educratsweb logo


गिलोय (Tinospora Cordifolia) एक प्रकार की बेल है जो आमतौर पर जगंलों-झाड़ियों में पाई जाती है। प्राचीन काल से ही गिलोय को एक आयुर्वेदिक औषधि के रुप में इस्तेमाल किया जाता रहा है। गिलोय के फायदों (Giloy ke fayde) को देखते हुए ही हाल के कुछ सालों से अब लोगों में इसके प्रति जागरुकता बढ़ी है और अब लोग गिलोय की बेल अपने घरों में लगाने लगे हैं। हालांकि अभी भी अधिकांश लोग गिलोय की पहचान ठीक से नहीं कर पाते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि गिलोय की पहचान करना बहुत आसान है। इसकी पत्तियों का आकार पान के पत्तों के जैसा होता है और इनका रंग गाढ़ा हरा होता है। आप गिलोय (Giloy in hindi) को सजावटी पौधे के रुप में भी अपने घरों में लगा सकते हैं।

गिलोय को गुडूची (Guduchi), अमृता आदि नामों से भी जाना जाता है। आयुर्वेद के अनुसार गिलोय की बेल जिस पेड़ पर चढ़ती है उसके गुणों को भी अपने अंदर समाहित कर लेती है, इसलिए नीम के पेड़ पर चढ़ी गिलोय की बेल को औषधि के लिहाज से सर्वोत्तम माना जाता है। इसे नीम गिलोय (Neem giloy) के नाम से जाना जाता है।

giloy benefits in hindi

गिलोय में पाए जाने वाले पोषक तत्व :

गिलोय में गिलोइन नामक ग्लूकोसाइड और टीनोस्पोरिन, पामेरिन एवं टीनोस्पोरिक एसिड पाया जाता है। इसके अलावा गिलोय (Giloy  in hindi) में कॉपर, आयरन, फॉस्फोरस, जिंक,कैल्शियम और मैगनीज भी प्रचुर मात्रा में मिलते हैं।  

गिलोय के औषधीय गुण :

आयुर्वेद के अनुसार गिलोय की पत्तियां, जड़ें और तना तीनो ही भाग सेहत के लिए बहुत गुणकारी हैं लेकिन बीमारियों के इलाज में सबसे ज्यादा उपयोग गिलोय के तने या डंठल का ही होता है। गिलोय में बहुत अधिक मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं साथ ही इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी और कैंसर रोधी गुण होते हैं। इन्हीं गुणों की वजह से यह बुखार, पीलिया, गठिया, डायबिटीज, कब्ज़, एसिडिटी, अपच, मूत्र संबंधी रोगों आदि से आराम दिलाती है। बहुत कम औषधियां ऐसी होती हैं जो वात, पित्त और कफ तीनो को नियंत्रित करती हैं, गिलोय उनमें से एक है। गिलोय (Giloy  in hindi) का मुख्य प्रभाव टॉक्सिन (विषैले हानिकारक पदार्थ) पर पड़ता है और यह हानिकारक टॉक्सिन से जुड़े रोगों को ठीक करने में असरदार भूमिका निभाती है।

गिलोय का सेवन कैसे करें (How to take Giloy) :

आज के समय में अधिकांश लोगों को गिलोय के फायदे (Giloy ke fayde) तो पता हैं लेकिन उन्हें गिलोय की सेवन विधि नहीं पता होती है। आमतौर पर गिलोय का सेवन आप इन तीन रूपों में कर सकते हैं : गिलोय सत्व, गिलोय जूस (Giloy juice) या गिलोय स्वरस और गिलोय चूर्ण। आजकल बाज़ार में गिलोय सत्व और गिलोय जूस आसानी से उपलब्ध हैं।

इस लेख में आयुर्वेदिक चिकित्सक डॉ. दीपक कुमार सोनी  आपको गिलोय के फायदे (Giloy ke fayde) और गिलोय की खुराक के बारे में विस्तार से बता रहे हैं। आइये जानते हैं :  

गिलोय के फायदे (Giloy ke fayde in hindi) :

गिलोय डायबिटीज, कब्ज़ और पीलिया समेत कई गंभीर बीमारियों के इलाज में उपयोगी है। गिलोय या गुडूची (Guduchi) के गुणों के कारण ही आयुर्वेद में इसका नाम अमृता रखा गया है जिसका मतलब है कि यह औषधि बिल्कुल अमृत समान है। आयुर्वेद के अनुसार पाचन संबंधी रोगों के अलावा गिलोय सांस संबंधी रोगों जैसे कि अस्थमा और खांसी से भी आराम दिलाने में काफी फायदेमंद है। इस लेख में हम आपको गिलोय के फायदों (Giloy  ke fayde) के बारे में विस्तार से बता रहे हैं।

1- डायबिटीज (Giloy benefits for diabetes in hindi)

विशेषज्ञों के अनुसार गिलोय हाइपोग्लाईसेमिक एजेंट की तरह काम करती है और टाइप-2 डायबिटीज को नियंत्रित रखने में असरदार भूमिका निभाती है। गिलोय जूस (giloy juice) ब्लड शुगर के बढे स्तर को कम करती है, इन्सुलिन का स्राव बढ़ाती है और इन्सुलिन रेजिस्टेंस को कम करती है। इस तरह यह डायबिटीज के मरीजों के लिए बहुत उपयोगी औषधि है।  

खुराक और सेवन का तरीका : डायबिटीज के लिए आप दो तरह से गिलोय (Giloy in hindi) का सेवन कर सकते हैं।

गिलोय जूस : दो से तीन चम्मच गिलोय जूस (10-15ml) को एक कप पानी में मिलाकर सुबह खाली पेट इसका सेवन करें।

गिलोय चूर्ण : आधा चम्मच गिलोय चूर्ण को पानी के साथ दिन में दो बार खाना खाने के एक से डेढ़ घंटे बाद लें।  

2- डेंगू (Giloy benefits for dengue in hindi) :

डेंगू से बचने के घरेलू उपाय के रुप में गिलोय का सेवन करना सबसे ज्यादा प्रचलित है। डेंगू के दौरान मरीज को तेज बुखार होने लगते हैं। गिलोय में मौजूद एंटीपायरेटिक गुण बुखार को जल्दी ठीक करते हैं साथ ही यह इम्युनिटी बूस्टर की तरह काम करती है जिससे डेंगू से जल्दी आराम मिलता है।

खुराक और सेवन का तरीका : डेंगू होने पर दो से तीन चम्मच गिलोय जूस (Giloy juice) को एक कप पानी में मिलाकर दिन में दो बार खाना खाने से एक-डेढ़ घंटे पहले लें। इससे डेंगू से जल्दी आराम मिलता है।

3- अपच (Giloy benefits for indigestion in hindi) :

अगर आप पाचन संबंधी समस्याओं जैसे कि कब्ज़, एसिडिटी या अपच से परेशान रहते हैं तो गिलोय आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकती है। गिलोय का काढ़ा, पेट की कई बीमारियों को दूर रखता है। इसलिए कब्ज़ और अपच से छुटकारा पाने के लिए गिलोय का रोजाना सेवन करें।

खुराक और सेवन का तरीका : आधा से एक चम्मच गिलोय चूर्ण को गर्म पानी के साथ रात में सोने से पहले लें। इसके नियमित सेवन से कब्ज़, अपच और एसिडिटी आदि पेट से जुड़ी समस्याओं से जल्दी आराम मिलता है।

4- खांसी (Giloy benefits for cough in hindi) :

अगर कई दिनों से आपकी खांसी ठीक नहीं हो रही है तो गिलोय (Giloy in hindi) का सेवन करना फायदेमंद हो सकता है। गिलोय में एंटीएलर्जिक गुण होने के कारण यह खांसी से जल्दी आराम दिलाती है। खांसी दूर करने के लिए गिलोय के काढ़े का सेवन करें।

खुराक और सेवन का तरीका : खांसी से आराम पाने के लिए गिलोय का काढ़ा बनाकर शहद के साथ उसका सेवन करें। इसे दिन में दो बार खाने के बाद लेना ज्यादा फायदेमंद रहता है।

5- बुखार (Giloy benefits for fever in hindi) :

गिलोय या गुडूची (Guduchi) में ऐसे एंटीपायरेटिक गुण होते हैं जो पुराने से पुराने बुखार को भी ठीक कर देती है। इसी वजह से मलेरिया, डेंगू और स्वाइन फ्लू जैसे गंभीर रोगों में होने वाले बुखार से आराम दिलाने के लिए गिलोय (Giloy in hindi) के सेवन की सलाह दी जाती है।

खुराक और सेवन का तरीका : बुखार से आराम पाने के लिए गिलोय घनवटी (1-2 टैबलेट) पानी के साथ दिन में दो बार खाने के बाद लें।

6– इम्युनिटी बढ़ाने में सहायक (Giloy benefits for immunity in hindi) :

बीमारियों को दूर करने के अलावा शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाना भी गिलोय के फायदे (Giloy ke fayde in hindi) में शामिल है। गिलोय सत्व या गिलोय जूस (Giloy juice) का नियमित सेवन शरीर की इम्युनिटी पॉवर को बढ़ता है जिससे सर्दी-जुकाम समेत कई तरह की संक्रामक बीमारियों से बचाव होता है।

खुराक और सेवन का तरीका : गिलोय इम्युनिटी बूस्टर की तरह काम करती है। इम्युनिटी बढ़ाने के लिए दिन में दो बार दो से तीन चम्मच (10-15ml) गिलोय जूस का सेवन करें।  

7- पीलिया (Giloy benefits for jaundice in hindi) :

पीलिया के मरीजों को गिलोय के ताजे पत्तों का रस पिलाने से पीलिया जल्दी ठीक होता है। इसके अलावा गिलोय के सेवन से पीलिया में होने वाले बुखार और दर्द से भी आराम मिलता है। गिलोय स्वरस (Giloy juice) के अलावा आप पीलिया से निजात पाने के लिए गिलोय सत्व का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

खुराक और सेवन का तरीका : एक से दो चुटकी गिलोय सत्व को शहद के साथ मिलाकर दिन में दो बार नाश्ते या कुछ खाने के बाद लें।

8- एनीमिया (Giloy benefits for anemia in hindi) :

शरीर में खून की कमी होने से कई तरह के रोग होने लगते हैं जिनमें एनीमिया सबसे प्रमुख है। आमतौर पर महिलायें एनीमिया से ज्यादा पीड़ित रहती हैं। एनीमिया से पीड़ित महिलाओं के लिए गिलोय का रस काफी फायदेमंद है। गिलोय का रस (Giloy juice) का सेवन शरीर में खून की कमी को दूर करती है और इम्युनिटी क्षमता को मजबूत बनाती है।

खुराक और सेवन का तरीका : दो से तीन चम्मच (10-15ml) गिलोय जूस (Giloy juice) को शहद या पानी के साथ दिन में दो बार खाने से पहले लें।

9- त्वचा के लिए गुणकारी (Giloy benefits for skin problem) :

गिलोय त्वचा संबंधी रोगों और एलर्जी को दूर करने में भी सहायक है। अर्टिकेरिया में त्वचा पर होने वाले चकत्ते हों या चेहरे पर निकलने वाले कील मुंहासे, गिलोय इन सबको ठीक करने में मदद करती है।  

इस्तेमाल करने का तरीका : त्वचा संबंधी समस्याओं से आराम पाने के लिए गुडूची (Guduchi) के तने का पेस्ट बना लें और इस पेस्ट को सीधे प्रभावित हिस्से पर लगाएं। यह पेस्ट त्वचा पर मौजूद चकत्ते, कील-मुंहासो आदि को दूर करने में सहायक है।  

10- गठिया (Giloy benefits for rheumatoid arthritis in hindi) :

गिलोय में एंटी-आर्थराइटिक गुण होते हैं। इन्हीं गुणों के कारण गिलोय (Giloy in hindi) गठिया से आराम दिलाने में कारगर होती है। खासतौर पर जो लोग जोड़ों के दर्द से परेशान रहते हैं उनके लिए गिलोय का सेवन करना काफी फायदेमंद रहता है।  

खुराक और सेवन का तरीका : गठिया से आराम दिलाने में गिलोय जूस और गिलोय का काढ़ा दोनों ही उपयोगी हैं। अगर आप गिलोय जूस (Giloy juice) का सेवन कर रहे हैं तो दो से तीन चम्मच (10-15ml) गिलोय जूस को एक कप पानी में मिलाकर सुबह खाली पेट इसका सेवन करें। इसके अलावा अगर आप काढ़े का सेवन कर रहे हैं तो  गिलोय का काढ़ा बनाकर उसमें शहद मिलाएं और दिन में दो बार खाने के बाद इसका सेवन करें।

11- अस्थमा (Giloy benefits for asthma in hindi) :

गिलोय में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होने के कारण यह सांसो से संबंधित रोगों से आराम दिलाने में प्रभावशाली है। गिलोय या गुडूची (Guduchi) कफ को नियंत्रित करती है साथ ही साथ इम्युनिटी पॉवर को बढ़ाती है जिससे अस्थमा और खांसी जैसे रोगों से बचाव होता है और फेफड़े स्वस्थ रहते हैं।   

खुराक और सेवन का तरीका : अस्थमा से बचाव के लिए गिलोय चूर्ण में मुलेठी चूर्ण मिलाकर शहद के साथ दिन में दो बार इसका सेवन करें। यह मिश्रण सांसो से जुड़ी अन्य समस्याओं से आराम दिलाने में भी कारगर है।

12- लीवर के लिए फायदेमंद (Giloy benefits for liver in hindi) :

अधिक शराब का सेवन लीवर को कई तरीकों से नुकसान पहुंचाता है। ऐसे में गुडूची सत्व या गिलोय सत्व का सेवन लीवर के लिए टॉनिक की तरह काम करती है। यह खून को साफ़ करती है और एंटीऑक्सीडेंट एंजाइम का स्तर बढ़ाती है। इस तरह यह लीवर के कार्यभार को कम करती है और लीवर को स्वस्थ रखती है। गिलोय के नियमित सेवन से लीवर संबंधी गंभीर रोगों से बचाव होता है।

खुराक और सेवन का तरीका :  एक से दो चुटकी गिलोय सत्व को शहद के साथ मिलाकर दिन में दो बार इसका सेवन करें।

गिलोय के नुकसान और सावधानियां (Giloy side effects in hindi):

गिलोय के फायदे (Giloy Benefits in hindi) पढ़कर अगर आपको लगता है कि गिलोय से सिर्फ लाभ ही लाभ हैं तो ऐसा नहीं है। अगर आप ज़रुरत से ज्यादा मात्रा में गिलोय का सेवन करते हैं तो आपको गिलोय के नुकसान भी झेलने पड़ सकते हैं। आइये जानते हैं कि गिलोय के नुकसान (Giloy side effects in hindi) क्या हैं और किन परिस्थितयों में गिलोय का सेवन नहीं करना चाहिए।

1- ऑटो इम्यून बीमारियों का खतरा :

गिलोय के सेवन से शरीर की इम्युनिटी पॉवर मजबूत तो होती है लेकिन कई बार इम्युनिटी के अधिक सक्रिय होने की वजह से ऑटो इम्यून बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। इसीलिए ऑटो इम्यून बीमारियों जैसे कि मल्टीप्ल स्केरेलोसिस या रुमेटाइड आर्थराइटिस आदि से पीड़ित मरीजों को गिलोय से परहेज की सलाह दी जाती है।

2- निम्न रक्तचाप (Low Blood pressure) :

जो लोग पहले से ही निम्न रक्तचाप (लो ब्लड प्रेशर) के मरीज हैं उन्हें गिलोय के सेवन से परहेज करना चाहिए क्योंकि गिलोय भी ब्लड प्रेशर को कम करती है। इससे मरीज की स्थिति बिगड़ सकती है। इसी तरह किसी सर्जरी से पहले भी गिलोय (Giloy in hindi) का सेवन किसी भी रुप में नहीं करना चाहिए क्योंकि यह ब्लड प्रेशर को कम करती है जिससे सर्जरी के दौरान मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

3- गर्भावस्था (Pregnancy) :  

गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भी गिलोय से परहेज करने की सलाह दी जाती है। हालांकि गर्भावस्था के दौरान गिलोय के नुकसान के प्रमाण मौजूद नहीं है फिर भी बिना डॉक्टर की सलाह लिए गर्भावस्था में गिलोय का सेवन ना करें।

अब आप गिलोय के फायदे और नुकसान से भलीभांति परिचित हो चुके हैं। इसलिए अपनी ज़रुरत के हिसाब से गिलोय का नियमित सेवन शुरु कर दें। इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि गिलोय जूस (Giloy juice) या गिलोय सत्व का हमेशा सीमित मात्रा में ही सेवन करें। हालांकि गिलोय के नुकसान (Giloy ke nuksan) बहुत ही कम लोगों में देखने को मिलते हैं लेकिन फिर भी अगर आपको किसी तरह की समस्या होती है तो तुरंत नजदीकी डॉक्टर को ज़रुर सूचित करें।

Sources https://www.1mg.com/articles/giloy-uses-benefits-and-side-effects-in-hindi/

educratsweb.com

Posted by: educratsweb.com

I am owner of this website and bharatpages.in . I Love blogging and Enjoy to listening old song. ....
Enjoy this Author Blog/Website visit http://twitter.com/bharatpages
View Related Video Visit https://www.youtube.com/results?search_query=गिलोय के औषधीय गुण, फायदे और नुकसान : GILOY AYURVEDIC USES, BENEFITS AND SIDE EFFECTS IN HINDI #EDUCRATSWEB educratsweb.com Health 2020-10-23

if you have any information regarding Job, Study Material or any other information related to career. you can Post your article on our website. Click here to Register & Share your contents.
For Advertisment or any query email us at educratsweb@gmail.com

RELATED POST
1. सुपरफूड्स:ब्रिटिश ऑन्कोलॉजिस्ट ने गिनाए कैंसर से बचाने वाले 10 फल, सब्जियां और मसाले; ये कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने से रोकते हैं
ब्रिटिश कैंसर एक्सपर्ट डॉ. रॉबर्ट थॉमस ने ऐसे 10 फल, सब्जियों और मसालों के नाम गिनाए हैं जो कैंसर से बचाते हैं। इनका दावा है कि पौधों से मिलने वा
2. Steps to promote research in Ayurveda to develop treatment of cancer
The Government has taken many steps to promote research in Ayurveda to develop treatment of cancer.  The Government has set-up Central Council for Research in Ayurvedic Sciences (CCRAS) as an autonomous organization, with the mandate to undertake research in Ayurvedic healthcare services. The Central Council for Research in Ayurvedic Sciences (CCRAS) has undertaken research related to  Cancer also involved in drug development and documentation of medical practices as per following det
3. Covid-19 Cases in CAPFs
CAPF wise details of Covid-19 positive cases and deaths due to Covid-19 as on 10.09.2020 is given below:-   Name of the Force Total positive cases No of deaths
4. AYUSH practices inducted into the Management Protocol for COVID - 19 recovered patients
Ministry of Health and Family Welfare (MoHFW) issued a protocol on Post COVID Management on 13th September, 2020. The protocol provides an integrated holistic approach for patients of COVID to care at home and is not meant to be used as preventive/curative therapy. It also states that the recovery period is likely to be longer for patients who suffered from more severe form of the disease and those with pre-existing illness. The protocol is also notable for the induction of various AYUSH practices of hea
5. Details of loan disbursal by World Bank to India to fight COVID-19 pandemic
The World Bank has so far provided three loans worth $2.5 billion to Government of India to support Government of India’s response to COVID-19 pandemic situation for health ($1 billion), for social protection ($0.75 billion) and for economic stimulus ($0.75 billion), the benefits of which have accrued to all States and UTs. This was stated by Shri Anurag Singh Thakur, Union Minister of State for Finance & Corporate Affairs in a written reply to a question in Rajya Sabha today. Giving
6. AYUSH Ministry inks MoU with Industry Bodies to promote Medicinal Plants cultivation
In a historic event today, the National Medicinal Plants Board (NMPB), Ministry of AYUSH  signed an MoU through virtual meeting with the major AYUSH and Herbal industry bodies covering a set of measures to promote medicinal plant cultivation. The industry bodies which signed the MoU include ADMA (Ayurvedic Drug Manufacturer’s Association), Mumbai; AMAM (Association for Manufactures of Ayurvedic Medicines), New Delhi; AMMOI (Ayurvedic Medicines Manufacturers Organization of India), Th
7. Buy Super Kamagra From UK And How Long Does Super Kamagra Last ?
A healthy intercourse between the couples is the key to a happy and successful relationship. As long as a man physically satisfies his companion and fulfils her inner desires and cravings,  there is very little chance of any  problem.  However, the moment a man loses interest in intercourse - whatever may be the cause – their compatibility, mutual understanding, bonding and the vows of a life long relationship, goes for a toss. One such physical inability, which is a major cause of c
8. More than 15 Lakh loan applications received under PM SVANidhi scheme
More than 15 lakh loan applications have been received so far under the PM Street Vendor’s AtmaNirbhar Nidhi(PM SVANidhi) Scheme.   Out of these, more than 5.5 lakh loans have been sanctioned and about 2 lakh loans disbursed.  The Ministry of Housing & Urban Affairs is implementing PM Street Vendor’s AtmaNirbhar Nidhi (PM SVANidhi) Scheme to facilitate collateral free working capital loan to 50 lakh street vendors to restart their businesses post COVID-19 lockdowns.
9. Dr Harsh Vardhan interacts with social media users during Sunday Samvaad-2
Dr. Harsh Vardhan, Union Minister of Health and Family Welfare answered questions posed by his social media interactors on the Sunday Samvaad platform for a second time today. These questions covered a multitude of queries concerning not only the current situation of COVID but also the government’s approach to it and related topics like India’s growth in the field of Science. At the outset, Dr. Harsh Vardhan congratulated a responder who volunteered himself and their daught
10. Health challenges being solved through holistic methods with integrated medicine systems: PM
Prime Minister Shri Narendra Modi today dedicated two future-ready national premier Ayurveda institutions to the nation to mark celebration of the 5th Ayurveda Day, here today through video conferencing. The Prime Minister dedicated to the nation the Institute of Teaching & Research in Ayurveda (ITRA), Jamnagar as an Institution of National Importance (INI), and the National Institute of Ayurveda (NIA), Jaipur as a D
11. Ayurvedic Drugs and Protocol for COVID-19
A total of 247 proposals of Ayurveda interventions have been received under modified Extra Mural research (EMR) Scheme for SARS CoV-2 infection and COVID-19 disease. Out of 247 proposals, 21 research proposals recommended by competent authority on Ayurveda for SARS/COVID cases have been approved for funding. Ministry of AYUSH has formed an Inter-disciplinary AYUSH R&D Task Force. Task Force has formulated and designed clinical research protocols for prophylactic studies and add-on intervent
12. Ministry of AYUSH taking various initiatives to integrate the modern and traditional systems of Medicine
No conflict exists between modern medicine and AYUSH systems with regard to efficacy of medicines, treatments and procedures. The Ministry of AYUSH is taking various initiatives to integrate the modern and traditional systems so as to facilitate a meaningful, cross learning and collaboration between two systems. The highlights of such initiatives have been the following: -  Ministry of AYUSH under Centrally Sponsored Scheme of National AYUSH Mission (NAM) co-locates AYUSH
13. Measures for welfare of Pensioners during COVID-19
The Union Minister of State (Independent Charge), Development of North Eastern Region (DoNER), MoS PMO, Personnel, Public Grievances, Pensions, Atomic Energy and Space, DrJitendra Singh said in a written reply in Rajya Sabha today that several measures have been taken for the benefit of pensioners during COVID-19.  The Department of Pension & Pensioners’ Welfare, ever since the lockdown due to unprecedented COVID-19 pandemic, has been taking various initiatives for the pensioners
14. Ayurveda not just a system of medicine, but also a philosophy of life – Vice President
The Vice President of India, Shri M. Venkaiah Naidu today called for utilising Ayurveda’s extensive knowledge base on preventive care to combat the COVID-19 pandemic. He said that natural remedies prescribed in Ayurveda can help us fight the virus by building our immunity.
15. Fit India Dialogue focuses on the fitness interests of every age group and brings into play different dimensions of fitness: PM
Prime Minister Shri Narendra Modi launched the Age Appropriate Fitness Protocols on the occasion of the first anniversary of the Fit India Movement, via virtual conferencing today. Shri Modi interacted with various sports persons, fitness experts and others during the Fit India Dialogue event organised on the occasion. The virtual dialogue was conducted in a casual and informal manner where the participants shared with the Prime Minister their life experiences and their fitness mantra. 
16. AYUSH Ministry organized National webinar on Nutrition Science and Advancements
As part of the “AYUSH for Immunity” campaign of the Ministry of AYUSH, Govt. of India, a webinar on Nutrition Science and Advancements, titled POSHAN AAHAR was conducted recently. Experts, researchers, Clinical Nutritionists, Surgeons and Yoga& Naturopathy physicians were participated in the webinar. The webinar was organised by the Central Council for Research in Yoga & Naturopathy (CCRYN), an Autonomous Body under the Ministry of AYUSH. The first session was by Prof Kalida
17. llegal Immunity Drugs and Medicinal Formulas For covid-19
Ministry of AYUSH has received 154 misleading advertisements related to Ayush claims for COVID 19 from different parts of the country till August 2020. In this regard, Ministry of AYUSH has issued directives to the State/UT authorities to initiate necessary action against the defaulters and alleged manufacturers/ advertisers acting in contravention of the provisions of Drugs and Cosmetics Act, 1940 & Rules there under and Drugs and Magic Remedies (Objectionable Advertisements) Act, 1954 and Rules the
18. MALEGRA 100 MG
Malegra 100 Mg Malegra we can also say weekend pills help you to get erection if you are sexually stimulated. Sildenafil is in a class of medications called phosphodiesterase (PDE) inhibitors. Sild
19. Skin Treatment doctor in Delhi
Skin is one of the most sensitive organs of the body. Constant exposure to the sun, pollution, hormonal imbalance, pollution, and other environmental issues can cause various skin irregularities and problems like acne, pigmentation, eczema, fungal infection, uneven skin tone, etc. These problems affect not only the appearance of an individual but also their normal lifestyle and social interactions. These skin problems can be efficiently treated with the help of proper medical guidance. One can visit Dr.
20. समस्त रोगों की जड़ है रात्रि भोजन
समस्त रोगों की जड़ है रात्रि भोजन किसी भी चिड़िया को डायबिटीज नहीं होती। किसी भी बन्दर को हार्ट अटैक नहीं आता । कोई भी जानवर न तो आयोडीन नमक खाता है और न ब्रश करता है, फिर भी किसी को
21. You Need To Know About Acute HIV Infection
What is acute HIV infection? Acute HIV infection is a disease that may develop when someone contracts HIV as early as two to four weeks. Often known as primary HIV infection, or acute retroviral syndrome is an acute HIV infection. It is the initial stage of HIV, which will last until the body produ
22. Buy Xanax online from UK to treat depression and anxiety
In this competitive and fast-paced life, it is normal for individuals to feel sad, lonely and depressed. Depression can be a normal reaction to the day to day struggles of routine life. Performing a similar activity regularly for an extended duration can become routine affair and boring after some time. You may start losing interest in the job after some time. Some people get so frustrated that they start avoiding people and prefer isolation. When this feeling of helplessness, hopelessness and sadness pe
23. Giloy: Benefits and Uses
Giloy: Benefits and Uses For centuries, we have been trying to make our life healthy with the resources set by nature, one of these herbs is also considered as Giloy. Which is not only used in Ayurvedic herbs, but Giloy is also being used in today's medicines. It was commonly used to treat fever, increase digestibility, etc. Although the stem of Giloy is most useful, we can
24. Buy Zopiclone Online From UK To Treat Irregular Proportion Of Sleep
A sound sleep at night is vital for recharging and rejuvenating the human body, both mentally and physically. In fact, it is mandatory for the maintenance of good health and for the normal functioning of the body. Besides relaxing people and boosting immunity, it also promotes wellness and enables people to wake up feeling fresh and rejuvenated.Safe users of sleep medications stay mentally alert and active throughout the day, perform better at the workplace and live longer. On the other hand, i
25. Buy Modalert UK to overcome daytime drowsiness and improve cognitive function
Power and supremacy lies not in physical strength, but in the power and sharpness of mind. In order to acquire knowledge and to stay ahead of competitors, a person needs a sharp and focused mind. Mental alertness, better memory and improved decision making are other qualities which can arm people and prepare them to stay competitive in this cut throat race. Some time back, people used to enhance their mental ability and sharpen their minds with various methods such as memory exercises, puzzles
We would love to hear your thoughts, concerns or problems with anything so we can improve our website educratsweb.com ! visit https://forms.gle/jDz4fFqXuvSfQmUC9 and submit your valuable feedback.
Save this page as PDF | Recommend to your Friends

http://educratsweb(dot)com http://educratsweb.com/content.php?id=4846 http://educratsweb.com educratsweb.com educratsweb