मोदी सरकार बेरोजगारों को देगी सैलरी, इन देशों में पहले से है लागू #educratsweb
HOME | LATEST JOBS | JOBS | CONTENTS | STUDY MATERIAL | CAREER | NEWS | BOOK | VIDEO | PRACTICE SET REGISTER | LOGIN | CONTACT US


मोदी सरकार बेरोजगारों को देगी सैलरी, इन देशों में पहले से है लागू

मोदी सरकार बेरोजगारों को देगी सैलरी, इन देशों में पहले से है लागू

अगर सब कुछ ठीक रहा तो लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार  UBI यानी यूनिवर्सल बेसिक इनकम स्कीम को देशभर में लागू कर देगी. इस योजना के लागू होने के बाद किसान, व्यापारी और बेरोजगार युवाओं को हर महीने 2,000 से 2,500 रुपये तक की निश्चित रकम मिलेगी. मोदी सरकार का यह प्‍लान गेमचेंजर साबित हो सकता है. लेकिन ऐसा नहीं है कि बेरोजगारों को पैसे देने की यह योजना पहली बार किसी देश में लागू होगा . फ्रांस, जर्मनी और जापान जैसे देशों में इस तरह की योजनाएं सालों से चल रही हैं. आज हम आपको इस रिपोर्ट में कुछ ऐसे ही देशों के बारे में बताने जा रहे हैं जहां इस तरह की योजना लागू है.

फ्रांस

द गार्जियन की रिपोर्ट के मुताबिक यूरोप के देशों में फ्रांस ऐसी जगह है, जहां बेरोजगारों को सबसे ज्‍यादा सुविधाएं मिलती हैं. अगर 2017 के आंकड़ों पर गौर करें तो यहां बेरोजगारों को सरकार सालाना करीब 7 हजार यूरो (5.6 लाख के करीब) की मदद करती है. यानी महीने के हिसाब से 46 हजार रुपये का भत्‍ता मिलता है. हालांकि बेरोजगारों को भी कुछ शर्तों के साथ यह भत्‍ता मिलता है.

जर्मनी

इसी तरह जर्मनी में भी कई स्‍तर पर बेरोजगारों को पेमेंट दी जाती है.  अकेले रहने वाला बेरोजगार तकरीबन 390 यूरो प्रति माह (करीब 30 हजार रुपये) ले सकता है. हालांकि बेरोजगार शख्‍स तीन माह तक काम नहीं ढूंढता है तो उनका पेमेंट अपने आप 30 फीसदी तक घटा दि‍या जाता है.  

आयरलैंड

आयरलैंड में बेरोजगारों को मिलने वाली सुविधाएं हासिल करने के लिए कई कड़े नियम हैं.  मसलन, आपको कम से कम 7 दिन तक बेरोजगार होना चाहि‍ए. इसके अलावा डि‍पार्टमेंट ऑफ सोशल प्रोटेक्‍शन को यह बताना होगा कि  आप‘काम के लि‍ए सक्षम’ हैं. इसके अलावा आपका सोशल इंश्योरेंस में कंट्रीब्‍यूशन भी होना चाहि‍ए.

इटली

रिपोर्ट के मुताबिक इटली में बेरोजगारी दर 12.9 फीसदी है. इटली सरकार ने 2013 में बेरोजगार बेनेफि‍ट्स को बदल दि‍या था.  अब बेरोजगारों को कुछ शर्तों के साथ यहां 1,180 यूरो प्रति माह (करीब 90 हजार रुपये) मिलते हैं. वहीं, जापान में शारीरिक या लर्निंग वि‍कलांगता के साथ-साथ मानसिक स्वास्‍थ्‍य ठीक नहीं होने की स्‍थि‍ति में सरकार मदद करती है. जापान में यह रकम करीब 153 पाउंड प्रति माह (करीब 15 हजार रुपये) है.

भारत में कहां से आया आइडिया

कुछ ऐसा ही यूनिवर्सल बेसिक इनकम स्‍कीम मोदी सरकार लागू कर सकती है. इस स्‍कीम का सुझाव सबसे पहले लंदन यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर गाय स्टैंडिंग ने दिया था.  इनकी अगुवाई में मध्य प्रदेश के इंदौर में 8 गांवों में पांच साल के लिए पायलट प्रोजेक्ट चलाया गया. प्रयोग के तहत इन गांवों की 6,000 की आबादी को फायदा पहुंचाया गया.  इन गांव वालों को 500 रुपये खाते में हर महीने डाले गए. वहीं बच्चों के खाते में 150 रुपये जमा कराए गए. भारत में इस स्कीम के तहत करीब 10 करोड़ लोग शामिल हो सकते हैं. साल 2016-17 के आर्थिक सर्वे में सरकार को इस स्कीम को लागू करने की सलाह दी गई थी.

SHARE THIS


Subscribe via Email

RELATED POST

संविदाकर्मियों के लिए उम्मीद की किरण, दशहरे तक मिल सकता है तोहफ़ा
बिहार संविदा कर्मियों की नहीं होगी छंटनी, जरूरत न रहने पर दूसरे विभाग में अब समायोजित होंगे
Simba Movie trailer Download | Talented India 
बिहार के संविदा कर्मचारियों को अब यात्रा व्यय भी दिया जाएगा
बिहार विधानसभा में नौकरी दिलाने के नाम पर खेल, सचिवालय थाने में प्राथमिकी
मोदी सरकार बेरोजगारों को देगी सैलरी, इन देशों में पहले से है लागू
RRB Group C: Link for refund active, websites to claim
Fake board issuing Class XII passed certificate to students without appearing exam - SSUM
First arrest under GST by Karnataka tax department; trader held for issuing bogus invoices
Amazon Great Indian Festival Diwali Special sale from 2nd-5th Nov
Jio Celebrations Pack | Daily 2 GB Free
बिहार के संविदा कर्मचारी 15 दिन से अधिक गैरहाजिर तो जाएगी नौकरी
Science Popularisation in West Bengal during 2018 - 2019
TCS switches to online test to recruit engineering graduates
For students, chance to meet PM Modi comes with a quiz on cleanliness
CBSE for sign lang, Braille as subjects
Petrol Prices Near 90 Rupees In Mumbai, Above 80 Rupees In Other Metros
UIDAI to set up Aadhaar Seva Kendras
RRB JE Recruitment 2019: रेलवे में निकली 14000 से ज्यादा भर्तियां, जानें सभी जरूरी बातें
MINISTRY OF NEW AND RENEWABLE ENERGY "PRAKRITIK URJA PURASKAR YOJNA"


Disclaimer: we only provide job information. we are not associated with any job website. Although we take extreme care for accuracy of the information provided, but you must check the authenticity of the website before applying for the job. We are not responsible for your operation , once you leave our website and apply thereafter. Please recheck the genuineness of the job website from yourself also.

Copyright © 2018. Website template by WebThemez.com