केवल दो राशियों के साथ परफेक्ट बनती है वृश्चिक राशि के जातक की जोड़ी

ज्योतिष शास्त्र

यह सच है कि शास्त्रों का हमारे जीवन पर खास प्रभाव पड़ता है। आप इनमें विश्वास करें या ना करें, लेकिन यह शास्त्र पल-पल आपके जीवन से जुड़े हैं और जीवन पर प्रभाव कर रहे हैं। शास्त्रों में प्रचलित ज्योतिष शास्त्र एक ऐसी विधा है जो एक बड़े स्तर पर हमारे जीवन पर असर करती है।
ज्योतिष शास्त्र के भीतर बारह राशि चिन्ह और उनसे जुड़े तथ्य इतनी दिलचस्प है कि आप उन्हें जानने से खुद को रोक नहीं पाएंगे। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति जब जन्म लेता है तो उसके आने वाले कल का निर्धारण जन्म के समय मौजूदा ग्रहों पर किया जाता है।

उसका भविष्य सुखमय होगा या दुखद, उसे किन चीज़ों की उपलब्धि होगी और जीवन में क्या-क्या मुश्किलें आएंगी यह सभी ज्योतिष शास्त्र की मदद से पता लगाया जा सकता है। इसी तरह से व्यक्ति के जन्म के साथ ही उस दिन को आधार मानते हुए उसे एक राशि चिन्ह प्रदान किया जाता है। यह राशि चिन्ह उसके स्वभाव, उसकी पसंदगी, उसके चरित्र के गहरे राज़ को बयां करता है।

वृश्चिक राशि

 किसी विशेष राशि चिन्ह का स्वभाव कैसा है, उसे कैसे लोग पसंद आते हैं और अन्य किन राशियों में से कौन सा राशि चिन्ह उसके लिए परफेक्ट जोड़ीदार होगा, यह सभी बातें जानने योग्य है। तो इसी को आगे बढ़ाते हुए आज हम आपको वृश्चिक राशि के बारे में बताएंगे।
स्कॉर्पियो

वृश्चिक राशि, यानी कि स्कॉर्पियो... 24 अक्टूबर से 22 नवंबर के भीतर जन्म लेने वाले जातक वृश्चिक राशि के होते हैं। तेज़, चालाक, चतुर, चार्मिंग और कुछ रहस्यमयी अंदाज़ के होते हैं वृश्चिक राशि के जातक। यदि आप भी इस राशि के हैं तो यकीनन आप खुद को अपने फ्रेंड सर्किल में अलग मानते होंगे।

स्मार्ट और चुस्त

स्वयं ही नहीं, वरन् आपके दोस्त या संबंधी भी आपको स्मार्ट और चुस्त लोगों की श्रेणी में डालते होंगे। तो चल्लिए सबसे पहले एक-एक करके वृश्चिक राशि के जातकों के स्वभाव के बारे में बताएंगे, शायद इन्हें जानने के बाद आप अगली बार इस राशि के इंसान से मिलते समय कुछ बातों का ख्याल रखें।

अनोखी बात

वृश्चिक राशि वालों की सबसे अनोखी और इन्हें सबसे अलग बताती एक बात यह है कि यह किसी से नहीं डरते। इसका मतलब यह नहीं कि ये अपनी मनमर्जी करते हैं, अर्थ यह है कि जब किसी को मुंह तोड़ जवाब देना हो और बात कायदे की हो तो ये अपनी बात रकने से चूकते नहीं हैं।
जो सही लगता है वह करके ही रहते हैं

जो सही लगता है वह करके ही रहते हैं

इन्हें जो सही लगता है वह करके ही रहते हैं, फिर चाहे सामने वाले को अच्छा लगे या बुरा। दूसरी अच्छी बात कि वृश्चिक राशि के जातक लोग हर काम पूर्ण एकाग्रता से करते हैं, केवल काम ही नहीं चाहे वे कुछ भी कर रहे हों उनमें एकाग्रता का स्तर उच्चतम ही होता है। अगर इन्होंने कुछ कर दिखाने को ठान लिया है तो शायद भगवान भी इन्हें इनके मार्ग से भटका नहीं सकते।

एकाग्रता

क्योंकि एकाग्रता के साथ इनमें अपने कार्य को पूरा करने का जोश भी होता है। लेकिन यह जोश तभी उत्पन्न्न होगा जब ये मन से उस कार्य को करने का फैसला कर लें, यदि इनका मन ना हो तो आप जल्दी इनसे कोई विशेष कार्य नहीं करवा सकते।

समझदार हैं

वृश्चिक राशि के जातक समझदार हैं, बुद्धिमान होते हैं और साथ ही आप इनपर भरोसा भी कर सकते हैं। यदि वृश्चिक राशि के जातक आपके सच्चे मित्र बन जाएं तो जीवन भर साथ निभाते हैं।

खासियत

वृश्चिक राशि के जातकों की एक और बड़ी खासियत भी है और वो यह कि ये लोग दूसरे के दिमाग को काफी तेजी से पढ़ लेते हैं इसलिए कोई इन्हें जल्दी धोखा नहीं दे सकता। इसी खूबी की वजह से वृश्चिक राशि के जातक अपने कई कामों में सफल हो जाते हैं क्योंकि भविष्य में उन्हें सफलता मिलेगी या नहीं, यह वे पहले ही अपने अतर्मन से जान लेते हैं।

बुराईयां

चलिए यह तो सारी अच्छी बातें थीं, लेकिन बुराईयों का भी भंडार है वृश्चिक राशि के जातकों के पास। दरअसल यह बुराईयां ना होकर इनके स्वहाव का हिस्सा है, जो दूसरे लोगों को पसंद नहीं आता। लेकिन फिर भी वृश्चिक राशि के जातक खुद को किसी के लिए भी बदलते नहीं हैं।

दुश्मनी पूरी तरह निभाते हैं

जैसा कि हमने बताया कि वृश्चिक राशि के जातक सच्चे मित्र कहलाते हैं, लेकिन यदि आप जिनसे दुश्मनी मोल लें तो ये उसे भी पूरी तरह निभाते हैं। आप इन्हें के पल के लिए परेशान तो करके देखिए, वे उसी पल जोरदार वार के साथ उसका जवाब देंगे। अन्य सभी राशियों की तुलना में वृश्चिक राशि के जातक दुश्मनों को सबक सिखाने मंन कई कदम आगे हैं।

दूसरों से जलते हैं

लेकिन यदि स्वभाव की गहराई की बात करें तो माफ कीजिएगा, वृश्चिक राशि के जातक दूसरों से जलते हैं। किसी की खुशी, या मन मुताबिक कोई काम ना हो तो ये अति परेशान हो जाते हैं। अगली बात यह कि वृश्चिक राशि के जातक के मन में क्या चल रहा है यह आप जल्दी पता नहीं लगा सकते।

गुप्त सवभाव

ये काफी गुप्त सवभाव के होते हैं, इसलिए इनके चरित्र का ही सही अंदाजा लगा पाना एक कठिन कार्य है। इनकी निगेटिव बातों में आखिरी बात है कि वृश्चिक राशि के जातक दूसरों पर दबाव डालना पसंद करते हैं। अपनी बात मनवाने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं।

परफेक्ट पार्टनर

चलिए इस राशि की अच्छी और बुरी दोनों बातें जानने के बाद यह भी जान लें कि कुल 12 राशियों में से किस राशि के साथ वृश्चिक राशि के जातक के अच्छी बनती है। आगे की स्लाड्स में एक-एक करके जानिए वृश्चिक राशि के जातक के लिए कौन है परफेक्ट पार्टनर.......

मेष और वृषभ राशि

सबसे पहली राशि है मेष राशि, जिसके साथ यदि वृश्चिक राशि की जोड़ी बनी तो दोनों में शारीरिक संबंध तो सही होंगे क्योंकि दोनों का ही अंदाज़ जोशीला है लेकिन एक लंबे रिश्ते के लिए यह जोड़ी सही नहीं है। इसके बाद वृषभ राशि के साथ या तो वृश्चिक राशि की परफेक्ट जोड़ी बनती है या फिर दोनों में दुश्मनी का माहौल बनता है। इसलिए यह किस्मत की बात है कि ये जोड़ी चलेगी या नहीं...

मिथुन और कर्क राशि

मिथुन राशि के साथ वृश्चिक राशि की जोड़ी बनने की संभावना कुछ खास नहीं है, क्योंकि एक कपल में सबसे महत्वपूर्ण होता है एक-दूसरे के प्रति आकर्षण जो चाहकर भी ये एक दूसरे के लिए लेकर नहीं आ सकते। अगली राशि है कर्क राशि, जो किसी भी हाल में वृश्चिक राशि के जातकों के लिए एक परफेक्ट मैच है। दोंनों समझदार हैं, अपना अच्छा-बुरा समझते हैं और दोनों ही प्यार में जुनून को मानते हैं।

सिंह राशि

सिंह राशि के जातक अपने क्रोध के लिए जाने जाते हैं जिसकी वजह से इनके हर किसी से अच्छी संबंध नहीं बनते, लेकिन वृश्चिक राशि की ओर ये सेक्सुअली आकर्षित हो जाते हैं। सिंह के बाद कन्या राशि और वृश्चिक राशि की जोड़ी की बात करें तो यह जोड़ी परफेक्ट तो नहीं, लेकिन बुरी भी नहीं है।

तुला राशि

अगली जोड़ी है तुला राशि और वृश्चिक राशि की... यदि ये प्रेम संबंध में हों तो प्यार की हर सीमा को लांघ सकते हैं। प्यार में शारीरिक संबंध बनाना इस जोड़ी के लिए साधारण बात है, लेकिन इस प्यार को शादी का रूप देना इनके लिए कठिन हो जाता है।

वृश्चिक और वृश्चिक

अब बात करते हैं वृश्चिक और वृश्चिक, यानी कि एक ही राशि से बनी जोड़ी की। अब राशि एक है तो आदतें भी एक ही होंगी, पसंद एक है तो गुस्सा और तकरार भी के जैसी होगी। इसलिए यह जोड़ी अच्छी रही तो दुनिया के लिए मिसाल होगी, लेकिन बिगड़ गई तो इन्हें सही राह कोई नहीं दिखा सकता।

धनु और मकर राशि

धनु और वृश्चिक राशि के जातक यदि दोस्त हैं तो यह दोस्ती परफेक्ट कहलाएगी, लेकिन यदि प्रेमी हैं तो शारीरिक संबंध तो अच्छा होगा परंतु आपसी समझ में कमी होगी। मकर और वृश्चिक राशि के मामले में ना तो कुछ बहुत अच्छा रहेगा और ना ही कुछ बुरा होगा। एक लंबा रिश्ता चलाने के लिए यह जोड़ी सही है।

कुंभ और मीन राशि

वृश्चिक और कुंभ राशि की बात करें तो हमारी सलाह यही होगी कि इन दो राशियों को कभी एक ना होने दें। क्योंकि इस जोड़ी को ना तो रिलेशनशिप की खुशी मिलेगी और ना ही ये अपने रिश्ते को कभी फलता-फूलता देख पाएंगे। वृश्चिक और मीन राशि की जोड़ी को आप परफेक्ट कह सकते हैं, दोनों का ही खुश्मिजाज़ स्वभाव, जिंदगी को खुशी से जीने की ललक इन्हें अच्छा जोड़ीदार बनाती हैं, लेकिन तब तक जब तक्क आत्म सम्मान इनके बीच में ना आए।

RELATED POST

आज का राशिफलअसंतोष का भाव दुःख और संतोष का भाव सुख देता हैकेवल दो राशियों के साथ परफेक्ट बनती है वृश्चिक राशि के जातक की जोड़ीराशिफल 17 दिसंबर : जोखिम और जल्दबाजी से बचें