educratsweb logo


घूमना एक शौक भी है और जुनून भी | कुछ लोगों को प्रकृति के नज़ारे पसंद होते हैं तो किसी को रोमांच | कोई अलग-अलग स्वाद का दीवाना होता है तो कोई ऐतिहासिक इमारतों ( Best Historic Places In Indore) का | किसी को मंदिरों के दर्शन करना अच्छा लगता है तो कुछ पर्यटक (Traveller) ऐसे भी होते हैं, जो एक ही डेस्टिनेशन में ये सारी खूबियां चाहते हैं | यदि आप भी किसी ऐसी ही पर्यटन स्थल (Tourist Places) की तलाश कर रहे हैं तो इंडिया के ह्रदय में मौजूद इंदौर आपके पास बेस्ट डेस्टिनेशन (Best Destination In Indore) है  क्योंकि यहां संस्कृति (culture), इतिहास (history), प्राकृतिक सुंदरता (natural beauty ), पौराणिक मंदिर (ancient temple ), बाजार और बेहद स्वादिष्ट और वैरायटी फ़ूड हैं |हम आपको बताते हैं इंदौर की वे टूरिस्ट प्लेसेस (Tourist Places In Indore), जिन्हें देखकर आप भी वाह-वाह कह उठेंगे|

किसी नारी के लिए मां बनना उसके जीवन की सबसे बड़ी ख़ुशी होती है, इसके लिए वह पूजा-पाठ उपवास सब करती है| यदि इन सबके बाद भी उसकी यह अभिलाषा पूरी नहीं होती है और दुनिया उसके नाम के साथ बांझ शब्द जोड़ देती है तो उसके मन की दशा उसकी पीड़ा का हम अहसास भी नहीं कर सकते हैं| ऐसा ही राजस्थान का भी एक दुखी परिवार था, जो हर तरह की दवा-दुआ और इलाज के बावजूद संतान की किलकारी सुनने के लिए तरस रहा था| उसने खजराना के इस विघ्नहर्ता श्रीगणेश की महिमा सुनी तो वे भी इंदौर आए और संतान की चाह में मूर्ति के पीछे मान्यता अनुसार उल्टा स्वस्तिक बनाया | यह खजराना गणेश का चमत्कार ही था कि कई साल से डॉक्टर,वैद्य और हकीम से उपचार करवाने और कई प्रकार के व्रत के बावजूद जो गोद सूनी थी थी, वह इंदौर खजराना गणेश मंदिर में आकर भर गई | ऐसे न जाने कितने किस्से हैं, जो यहां आने वाले भक्त सुनाते हैं | तो आइये आज हम आपको ऐसे ही चमत्कारी खजराना गणेश के दर्शन करवाते हैं |

इंदौर खजराना गणेश मंदिर ( Indore Khajrana Ganesh Temple )

1735 में अहिल्याबाई होलकर द्वारा निर्मित करवाया गया इंदौर खजराना गणेश मंदिर देश ही नहीं विदेश में भी लोकप्रिय है| भगवान गणेश की यह मूर्ति स्वयं प्रकट हुई है| यहां हर दिन लगभग 10000 भक्त दर्शन के लिए आते हैं |
 

जानिए खजराना श्री गणेश के चमत्कार की कहानी, उनके भक्तों की ज़ुबानी | ( Short Story Of Khajrana Tample In Indore)

 

 

इंदौर के खजराना गणेश मंदिर का इतिहास ( Ganesh Temple History )

इंदौर के खजराना गणेश मंदिर के बारे में एक कथा काफी प्रचलित है कि सन 1735 के करीब पंडित मंगल भट्ट के स्वप्न में गणेश जी आए थे और उन्होंने इस स्थान से प्रकट होकर जनता का उद्धार करने की बात कही थी। इसके बाद एक कलश में श्री गणेश प्रकट हुए और उनका मंदिर पूर्ण विधि-विधान से स्थापित किया गया। यह निर्माण अहिल्याबाई होलकर के शासनकाल में करवाया गया | तब से यहां देश ही नहीं विदेश से भी लाखों श्रद्धालु अपना शीश नवाने आते रहे हैं।

इंदौर का खजराना गणेश मंदिर मनोकामनापूर्ण करने वाला मंदिर है

सिंदूर से निर्मित भगवान मंगलमूर्ति के खजराना मंदिर में जो भक्त अपनी मनोकामना की पूर्ति के लिए गणेशजी की पीठ पर उल्टा स्वास्तिक बनाता है, उसकी मनोकामना ज़रूर पूर्ण होती है। यही कारण है कि यहां हमेशा भक्तों की भीड़ लगी रहती है| इतना ही नहीं मनोकामना पूर्ण होने के पश्चात भक्त सीधा स्वास्तिक बनाने यहां पुनःआते हैं। यहां कलावा बांधने की भी परंपरा है। इच्छा पूर्ण होने पर वह कलावा खोल दिया जाता है।

इंदौर खजराना गणेश मंदिर का मोहक श्रृंगार

इंदौर खजराना गणेश मंदिर में प्रत्येक बुधवार और विशेष उत्सवों के समय भगवान मंगलमूर्ति का विशेष और मोहक श्रृंगार किया जाता है, जिसे देख पर्यटक एवं भक्त मंत्रमुग्ध हो जाते हैं | खजराना मंदिर में बजरंगबली, माता रानी, श्री शनिदेव और सांईं बाबा के साथ अनेक देवी-देवताओं के 25 से ज्यादा सुन्दर मंदिर हैं |

सुविधाएं

यहां आने वाले भक्तों को किसी तरह की असुविधा न हो साथ ही वे इतने बड़े प्रांगण की हर जगह से खजराना गणेश के दर्शन कर सकें, इसके लिए संपूर्ण मंदिर प्रांगण में एलईडी स्क्रीन लगाई गई है | बड़ी पार्किंग, प्रसाद , बाज़ार, आरओ का शुद्ध पानी, पूछताछ और सुरक्षा गार्ड के साथ यहां अनेक सुविधाएं उपलब्ध हैं, जिससे यहां आने वाले श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की असुविधा न हो |

कब जाएं

वैसे तो खजराना मंदिर की भव्यता और खूबसूरती इतनी मनमोहक और आकर्षक हैं कि आप कभी भी जाएं, पर दर्शन करने का सर्वश्रेष्ठ समय शाम का है”| इस समय मंदिर की आरती, सजावट  और झिलमिलाती रोशनी बेहद आकर्षक होती है |

Talented India

Posted by: Talented India

....
Enjoy this Author Blog/Website visit http://educratsweb.com/profile.php?id=54

if you have any information regarding Job, Study Material or any other information related to career. you can Post your article on our website. Click here to Register & Share your contents.
For Advertisment or any query email us at educratsweb@gmail.com

RELATED POST
1. Ministry of Tourism is promoting rural tourism through various initiatives-Tourism Minister
The Ministry of Tourism has launched the Swadesh Darshan Scheme for Integrated Development of theme-based Tourist Circuits for development of tourism infrastructure including last mile connectivity in the country. Recognizing the potential of rural tourism in the country, the Ministry has identified Rural Circuit as one of fifteen thematic circuits identified for development under this scheme. The objectives of the Swadesh Darshan scheme include creating employment through active involvement of
2. JODHPUR - A DELIGHTFUL BLEND OF THE MODERN AND THE TRADITIONAL
Jodhpur, the second largest city in Rajasthan is popularly known as the Blue City. The name is clearly befitting as most of the architecture – forts, palaces, temples, havelis and even houses are built in vivid shades of blue. The strapping forts that tower this magnificent city sum up to a spectacle you would not want to miss. The mammoth, imposing fortress of Mehrangarh has a landscape dominating a rocky ridge with the eight gates leading out of the fortress. The new city is located outside the s
3. Ministry of Tourism organises Dekho Apna Desh Webinar Series on Rural Tourism: From Previous Niche to Future Norm
The Ministry of Tourism’s Dekho Apna Desh Webinar series titled “Rural Tourism: From Previous Niche to Future Norm”on 26th September 2020 focused on the villages, people, farming, culture and the idea of sustainability, responsibility and community living.  While millions of 'White Collar' workers lost their jobs or took a steep cut in salaries due to near-total collapse of urban industries, another few million of 'Blue Collar' workers who built our cities &a
4. Ministry of Tourism is promoting the rich heritage and culture of the country under Dekho Apna Desh initiative
The Ministry of Tourism has   launched the Dekho Apna Desh (DAD) initiative in January 2020 with the objective of creating awareness among the citizens about the rich heritage and culture of the country, encouraging citizens to travel widely within the country and enhancing tourist footfalls   leading to development of local economy and creation of jobs at the local level. This initiative is in line with the 15th August, 2019 address of the Honourable Prime Minister asking every citiz
5. Baidyanath & Basukinath Temple Pass: बाबा बैद्यनाथ व बासुकीनाथ मंदिर में प्रवेश के लिए ई-पास सिस्टम लागू, जानें कैसे प्राप्त करें ऑनलाइन एंट्री पास
Baidyanath & Basukinath Temple Entry Pass बाबा बैद्यनाथ मंदिर, देवघर और बाबा बासुकीनाथ मंदिर, बासुकीनाथ में सोमवार से प्रवेश के लिए ई-पास सिस्टम लागू कर दिया गया है। अब मंदिर में उसी को प्रवेश मिलेगा जिसके पास ई-पास होगा
6. Ministry of Tourism launches its DekhoApnaDesh webinar series from today
COVID-19 has had a major impact on all human life and not just in India but globally. Tourism as a sector is naturally hugely impacted with no movement happening either domestically or from across the border. But owing to technology, it is possible to visit places and destinations virtually and plan our travels for a later date. In these unprecedented times, technology is coming handy to maintain human contact and also keep faith that times will be good to be able to travel again soon. Keeping
7. During lockdown Ministry of Tourism has started webinar seriestoshowcase the diverse and remarkable history and culture of India
Ministry of Tourism‘s "DekhoApnaDesh" webinar series isgetting a good response during lockdown. This webinar series provide information on the many destinations and the sheer depth and expanse of the culture and heritage of our Incredible India. The first webinar held yesterday , which was part of a series that was unfolded, touched upon the long history of Delhi. The webinar was titled " City of Cities- Delhi's Personal Diary'had 5700 registrations and it was very well recei
8. Deoghar Baba Baidyanath Dham
Deoghar Baba Baidyanath Dham Origin of name Deoghar is a Hindi word and the literal meaning of 'Deoghar' is abode ('ghar') of the Gods and Goddesses ('dev'). Deoghar is also known as "Baidyanath Dham", "Baba Dham", "B. Deoghar". The origin of Baidyanathdham is lost in antiquity. It ha
9. Shirui Lily Festival
16-19, October, 2019  Ukhrul DistricT 3rd STATE LEVEL SHIRUI LILY FESTIVAL: October 16-19, 2019   2ND STATE LEVEL SHIRUI LILY FESTIVAL: APRIL 24-28, 2018 The Department of Tourism organized the 2nd State Level Shirui Lily Festival from April 24-28, 2018 this year. The festival was spread over multiple venues which included the Shirui Village Ground where the opening cere
10. Madhya Pradesh Tourism
Madhya Pradesh Tourism TOURISTS' DELIGHT - INVESTORS' PRIDE Oh, fine Ujjain! Gem to Avanti given, Where village ancients tell
11. Bangkok Destination Guide
Bangkok Destination Guide Overview Travel in Bangkok is often described as a whirlwind – it’s hot, chaotic, crowded, and full of exotic energy. This popular tourism destination is a city of extremes with majestic temples, floating markets, romantic rooftop restaurants, and a wide range of accommodations to suit every budget. But before you start feeling overwhelmed, read through our brief guide to learn about this exciting city and begin planning your it
12. प्रयागराज के दर्शनीय स्थल
शंकर विमान मण्डपम दक्षिण भारतीय शैली का यह मंदिर चार स्तम्भों पर निर्मित है। जिसमे कुमारिल भट्ट, जगतगुरु आदि शंकराचार्य, कामाक्षी देवी (चारों ओर 51 शक्ति की मूर्तियां के साथ), तिरूपति बा
13. कुम्भ 2019 के मुख्य आकर्षण
कुंभ-2019 को एक अद्वितीय भव्यता का उत्सव बनाने आयोजन करने के लिये उत्तर प्रदेश सरकार ने मेला का सक्षम संचालन सुनिश्चित करते हुये अनेक उपाय किये हैं। अभूतपूर्व दीर्घास्थाई निर्माण कार्य किये जा रह
14. कुम्भ के लिये अपनी योजना बनायें
कुम्भ के लिये अपनी योजना बनायें कुंभ मेला पर्व 2019 में जनवरी से मार्च तथा प्रयागराज में आयोजित किया जायेगा। प्रयागराज भारत का एक महत्वपूर्ण धार्मिक, शैक्षणिक एवं प्रशासनिक केन्द्र रहा
15. Indore Tourism – खजराना गणेश मंदिर
घूमना एक शौक भी है और जुनून भी | कुछ लोगों को प्रकृति के नज़ारे पसंद होते हैं तो किसी को रोमांच | कोई अलग-अलग स्वाद का दीवाना हो
We would love to hear your thoughts, concerns or problems with anything so we can improve our website educratsweb.com ! visit https://forms.gle/jDz4fFqXuvSfQmUC9 and submit your valuable feedback.
Save this page as PDF | Recommend to your Friends

http://educratsweb(dot)com http://educratsweb.com/content.php?id=321 http://educratsweb.com educratsweb.com educratsweb