सरकार हो, इनका हर एक विभाग और संस्थान राहत के लिए मिल-जुल करके पूरी speed से काम कर रहे हैं।  हमारे Aviation Sector में काम कर रहे लोग हों, Railway कर्मचारी हों, ये दिन-रात मेहनत कर रहें हैं, ताकि, देशवासियों को कम-से-कम समस्या हो। आप में से शायद बहुत लोगों को मालूम होगा कि देश के हर हिस्से में दवाईयों को पहुँचाने के लिए ‘Lifeline Udan (लाइफ-लाइन उड़ान)’ नाम से एक विशेष अभियान चल रहा है। हमारे इन साथियों ने, इतने कम समय में, देश के भीतर ही, तीन लाख किलोमीटर की हवाई उड़ान भरी है और 500 टन से अधिक Medical सामग्री, देश के कोने-कोने में आप तक पहुँचाया है। इसी तरह, Railway के साथी, Lockdown में भी लगातार मेहनत कर रहें हैं, ताकि देश के आम लोगों को, जरुरी वस्तुओं की कमी न हो। इस काम के लिए भारतीय रेलवे करीब-करीब 60 से अधिक रेल मार्ग पर 100 से भी ज्यादा parcel train चला रही है। इसी तरह दवाओं की आपूर्ति में, हमारे डाक विभाग के लोग, बहुत अहम भूमिका निभा रहें हैं। हमारे ये सभी साथी, सच्चे अर्थ में, कोरोना के warrior ही हैं।

 

साथियो, ‘प्रधानमंत्री ग़रीब कल्याण पैकेज़’ के तहत, ग़रीबों के Account में पैसे, सीधे transfer किए जा रहे हैं। ‘वृद्धावस्था पेंशन’ जारी की गई है। गरीबों को तीन महीने के मुफ़्त गैस सिलेंडर, राशन जैसी सुविधायें भी दी जा रही हैं। इन सब कामों में, सरकार के अलग-अलग विभागों के लोग, बैंकिंग सेक्टर के लोग, एक team की तरह दिन-रात काम कर रहे हैं। और मैं, हमारे देश की राज्य सरकारों की भी इस बात के लिए प्रशंसा करूँगा कि वो इस महामारी से निपटने में बहुत सक्रिय भूमिका निभा रही हैं। स्थानीय प्रशासन, राज्य सरकारें जो जिम्मेदारी निभा रही हैं, उसकी, कोरोना के खिलाफ़ लड़ाई में बहुत बड़ी भूमिका है। उनका ये परिश्रम बहुत प्रशंसनीय है।

 

मेरे प्यारे देशवासियो, देशभर से स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े लोगों ने, अभी हाल ही में जो अध्यादेश लाया गया है, उस पर अपना संतोष व्यक्त किया है।  इस अध्यादेश में, कोरोना warriors के साथ हिंसा, उत्पीड़न और उन्हें किसी रूप में चोट पहुचाने वालों के खिलाफ़ बेहद सख्त़ सज़ा का प्रावधान किया गया है। हमारे डॉक्टर, Nurses , para-medical staff, Community Health Workers और ऐसे सभी लोग, जो देश को ‘कोरोना-मुक्त’ बनाने में दिन-रात जुटे हुए हैं,उनकी रक्षा करने के लिए ये कदम बहुत ज़रुरी था।

मेरे प्यारे देशवासियों, हम सब अनुभव कर रहे हैं कि महामारी के खिलाफ़, इस लड़ाई के दौरान हमें अपने जीवन को, समाज को, हमारे आप-पास हो रही घटनाओं को, एक fresh नज़रिए से देखने का अवसर भी मिला है। समाज के नज़रिये में भी व्यापक बदलाव आया है। आज अपने जीवन से जुड़े हर व्यक्ति की अहमियत का हमें आभास हो रहा है। हमारे घरों में काम करने वाले लोग हों, हमारी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए काम करने वाले हमारे सामान्य कामगार हों, पड़ोस की दुकानों में काम करने वाले लोग हों, इन सबकी कितनी बड़ी भूमिका है - हमें यह अनुभव हो रहा है। इसी तरह, ज़रुरी सेवाओं की delivery करने वाले लोग, मंडियों में काम करने वाले हमारे मज़दूर भाई-बहन, हमारे आस-पड़ोस के ऑटो-चालक, रिक्शा-चालक - आज हम अनुभव कर रहे हैं कि इन सब के बिना हमारा जीवन कितना मुश्किल हो सकता है।

 

आज कल Social Media में हम सबलोग लगातार देख रहे हैं कि  LOCKDOWN के दौरान, लोग अपने इन साथियों को न सिर्फ़ याद कर रहे है, उनकी ज़रूरतों का ध्यान रख रहे हैं, बल्कि उनके बारे में, बहुत सम्मान से लिख भी रहे हैं। आज, देश के हर कोने से ऐसी तस्वीरे आ रही हैं कि लोग सफाई-कर्मियों पर पुष्प-वर्षा कर रहे हैं। पहले, उनके काम को संभवतः आप भी कभी notice नहीं करते थे। डॉक्टर हों, सफाईकर्मी हों, अन्य सेवा करने वाले लोग हों - इतना ही नहीं, हमारी पुलिस-व्यवस्था को लेकर भी आम लोगों की सोच में काफ़ी बदलाव हुआ है। पहले पुलिस के विषय में सोचते ही नकारात्मकता के सिवाय, हमें कुछ नज़र नहीं आता था। हमारे पुलिसकर्मी आज ग़रीबों, ज़रुरतमंदो को खाना पंहुचा रहे हैं, दवा पंहुचा रहे हैं। जिस तरह से हर मदद के लिए पुलिस सामने आ रही है इससे POLICING का मानवीय और संवेदनशील पक्ष हमारे सामने उभरकर के आया है, हमारे मन को झकझोर दिया है, हमारे दिल को छू लिया है। एक ऐसा अवसर है जिसमें आम-लोग, पुलिस से भावात्मक तरीक़े से जुड़ रहे हैं। हमारे पुलिसकर्मियों ने, इसे जनता की सेवा के एक अवसर के रूप में लिया है और मुझे पूरा विश्वास है - इन घटनाओं से, आने वाले समय में, सच्चे अर्थ में, बहुत ही सकारात्मक बदलाव आ सकता है और हम सबने इस सकारात्मकता को कभी भी नकारात्मकता के रंग से रंगना नहीं है।

 

साथियो, हम अक्सर सुनते हैं – प्रकृति, विकृति और संस्कृति, इन शब्दों को एक साथ देखें और इसके पीछे के भाव को देखें तो आपको जीवन को समझने का भी एक नया द्वार खुलता हुआ दिखेगा। अगर, मानव- प्रकृति की चर्चा करें तो ‘ये मेरा है’, ‘मैं इसका उपयोग करता हूँ’ इसको और इस भावना को, बहुत स्वाभाविक माना जाता है। किसी को इसमें कोई ऐतराज़ नहीं होता। इसे हम ‘प्रकृति’ कह सकते हैं। लेकिन ‘जो मेरा नहीं है’, ‘जिस पर मेरा हक़ नहीं है’ उसे मैं दूसरे से छीन लेता हूँ, उसे छीनकर उपयोग में लाता हूँ तब हम इसे ‘विकृति’ कह सकते हैं। इन दोनों से परे, प्रकृति और विकृति से ऊपर, जब कोई संस्कारित-मन सोचता है या व्यवहार करता है तो हमें ‘संस्कृति’ नज़र आती है। जब कोई अपने हक़ की चीज़, अपनी मेहनत से कमाई चीज़, अपने लिए ज़रूरी चीज़, कम हो या अधिक, इसकी परवाह किये बिना, किसी व्यक्ति की ज़रूरत को देखते हुए, खुद की चिंता छोड़कर, अपने हक़ के हिस्से को बाँट करके किसी दूसरे की ज़रुरत पूरी करता है - वही तो ‘संस्कृति’ है। साथियो, जब कसौटी का काल होता है, तब इन गुणों का परीक्षण होता है|                              

   

आपने पिछले दिनों देखा होगा, कि, भारत ने अपने संस्कारो के अनुरूप, हमारी सोच के अनुरूप, हमारी संस्कृति का निर्वहन करते हुए कुछ फ़ैसले लिए हैं। संकट की इस घड़ी में, दुनिया के लिए भी, समृद्ध  देशों के लिए भी, दवाईयों का संकट बहुत ज्यादा रहा है। एक ऐसा समय है की अगर भारत दुनिया को दवाईयां न भी दे तो कोई भारत को दोषी नहीं मानता। हर देश समझ रहा है कि भारत के लिए भी उसकी प्राथमिकता अपने नागरिकों का जीवन बचाना है। लेकिन साथियो,  भारत ने, प्रकृति, विकृति की सोच से परे होकर फैसला लिया। भारत ने अपने संस्कृति के अनुरूप फैसला लिया। हमने भारत की आवश्यकताओं के लिए जो करना था, उसका प्रयास तो बढ़ाया ही, लेकिन, दुनिया-भर से आ रही मानवता की रक्षा की पुकार पर भी, पूरा-पूरा ध्यान दिया। हमने विश्व के हर जरूरतमंद तक दवाइयों को पहुँचाने का बीड़ा उठाया और मानवता के इस काम को करके दिखाया। आज जब मेरी अनेक देशों के राष्ट्राध्यक्षों से फ़ोन पर बात होती है तो वो भारत की जनता का आभार जरुर व्यक्त करते है। जब वो लोग कहते हैं  ‘Thank You India , Thank You People of India’  तो देश के लिए गर्व और बढ़ जाता है। इसी तरह इस समय दुनिया-भर में भारत के आयुर्वेद और योग के महत्व को भी लोग बड़े विशिष्ट-भाव से देख रहे हैं। Social Media पर देखिये, हर तरफ immunity बढ़ाने के लिए, किस तरह से, भारत के आयुर्वेद और योग की चर्चा हो रही है। कोरोना की दृष्टि से, आयुष मंत्रालय ने immunity बढ़ाने के लिए जो protocol दिया था, मुझे विश्वास है कि आप लोग, इसका प्रयोग, जरुर कर रहे होंगे। गर्म पानी, काढ़ा और जो अन्य दिशा-निर्देश, आयुष मंत्रालय ने जारी किये हैं, वो, आप अपनी दिनचर्या में शामिल करेगें तो आपको बहुत लाभ होगा।

 

साथियो, वैसे ये दुर्भाग्य रहा है कि कई बार हम अपनी ही शक्तियाँ और समृद्ध परम्परा को पहचानने से इंकार कर देते हैं। लेकिन, जब विश्व का कोई दूसरा देश, evidence based research के आधार पर वही बात करता है। हमारा ही formula हमें सिखाता है  तो हम उसे हाथों-हाथ ले लेते हैं। संभवत:, इसके पीछे एक बहुत बड़ा कारण - सैकड़ों वर्षों की हमारी गुलामी का कालखंड रहा है। इस वजह से कभी-कभी, हमें, अपनी ही शक्ति पर विश्वास नहीं होता है। हमारा आत्म-विश्वास कम नज़र आता है। इसलिए, हम अपने देश की अच्छी बातों को, हमारे पारम्परिक सिद्दांतों को, evidence based research के आधार पर, आगे बढ़ाने के बजाय उसे छोड़ देते हैं, उसे, हीन समझने लगते हैं। भारत की युवा-पीढ़ी को, अब इस चुनौती को स्वीकार करना होगा। जैसे, विश्व ने योग को सहर्ष स्वीकार किया है, वैसे ही, हजारों वर्षों पुराने, हमारे आयुर्वेद के सिद्दांतों को भी विश्व अवश्य स्वीकार करेगा। हाँ! इसके लिए युवा-पीढ़ी को संकल्प लेना होगा और दुनिया जिस भाषा में समझती है उस वैज्ञानिक भाषा में हमें समझाना होगा, कुछ करके दिखाना होगा।

 

साथियो, वैसे covid-19 के कारण कई सकारात्मक बदलाव, हमारे काम करने के तरीके, हमारी जीवन-शैली और हमारी आदतों में भी स्वाभाविक रूप से अपनी जगह बना रहे हैं। आपने सबने भी महसूस किया होगा, इस संकट ने, कैसे अलग-अलग विषयों पर, हमारी समझ और हमारी चेतना को जागृत किया है। जो असर, हमें अपने आस-पास देखने को मिल रहे हैं, इनमें सबसे पहला है – mask पहनना और अपने चेहरे को ढ़ककर रखना। कोरोना की वजह से, बदलते हुए हालत में, mask भी, हमारे जीवन का हिस्सा बन रहा है। वैसे, हमें इसकी भी आदत कभी नहीं रही कि हमारे आस-पास के बहुत सारे लोग mask में दिखें, लेकिन, अब हो यही रहा है। हाँ! इसका ये मतलब नहीं है, जो mask लगाते हैं वे सभी बीमार हैं। और, जब मैं  mask की बात करता हूँ, तो, मुझे पुरानी बात याद आती हैं। आप सबको भी याद होगा। एक जमाना था, कि, हमारे देश के कई ऐसे इलाके होते थे, कि, वहाँ अगर कोई नागरिक फल खरीदता हुआ दिखता था तो आस-पड़ोस के लोग उसको जरुर पूछते थे – क्या घर में कोई बीमार है? यानी, फल – मतलब, बीमारी में ही खाया जाता है - ऐसी एक धारणा बनी हुई थी। हालाँकि, समय बदला और ये धारणा भी बदली। वैसे ही mask को लेकर भी धारणा अब बदलने वाली ही है। आप देखियेगा, mask, अब सभ्य-समाज का प्रतीक बन जायेगा। अगर, बीमारी से खुद को बचना है, और, दूसरों को भी बचाना है, तो, आपको mask लगाना पड़ेगा, और, मेरा तो simple सुझाव रहता है – गमछा, मुहँ ढ़कना है।

   

साथियो, हमारे समाज में एक और बड़ी जागरूकता ये आयी है कि अब सभी लोग ये समझ रहे हैं कि सार्वजनिक स्थानों पर थूकने के क्या नुकसान हो सकते हैं। यहाँ-वहाँ, कहीं पर भी थूक देना, गलत आदतों का हिस्सा बना हुआ था। ये स्वच्छता और स्वास्थ्य को गंभीर चुनौती भी देता था। वैसे एक तरह से देखें तो हम हमेशा से ही इस समस्या को जानते रहें हैं, लेकिन, ये समस्या, समाज से समाप्त होने का नाम ही नहीं ले रही थी - अब वो समय आ गया है, कि इस बुरी आदत को, हमेशा-हमेशा के लिए ख़त्म कर दिया जाए। कहते भी हैं

>Mann Ki Baat Highlights: PM मोदी को उम्मीद- अगले 'मन की बात' तक दुनिया में कोरोना से राहत की ख़बर आए
Contents shared By educratsweb.com

if you have any information regarding Job, Study Material or any other information related to career. you can Post your article on our website. Click here to Register & Share your contents.
For Advertisment or any query email us at educratsweb@gmail.com

RELATED POST
1. Text of PM’s address at inauguration of Rashtriya Swachhata Kendra
2. अब संविदाकर्मियों को 90 प्रतिशत वेतनमान
3. नई शिक्षा नीति 2020: बोर्ड परीक्षाओं का तनाव खत्म होगा, 10वीं एवं 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं को आसान बनाने का ऐलान
4. Text of PM's address at the launch of High Throughput COVID-19 testing facilities at 3 ICMR Labs
5. Text of PM address to Indian Armed Forces in Leh, India
6. PM greets people on the occasion of Raksha Bandhan
7. PM pays tributes to Dr. Syama Prasad Mukherjee on his Punya Tithi
8. PM greets people on the occasion of Rath Yatra
9. प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि केन्द्रों पर सैनिटरी नैपकिन 1 रूपए प्रति पैड की कीमत पर उपलब्ध
10. राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (एनटीए)ने जुलाई - 2020 में होने वाली राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट-यूजी) स्थगित किए जाने कीखबर को कोरी अफवाह बताते हुए इसपर स्पष्टीकरण जारी किया है
11. 20-07-2020 Program Information of (Cufa Educational & Welfare Society) NGO
12. कोरोना योद्धा की संक्रमण से हुई मौत तो आश्रितों को मिलेंगे 50 लाख
13. सीआईएमएपी ने औषधीय और सुगंधित पौधों पर फोटोग्राफी प्रतियोगिता की घोषणा की प्रतियोगिता का विषय है – ‘अपने औषधीय और सुगंधित पौधे (एमएपी) को जानें’
14. सीबीआईसी ने सभी सीजीएसटी और सीमा शुल्क कार्यालयों में ‘ई-ऑफिस’ का उपयोग शुरू कर दिया है  
15. भारतीय रेलवे ने सहायक लोको पायलट (एएलपी) और तकनीशियनों की भर्ती का काम सफलतापूर्वक पूरा किया। यह दुनिया भर में सबसे बड़ी नियुक्ति प्रक्रियाओं में से एक है
16. भारतीय रेलवे द्वारा 22.03.2020 से 10.06.2020 तक कुल 3,897 पार्सल ट्रेनें के जरिये कुल 1,39,196 टन माल की ढुलाई की है
17. भारत मौसम विज्ञान विभाग ने मई 2020 के लिए मौसम की स्थिति और उसका सत्यापन और अगले चार सप्ताह (05 जून से 02 जुलाई 2020) के लिए परिदृश्‍य को जारी किया
18. जांच क्षमता में उल्लेखनीय बढ़ोतरी, प्रतिदिन क्षमता तीन लाख हुई
19. अमीबायसिस (अमीबा की वजह से हुई बीमारी से संक्रमण) की नई दवा जल्द आएगी
20. सरकार व्‍यावसायिक कोयला खनन के लिए 18 जून 2020 को नीलामी शुरू करेगी
21. PM greets people on Mahesh Navami
22. कोविड-19 के खिलाफ कार्यस्थलों की तैयारी के आकलन के लिए नया उपकरण
23. दिनांक 21 जून 2020 (31 ज्येष्ठ, शक संवत 1942) को वलयाकार सूर्य ग्रहण घटित होगा
24. कोविड-19 से जुड़े शोध को बढ़ावा देने के लिए नई साझेदारी
25. ईपीएफओ ने पेंशनभोगियों के लिए जीवन प्रमाण के संचालन हेतु सीएससी नेटवर्क को सक्रिय किया
26. सरकार ने देश में विदेशी जीवित प्रजातियों के आयात और इसके रख-रखाव की प्रक्रिया को कारगर बनाने के लिए परामर्श जारी किये
27. खेल मंत्रालय ओलंपिक खेलों में भारत के प्रदर्शन को बेहतर बनाने के लिए खेलो इंडिया स्टेट सेंटर्स ऑफ एक्सीलेंस (केआईएससीई) की स्थापना करेगा : किरेन रिजिजू
28. केंद्रीय जल शक्ति मंत्री ने त्रिपुरा के मुख्यमंत्री को राज्य में जल जीवन मिशन के कार्यान्वयन के लिए पत्र लिखा
29. अंतरराष्ट्रीय योग दिवस (आईडीवाई) पर प्रधानमंत्री के विचारों का होगा प्रसारण
30. स्कूली छात्रों के लिए इसरो कर रहा है प्रतियोगिताओं का आयोजन
31. आयुष मंत्रालय ‘घर पर योग, परिवार के साथ योग’ अभियान के जरिए अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2020 मनाने के लिए पूरी तरह से तैयार
32. मुख्यमंत्रियों के साथ संवाद के दौरान प्रधानमंत्री का प्रारंभिक वक्तव्य
33. 69 हजार भर्ती: आर्थिक रूप से पिछड़ों के आरक्षण पर जवाब मांगा
34. IFLOWS- Mumbai को मुंबई शहर के लिए अत्‍याधुनिक एकीकृत बाढ़ चेतावनी प्रणाली के रूप में विकसित किया गया है
35. केरल ने एससीटीआईएमएसटी के साथ मिलकर आईओटी (इंटरनेट ऑफ थिंग्स) आधारित मास्क डिस्पोजल और कोविड के खात्मे के लिए और यूवी डिस्इनफेक्शन को लॉन्च किया
36. देश के गांवों में आजीविका के अवसरों को बढ़ाने के लिए पीएम मोदी 20 जून को गरीब कल्याण रोजगार अभियान की शुरुआत करेंगे
37. केवीआईसी के भारतीय ताड़ उद्योग में प्रवेश से नए रोजगारों, जैविक उत्पादों के सामने आने की संभावना
38. दुकानें खोलने की अनुमति देने वाले गृह मंत्रालय के आदेश पर स्पष्टीकरण
39. नाराजगी / काली पट्टी बांधकर लिए कोरोना वायरस संदिग्धों के सैंपल
40. देश भर में स्वयं सहायता समूहों द्वारा एक करोड़ से अधिक फेस मास्कतैयार किये गये
41. 4 मई, 2020 से लेकर दो हफ्तों तक के लॉकडाउन के दौरान ऑरेंज ज़ोन में व्‍यक्तियों और वाहनों की आवाजाही के बारे में स्‍पष्‍टीकरण
42. वेतन न मिलने के कारण विद्युत विभाग के संविदा कर्मियों ने खम्भे पर चढ़ जान देने की दी धमकी।
43. रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट की कीमत से संबंधित विवाद पर तथ्य
44. आज राज 8 बजे राष्ट्र को संबोधित करेंगे PM मोदी
45. आत्मनिर्भर और स्वावलम्बी बनना कोरोना महामारी से मिला सबसे बड़ा सबक है: प्रधानमंत्री
46. Youtube Se Video Download Kaise Kare
47. Facts About Canada in Hindi
48. ईपीएफओ ने अपने पेंशनधारकों को 764 करोड़ रुपये जारी किए
49. Coronavirus Updates: कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए घोषित किए गए लॉकडाउन की अवधि 21 दिन बाद 14 अप्रैल को पूरी हो रही है. अब इसको 30 अप्रैल तक बढ़ाए जाने के संकेत मिल रहे हैं.
50. Digital Marketing Kya Hai
We would love to hear your thoughts, concerns or problems with anything so we can improve our website educratsweb.com ! visit https://forms.gle/jDz4fFqXuvSfQmUC9 and submit your valuable feedback.
Save this page as PDF | Recommend to your Friends

http://educratsweb(dot)com http://educratsweb.com/content.php?id=1874 http://educratsweb.com educratsweb.com educratsweb