जयदेव गीत गोविन्द रतिमंजरी #EDUCRATSWEB

  • Home
  • Jobs
  • Q&A
  • Register
  • Login

  • जयदेव

    जयदेव (१२०० ईस्वी के आसपास) संस्कृत के महाकवि हैं जिन्होंने गीत गोविन्द और रतिमंजरी रचित किए थे। जयदेव, लक्ष्मण सेन शासक के दरबारी कवि थे । जयदेव एक वैष्णव भक्त और संत के रूप में सम्मानित थे। उनकी कृति ‘गीत गोविन्द’ को श्रीमद्‌भागवत के बाद राधाकृष्ण की लीला की अनुपम साहित्य-अभिव्यक्ति माना गया है। संस्कृत कवियों की परंपरा में भी वह अंतिम कवि थे, जिन्होंने ‘गीत गोविन्द’ के रूप में संस्कृत भाषा के मधुरतम गीतों की रचना की। कहा गया है कि जयदेव ने दिव्य रस के स्वरूप राधाकृष्ण की रमणलीला का स्तवन कर आत्मशांति की सिद्धि की। भक्ति विजय के रचयिता संत महीपति ने जयदेव को श्रीमद्‌भागवतकार व्यास का अवतार माना है।

    परिचय एवं प्रशंसा

    ‘भक्तमाल’ के लेखक नाभादास ने ब्रजभाषा में जयदेव की प्रशंसा करते हुए लिखा है- ‘कवि जयदेव, कवियों में सम्राट हैं, जबकि अन्य कवि छोटे राज्यों के शासकों के समान हैं। तीनों लोकों में उनके ‘गीत गोविन्द’ की आभा फैल रही है। यह रचना काम-विज्ञान, काव्य, नवरस तथा प्रेम की आनंदमयी कला का भंडार है, जो उनके अष्टपदों का अध्ययन करता है, उसकी बुद्धि की वृद्धि होती है। राधा के प्रेमी कृष्ण उन्हें सुनकर प्रसन्न होते हैं और अवश्य ही उस स्थान पर आते हैं, जहां ये गीत गाए जाते हैं। जयदेव वह सूर्य हैं जो कमलवत नारी, पद्मावती को सुख की प्राप्ति कराते हैं। वे संतरूपी कमल-समूह के लिए भी सूर्य की भांति हैं। कवि जयदेव कवियों में सम्राट हैं।’

    जयदेव ने ‘गीत गोविन्द’ के माध्यम से, राधाकृष्ण वैष्णव धर्म का प्रचार किया। इसलिए ‘गीत गोविन्द’ को वैष्णव साधना में भक्तिरस का शास्त्र कहा गया है। जयदेव ने ‘गीत गोविन्द’ के माध्यम से उस समय के समाज को, जो शंकराचार्य के सिद्धांत के अनुरूप आत्मा और मायावाद में उलझा हुआ था, राधाकृष्ण की रसयुक्त लीलाओं की भावुकता और सरसता से जन-जन के हृदय को आनंदविभोर किया। जयदेव का जन्म वीरभूमि के केन्दुबिल्वगांव में हुआ। यह वैष्णव तीर्थयात्रियों के लिए, पश्चिम बंगाल में, आज भी एक महत्वपूर्ण तीर्थस्थान है। यहां वार्षिक मेला लगता है जिसमें वैष्णव संतों, साधकों और महंतों का समागम होता है।

    जयदेव जगन्नाथ जी के दर्शन करने पुरी जा रहे थे। उसी यात्रा के दौरान उनहें गीत गोविन्द की रचना की प्रेरणा मिली। कहते हैं- पुरुषोत्तम क्षेत्र पहुंचकर उन्होंने जगन्नाथ का दर्शन किया। एक विरक्त संन्यासी की तरह वृक्ष के नीचे रहकर भगवान का भजन-कीर्तन करने लगे। उनके वैराग्य से प्रेरित होकर, वहां अन्य बड़े संत-महात्माओं का सत्संग होने लगा। फिर एक जगन्नाथ भक्त ने प्रभु की प्रेरणा से अपनी कन्या पद्मावती का विवाह जयदेव से कर दिया। वह गृहस्थ होकर भी संत का जीवन जीते रहे।

    जयदेव ने राधाकृष्ण की, शृंगार-रस से परिपूर्ण भक्ति का महिमागान एवं प्रचार किया। जयदेव के राधाकृष्ण सर्वत्र एवं पूर्णत: निराकार हैं। वे शाश्वत चैतन्य-सौन्दर्य की साक्षात अभिव्यक्ति हैं। अपनी काव्य रचनाओं में जयदेव ने राधाकृष्ण की व्यक्त, अव्यक्त, प्रकट एवं अप्रकट- सभी तरह की लीलाओं का भव्य वर्णन किया है।

    जयदेव गीत गोविन्द रतिमंजरी
    educratsweb.com

    Posted by: educratsweb.com

    I am owner of this website. I Love blogging and Enjoy to listening old song. ....
    Enjoy this Author Blog/Website visit http://twitter.com/educratsweb

    if you have any information regarding Job, Study Material or any other information related to career. you can Post your article on our website. Click here to Register & Share your contents.
    For Advertisment or any query email us at educratsweb@gmail.com

    RELATED POST
    1. Download useful Contents (Chapterwise) in PDF Format for Class 1 to 12
    Download useful Contents (Chapterwise) in PDF Format for Class 1 to 12 Chapter 0- गणित में उपपत्तियाँ Chapter 0- गणितीय निदर्शन
    2. पटना शहर के 10 ऐसे स्कूल जिनकी शिक्षा का स्तर है काफी ऊँचा
    हर बच्चे को शिक्षित होने का पूरा अधिकार है और आज के आधुनिक समय में अच्छे से अच्छे स्कूल से सर्वाधुनिक सुविधाओं के साथ शिक्षा प्राप्त करना आवश्यक हो गया है. भारत में आज सभी स्कूल, चाहे वो निजी हों य
    3. गोस्वामी तुलसीदास (1532-1623ई.)
    गोस्वामी तुलसीदास (1532-1623ई.) तुलसीदास का जन्म राजापुर के एक ब्राह्मण परिवार में हुआ। पिता आत्माराम तथा माता हुलसी को इन्होंने बचपन में ही खो दिया तथा अनाथ हो गए। बालपन नितांत निर्धनत
    4. जयशंकर प्रसाद(1889-1937 ई.)
    जयशंकर प्रसाद(1889-1937 ई.) जयशंकर प्रसाद का जन्म काशी के प्रसिध्द और प्रतिष्ठित ‘सुंघनी साहू’ परिवार में हुआ। बाल्यावस्था में ही माता-पिता स्वर्गवासी हुए। मिडिल पास करके 'प्रसाद ने 12 व
    5. सूर्यकांत त्रिपाठी निराला(1896-1961 ई.)
    सूर्यकांत त्रिपाठी निराला(1896-1961 ई.) 'निराला ‘का जन्म बंगाल के मेदिनीपुर जिले के महिषादल में हुआ। शिक्षा संस्कृत, बंगला और अंग्रेजी में हुई। हिंदी इन्होंने स्वयं व्याकरण के सहारे सीख
    6. मैथिलीशरण गुप्त(1886-1964 ई.)
    मैथिलीशरण गुप्त(1886-1964 ई.) साहित्य जगत में 'दद्दा नाम से प्रसिध्द राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त का जन्म झांसी के चिरगांव ग्राम में हुआ। इनकी शिक्षा घर पर ही हुई। ये भारतीय संस्कृति एवं वैष
    7. कालिदास
    कालिदास कालिदास संस्कृत भाषा के सबसे महान कवि और नाटककार थे। कालिदास नाम का शाब्दिक अर्थ है, "काली का सेवक"। कालिदास शिव के भक्त थे। उन्होंने भारत की पौराणिक कथाओं और दर्शन को आधार
    8. हिन्दी गद्य साहित्य के प्रमुख साहित्यकार | नौवीं शताब्दी से लेकर आज तक के प्रमुख हिन्दी कवि | संस्कृत साहित्यकार
    हिन्दी गद्य साहित्य के प्रमुख साहित्यकार मोहनदास करमचंद गाँधी मुंशी प्रेमचंद इंशा अल्ला खां चन्द्रधर शर्मा 'गुलेरी' रवीन्द्रनाथ ठाकुर अज्ञेय अमृतलाल नागर
    9. Premchand (1880-1936)
    Premchand (1880-1936) Premchand was the pen name adopted by the Hindi writer Dhanpatrai who was born on 31 July 1880 at Lamahi near Varanasi. His early education was in a madarasa under a Maulavi, where he learnt Urdu. When he was studying in the ninth class he was married, much against his wishes. He was then fifteen. In 1919, while he was a teacher at Gorakhpur, he passed his B.A., with English, Persian and History. He had a second marriage with Shivarani Devi, a child-wido
    10. वेदव्यास
    वेदव्यास ऋषि वेदव्यास महाभारत ग्रंथ के रचयिता थे। उन्होने ही अट्ठारह पुराणों की भी रचना की। वेदव्यास के जन्म की कथा प्राचीन काल में सुधन्वा नाम के एक राजा थे। वे एक दिन
    11. जयदेव गीत गोविन्द रतिमंजरी
    जयदेव जयदेव (१२०० ईस्वी के आसपास) संस्कृत के महाकवि हैं जिन्होंने गीत गोविन्द और रतिमंजरी रचित किए थे। जयदेव, लक्ष्मण सेन शासक के दरबारी कवि थे । जयदेव एक वैष्णव भक्त और संत के रूप में सम्मान
    We would love to hear your thoughts, concerns or problems with anything so we can improve our website educratsweb.com ! visit https://forms.gle/jDz4fFqXuvSfQmUC9 and submit your valuable feedback.
    Save this page as PDF | Recommend to your Friends
    Add FREE Listing to Bharatpages Business Directory
    Read this site in Bengali English Gujarati Hindi Kannada Punjabi Tamil Telugu Urdu or Any other Language Google's cache Page
    January 15 - Historical Events - On This Day
    Army Day - 15 January  IMAGES, GIF, ANIMATED GIF, WALLPAPER, STICKER FOR WHATSAPP & FACEBOOK
    Army Day - 15 January
    #15January

    Bihar Government Calendar 2021  IMAGES, GIF, ANIMATED GIF, WALLPAPER, STICKER FOR WHATSAPP & FACEBOOK Bihar Government Calendar 2021

    Recent Posts

     Happy New Year 2021 Images   IMAGES, GIF, ANIMATED GIF, WALLPAPER, STICKER FOR WHATSAPP & FACEBOOK Happy New Year 2021 Images

    Jobs & Career Engineering Faculty & Teaching Defense & Police UPSC Scholorship Railway IT & Computer SSC Clerk & Steno UGC NET
    Contents News Education General Awareness Government Schemes Admit Card Study Material Exam Result Scholorship DATA Syllabus Contact us
    Explore more Archives Web Archive Register / Login Rss feed Posts Free Online Practice Set Useful Links / Sitemap Photo / Video Search Pincode Best Deal Greetings Recent Jobs Guest Contributor educratsweb Latest Jobs Notification sarkariniyukti.blogspot.com Bharatpages - BUSINESS DIRECTORY IN INDIA - FREE ONLINE BUSINESS LISTING
    Our Blog Bhakti Sangam chitragupta ji maharaj shri shirdi sai baba sansthan

    Guest Post | Submit   Job information   Contents   Link   Youtube Video   Photo   Practice Set   Affiliated Link   Register with us Register login Login
    educratsweb logo
    educratsweb provide the educational contents, Job, Online Practice set for students.
    if you have any information regarding Job, Study Material or any other information related to career. you can Post your article on our website. Click here to Register & Share your contents.
    For Advertisment email us at educratsweb@gmail.com
    Search | http://educratsweb.com/content.php?id=741