educratsweb logo


दाँतों के डॉक्टर के पास क्यों जाएँ?

 

पुराने ज़माने में, जब दाँतों के डॉक्टर या डेंटिस्ट नहीं हुआ करते थे, तब लोगों को अकसर बचपन से ही दाँतों के दर्द और दाँत गिरने की शिकायत रहती थी। दाँतों के काले पड़ने, टेढ़े-मेढ़े होने या टूटने की वजह से कई लोगों का चेहरा बिगड़ जाता था। बुढ़ापे में जिनके दाँत गिर जाते थे, वे खाना चबा न पाने की वजह से कुपोषण और बेवक्‍त मौत के शिकार हो जाते थे। मगर आज डेंटिस्ट से इलाज करवाने पर ज़्यादातर लोग दर्द से छुटकारा पा सकते हैं, ज़िंदगी-भर अपने दाँतों को सही-सलामत रख सकते हैं, और खुलकर मुस्करा भी सकते हैं। डेंटिस्ट ऊपर बतायी इन तीन बातों में किस तरह कामयाब हुए हैं?

दाँतों के दर्द और उन्हें गिरने से बचाने का एक अहम तरीका है, लोगों को दाँतों की देखभाल करने की शिक्षा देना और समय-समय पर दाँतों का चेकअप कराना। यीशु ने कहा था: “वैद्य भले चंगों के लिये नहीं” हैं। (लूका 5:31) इस शिक्षा की वजह से कुछ लोगों को इतना फायदा हुआ है कि उन्हें अपने दाँतों का इलाज करवाने की कभी ज़रूरत ही नहीं पड़ी।* मगर फिर भी, बहुत-से लोग दाँतों के डॉक्टर के पास नहीं जाते हैं। उनमें से कुछ लोगों को अपने दाँतों की कोई खास परवाह नहीं है। दूसरे ऐसे हैं, जो सोचते हैं कि इलाज में बहुत पैसे खर्च होंगे। और कुछ तो डेंटिस्ट से इलाज करवाने का नाम सुनते ही डर जाते हैं। आप चाहे जो भी सोचें, मगर खुद से ये सवाल पूछना फायदेमंद है: डेंटिस्ट मेरे लिए क्या कर सकते हैं? क्या उनके पास जाने से मुझे फायदा होगा? दाँतों की देखभाल करना और चेकअप करवाना क्यों ज़रूरी है, यह समझने के लिए पहले हमें जानना होगा कि डेंटिस्ट आखिर किस बात की रोकथाम करने की कोशिश करते हैं।

दाँतों की तकलीफ कैसे शुरू होती है

डेंटिस्ट दाँतों के दर्द और उनके गिरने से रोकथाम कर सकते हैं। अगर आप उन्हें सहयोग दें, तो वे प्लाक के असर से लड़ने की कोशिश कर सकते हैं। प्लाक, मैल की एक पतली-सी परत होती है, जिसमें भरपूर जीवाणु होते हैं। ये जीवाणु दाँतों में फँसे खाने पर हमला करते हैं, और दाँतों पर चिपकी मीठी चीज़ों को अम्ल में बदल देते हैं। यही अम्ल दाँतों की ऊपरी परत, यानी इनैमल पर हमला करके उसमें छोटे-छोटे छेद कर देता है। धीरे-धीरे दाँतों में गड्ढे बनना शुरू हो जाते हैं। नतीजा, दाँत सड़ने लगते हैं। ऐसे में, शुरू-शुरू में शायद आपको कोई दर्द महसूस न हो, लेकिन एक बार अगर यह सड़न दाँतों के सबसे अंदरूनी हिस्से, यानी मज्जा (pulp) तक पहुँच जाए, तब आप दर्द से कराह उठेंगे।

प्लाक के जीवाणु एक और तरीके से आपको तकलीफ पहुँचाते हैं। वह कैसे? अगर प्लाक को ब्रश से अच्छी तरह साफ न किया जाए, तो यह कैल्शियम की एक कठोर पपड़ी बन जाती है, जिसे टार्टर कहते हैं। इसकी वजह से मसूड़ों में सूजन हो सकती है और मसूड़े दाँतों से खिंचने लग सकते हैं। नतीजा, दाँतों और मसूड़ों के बीच खाली जगह बन जाती है, जिनमें भोजन के कण फँस जाते हैं और जीवाणु पनपने लगते हैं। और यही जीवाणु आपके मसूड़ों पर हमला करके उसे नुकसान पहुँचाते हैं। आपके डॉक्टर आपके दाँतों को टार्टर से बचा सकते हैं। लेकिन अगर आप इस समस्या को नज़रअंदाज़ करें, तो दाँतों के आस-पास के ऊतक इस कदर खराब हो सकते हैं कि आपके दाँत टूटकर गिर सकते हैं। इस तरह जितने दाँत गिरते हैं, उतने तो इसके सड़ने से भी नहीं गिरते।

जीवाणुओं के इस दुगुने हमले से बचने में कुछ हद तक आपकी लार काम आती है। आपने चाहे भर-पेट खाना खाया हो या बस एक बिस्किट, मुँह में बचे-खुचे खाने को साफ करने और अम्ल के असर को कम करने के लिए लार को करीब 15 से 45 मिनट लगते हैं। लेकिन आपके दाँतों में किस हद तक मीठी चीज़ें या खाना फँसा हुआ है, उस हिसाब से लार को कम या ज़्यादा वक्‍त लग सकता है। और शायद इसी दौरान आपके दाँतों को नुकसान पहुँचता है। इसलिए कहा जा सकता है कि आप एक बार में जितनी मीठी चीज़ें खाते हैं, उससे उतना नुकसान नहीं होता जितना कि तब होता है, जब आप दिन-भर में कई दफा खाते हैं। सोते समय हमारे मुँह में लार कम बनती है। इसलिए अगर आप सोने से पहले मीठी चीज़ें खाते या पीते हैं, और ब्रश नहीं करते, तो आप अपने दाँतों को सबसे ज़्यादा नुकसान पहुँचा रहे होते हैं। वहीं दूसरी तरफ, कहा जाता है कि खाना खाने के बाद शुगर-फ्री च्यूइंग-गम चबाने से ज़्यादा लार बनती है, जिससे दाँतों की हिफाज़त होती है।

दाँतों और मसूड़ों की देखभाल में डॉक्टरों की कोशिश

डेंटिस्ट सुझाव देते हैं कि समय-समय पर दाँतों का चेकअप कराना ज़रूरी है और दाँतों की हालत के मुताबिक, हमें साल में एक या दो बार ऐसा करना पड़ सकता है। हो सकता है चेकअप के दौरान, डॉक्टर आपके दाँतों की जाँच करे और उनका एक्स-रे ले, यह देखने के लिए कि कहीं वे सड़ तो नहीं गए हैं। आम तौर पर वे दाँतों को सुन्न करके और हाई-स्पीड ड्रिल की मदद से गड्ढों को भर सकते हैं। इस दौरान आपको कोई दर्द नहीं होगा। मगर जो लोग फिर भी डरते हैं, उनका इलाज करने के लिए अब कुछ डेंटिस्ट लेज़र या एक ऐसे जैल का इस्तेमाल करते हैं, जो सड़न को खा जाता है। इस तकनीक की बदौलत ड्रिल का इस्तेमाल करने या दाँतों को सुन्न करने की बहुत ही कम ज़रूरत पड़ती है या फिर बिलकुल भी ज़रूरत नहीं पड़ती। जब बच्चों के दाँतों की बात आती है, तो डॉक्टर उनकी नयी दाढ़ों की खास जाँच करते हैं। क्यों? यह देखने के लिए कि कहीं उनकी ऊपरी सतह पर, जहाँ खाने को चबाया जाता है, किसी तरह की दरार तो नहीं है, जिसे टूथब्रश से साफ करना मुश्किल होगा। अगर डेंटिस्ट को दरार नज़र आते हैं, तो हो सकता है वे इन्हें सीलेंट, यानी एक प्लास्टिक पदार्थ से बंद करने की सलाह दें। इससे दाँतों की सतह सपाट हो जाती है और ब्रश करने में आसानी होती है। इस तरह दाँतों को सड़ने से बचाया जा सकता है।

जब बड़ों की बात आती है, तो डेंटिस्ट उनके मसूड़ों का खास ख्याल रखते हैं, ताकि उनमें बीमारी न लगे। इसलिए अगर वे पाते हैं कि उनके दाँतों में टार्टर जमकर सख्त हो गया है, तो वे उसे खुरचकर निकाल देते हैं। कई लोग हर बार ब्रश करते वक्‍त, दाँतों के कुछ जगहों पर ब्रश नहीं करते। ऐसे में डेंटिस्ट शायद उन्हें सलाह दें कि वे ब्रश कैसे कर सकते हैं। कुछ डेंटिस्ट अपने मरीज़ों को डेंटल हाइजिनिस्ट के पास भेजते हैं। ये ऐसे डॉक्टर होते हैं, जिन्हें दाँतों से टार्टर निकालने और ब्रश करने का सही तरीका सिखाने का खास तजुरबा होता है।

खराब दाँतों को बहाल करना

अगर आपके दाँत सड़ गए हैं, टूट गए हैं या टेढ़े-मेढ़े हैं, तो आपको यह जानकर खुशी होगी कि अब डेंटिस्ट के पास इन्हें ठीक करने की कई नयी तकनीकें मौजूद हैं। लेकिन इस तरह के इलाज काफी महँगे होते हैं, इसलिए हो सकता है कि शायद आपको अपनी हैसियत से ज़्यादा खर्च करना पड़े। फिर भी, कई लोगों को लगता है कि इलाज जितना महँगा है, उतना बढ़िया फायदा भी मिलता है। हो सकता है, डेंटिस्ट आपको इस काबिल बना दें कि आप फिर से खाना चबा सकें। या यह भी हो सकता है कि आपके टेढ़े-मेढ़े दाँत ठीक करके वे आपकी मीठी मुस्कान लौटा दें। यकीनन, यह कोई मामूली बात नहीं है, क्योंकि बेतरतीब दाँतों का आपकी ज़िंदगी पर असर पड़ सकता है।

अगर आपके दाँत पीले पड़ जाएँ या इसका एक छोटा टुकड़ा टूट जाए, तो डॉक्टर विनियर चढ़ाने की सलाह दे सकते हैं। विनियर, चीनी मिट्टी का बना हो सकता है और दिखने में हू-ब-हू असली दाँत जैसा होता है। इसे खराब दाँत के ऊपर चिपकाया जाता है, जिससे कि वह दाँत दिखने में एकदम नया लगे। जो दाँत कुछ ज़्यादा ही खराब होते हैं, डेंटिस्ट उन पर खोल या टोपी चढ़ाने की सलाह देते हैं, जिसे अकसर क्राउन कहा जाता है। क्राउन आपके खराब दाँत को पूरी तरह ढक देता है। यह सोने का या फिर ऐसे पदार्थ का बना होता है, जो आपके दाँतों के रंग से पूरी तरह मेल खाता हो। और-तो-और, इसकी ऊपरी सतह भी एकदम नयी हो जाती है।

आपके दाँत गिरने पर डेंटिस्ट क्या कर सकते हैं? वे या तो नकली दाँत फिट कर सकते हैं, या फिक्स्ड ब्रीज लगा सकते हैं। फिक्स्ड ब्रीज भी एक तरह का नकली दाँत होता है, जिसके दोनों तरफ टोपी होती है। इन टोपियों को टूटे हुए दाँत के दोनों तरफ असली दाँतों पर लगा दिया जाता है। और बीच का नकली दाँत, जो एक या एक-से-ज़्यादा हो सकते हैं, एक मज़बूत पुल की तरह काम करता है। एक और तरीका जो काफी मशहूर होता जा रहा है, वह है इम्प्लान्ट। इसमें डॉक्टर जबड़ों में उस जगह पर टाइटेनियम का स्क्रू बिठाते हैं, जहाँ से दाँत टूटकर गिर गया है। और कुछ समय बाद जब चारों तरफ की हड्डी मज़बूत हो जाती है और मसूड़े वापस बढ़ जाते हैं, तब स्क्रू के ऊपर नकली दाँत बिठा दिया जाता है। यह बिलकुल असली दाँत की तरह काम करता है।

अगर किसी के दाँत बेडौल हों, तो उसे शर्मिंदगी उठानी पड़ सकती है। साथ ही, इन्हें साफ करना भी मुश्किल होता है, जिस वजह से इनमें बीमारी लगने का खतरा ज़्यादा होता है। अगर ऊपर और नीचे के दाँत एक सीध में नहीं हैं, तो दाँतों में काफी दर्द हो सकता है और खाना चबाने में भी दिक्कत हो सकती है। मगर खुशी की बात यह है कि डेंटिस्ट तारों, पट्टियों वगैरह की मदद से आम तौर पर बेडौल दाँतो को सीधा कर सकते हैं। इस क्षेत्र में हाल में हुई तरक्कियों की वजह से आज ऐसे तार उपलब्ध हैं, जो लगाने पर न तो नज़र आते हैं और ना ही जिन्हें बार-बार कसने की ज़रूरत पड़ती है।

आजकल कुछ डेंटिस्ट साँसों की बदबू का इलाज करने पर ज़्यादा ध्यान दे रहे हैं। ज़्यादातर लोगों की साँसों से कभी-कभार बदबू आती है, और कुछ लोगों की साँसों से हर समय बदबू आती है। इसकी कई वजहें हो सकती हैं। कुछ दाँतों के डॉक्टरों के पास ऐसी तकनीक है, जिसकी बदौलत वे साँस की बदबू की सही वजह मालूम कर सकते हैं। ज़्यादातर मामलों में यह वजह जीवाणु होते हैं, जो जीभ के अंदरूनी हिस्से में पनपते हैं। अगर हम जीभ को ब्रश से साफ करें या उसे अच्छी तरह घिसें, तो इस समस्या से निजात पाया जा सकता है। इसके अलावा, क्योंकि शुगर-फ्री च्यूइंग-गम खाने से ज़्यादा लार बनती है, इसलिए इससे भी साँस की बदबू पर काबू पाया जा सकता है। खासकर दूध की बनी चीज़ें, गोश्त या मछली खाने के बाद दाँत साफ करना बेहद ज़रूरी है।

डर पर काबू पाना

अगर डेंटिस्ट का नाम सुनते ही आपके पसीने छूटने लगते हैं, तो घबराइए मत। आपके डर पर काबू पाने में आपके डेंटिस्ट आपकी मदद करने के लिए तैयार हैं। इसलिए उन्हें खुलकर बताइए कि आप कैसा महसूस करते हैं। उन्हें यह भी बताइए कि इलाज के वक्‍त, जब आपको दर्द हो या डर लगने लगे, तो आप अपने हाथों से क्या इशारा करेंगे, जिससे उन्हें फौरन पता चल जाए कि आप क्या महसूस कर रहे हैं। कई मरीज़ों ने पाया है कि यह तरीका अपनाकर वे अपने डर पर काबू पा सके हैं।

हो सकता है, आप इस बात से डर रहे हों कि आपके दाँतों की हालत देखकर डेंटिस्ट आप पर बरस पड़ेंगे और उनकी अच्छी देखभाल न करने पर आपको डाँटेंगे। मगर याद रखिए, अगर वे ऐसा करेंगे, तो नुकसान उनका ही होगा, क्योंकि लोग इलाज के लिए उनके पास जाना ही बंद कर देंगे। इसलिए मुमकिन है कि आपका डर बेबुनियाद है। ज़्यादातर डेंटिस्ट अपने मरीज़ों के साथ प्यार से पेश आते हैं।

कई लोग डेंटिस्ट के पास जाने से इसलिए कतराते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि इसमें बहुत पैसे खर्च होंगे। लेकिन अगर आप अभी से चेकअप करवाकर अपने दाँतों को सही हालत में रखें, तो बाद में उठनेवाली समस्याओं और महँगे इलाज से आप बच सकते हैं। कई जगहों पर किफायती से लेकर महँगे डेंटिस्ट होते हैं। यहाँ तक कि छोटे-से-छोटे दाँतों के क्लिनिक में आपको एक्स-रे मशीन और हाई-स्पीड ड्रिल की सुविधाएँ मिल सकती हैं। डेंटिस्ट ज़्यादातर इलाज इस तरीके से करते हैं, जिससे कि मरीज़ों को कम-से-कम तकलीफ हो। सुन्न करने की दवाइयाँ भी सस्ती हैं और एक गरीब आदमी भी इसे खरीद सकता है।

डेंटिस्ट का काम दर्द बढ़ाना नहीं, बल्कि दर्द से राहत दिलाना है। आपके दादा-दादी के ज़माने के मुकाबले, आज दाँतों के इलाज में काफी सुधार आया है। अगर आपके दाँत तंदुरुस्त रहेंगे, तो आपकी सेहत अच्छी होगी और आप ज़िंदगी का पूरा-पूरा लुत्फ उठा पाएँगे। अगर यही बात है, तो फिर, क्यों न दाँतों के डॉक्टर के पास जाएँ? आपको शायद खुशी और ताज्जुब भी हो कि यह अनुभव उतना बुरा नहीं, जितना कि आपने सोचा था।

 

 

Adult Teeth & Tooth Eruption , Antibiotics Before Dental Treatment , Baby Bottles to Cups , Baby Teeth, First Teeth, Primary Teeth , Baby Teeth & Tooth Eruption , Basic Oral Care , Bisphosphonate Medication & Dental Care , Bottled Water & Dental Care , Brides & Smiles , Burning Mouth Syndrome Treatment , Cancer Treatment & Dental Care , Canker Sores & Cold Sores , Choosing Oral Care Products , Cosmetic Dentistry , Cracked Tooth Repair: Treatment & Costs , Dental Anesthesia & Visiting a Dentist , Dental Bonding: Treatment & Costs , Dental Braces: Treatment & Costs , Dental Bridges: Treatment & Costs , Dental Check-Ups: Costs & Information , Dental Crowns/Tooth Caps: Information & Costs , Dental Fillings: Procedure & Costs , Dental Implants: Procedure & Costs , Dental Mouthguards , Dental Phobia, Dental Fear, Dental Anxiety , Dental Sealants , Dental Veneers: Treatment & Costs , Dentures & False Teeth: Information & Costs , Diabetes & Dental Care , Dry Mouth, Xerostomia , Eating Habits that Can Harm Teeth , Endodontics: Treatment & Costs , Fluoride , Gum Disease (Gingivitis): Treatment & Costs , Halitosis & Dental Care , Halitosis Treatment , Medication & Dental Care , Methamphetamine Use & Dental Care , Oral Cancer & Protecting Yourself , Oral Piercing & Dental Care , Periodontal Disease & Prevention , Periodontal Disease & Treatment , Poor Oral Health Linked to General Health , Pregnancy & Teeth , Root Canal Treatment & Costs , Secrets to Improving Your Smile , Sensitive Teeth Treatment , Smoking, Tobacco & Dental Care , Teeth Grinding Treatment - Bruxism , Teeth Whitening Treatment & Costs , Toothbrush Care, Cleaning & Replacement , Tooth Decay & Diet , White Tooth Fillings , Wisdom Teeth Removal: Treatment & Costs ,

educratsweb.com

Posted by: educratsweb.com

I am owner of this website and bharatpages.in . I Love blogging and Enjoy to listening old song. ....
Enjoy this Author Blog/Website visit http://twitter.com/bharatpages

if you have any information regarding Job, Study Material or any other information related to career. you can Post your article on our website. Click here to Register & Share your contents.
For Advertisment or any query email us at educratsweb@gmail.com

RELATED POST
1. समस्त रोगों की जड़ है रात्रि भोजन
समस्त रोगों की जड़ है रात्रि भोजन किसी भी चिड़िया को डायबिटीज नहीं होती। किसी भी बन्दर को हार्ट अटैक नहीं आता । कोई भी जानवर न तो आयोडीन नमक खाता है और न ब्रश करता है, फिर भी किसी को
2. वैज्ञानिक लहसुन के तेल का इस्तेमाल कर कोविड रोधी दवा बनाने के काम में जुटे
वैज्ञानिक लहसुन के तेल का इस्तेमाल कर कोविड रोधी दवा बनाने के काम में जुटे   मोहाली में बायोटेक्नोलॉजी सेंटर ऑफ इनोवेटिव एंड एप्लाइड बायोप्रोसेसिंग (डीबीटी-सीआईएबी) विभाग ने ऐसी
3. पतंजलि का दावा - बना ली कोरोना की दवा
पतंजलि का दावा - बना ली कोरोना की दवा चीन और अमेरिका के शीत युद्ध से भी बड़ा एक और युद्ध दुनिया में चल रहा है और यह है कोरोना के विरुद्ध दवा ढूंढ कर उसे परास्त करने के प्रयास का युद्ध. इस युद
4. अध्ययन प्रदर्शित करते हैं कि कोविड-19 सेंट्रल नर्वस सिस्टम को प्रभावित कर सकता है जिससे गंध और स्वाद खत्म हो सकता है
अध्ययन प्रदर्शित करते हैं कि कोविड-19 सेंट्रल नर्वस सिस्टम को प्रभावित कर सकता है जिससे गंध और स्वाद खत्म हो सकता है   भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी),जोधपुर के वैज्ञानिकों ने
5. जो लोग वज़न कम कर रहे हैं, उनके लिए ये है डाइट चार्ट
  वज़न कम करने के लिए डाइट पर खास ध्यान देना होता है। लो-कैलोरीज़ फूड्स के साथ ऊर्जा प्रदान करने वाला आहार भी लें। सुबह से लेकर रात को सोने से पहले तक क्या खाना है, प
6. आईआईटी बाम्‍बे के छात्रों ने कम लागत वाले मैकेनिकल वेंटिलेटर ‘रुहदार’ का विकास किया
आईआईटी बाम्‍बे के छात्रों ने कम लागत वाले मैकेनिकल वेंटिलेटर ‘रुहदार’ का विकास किया डिजाइन इवोवेशन सेंटर, आईयूएसटी पुलवामा ने इसे डिजाइन किया   सरकार ने कहा है कि “कोव
7. (राज्यवार) कोरोना वायरस टेस्टिंग लैबों की सूची देखें
Coronavirus Testing Lab List – भारत में दिन प्रतिदिन कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या बढती जा रही है। ऐसे में देखते हुए भारत तथा राज्य सरकार ने अपनी तैयारियों को अधिक दूरस्थ कर लिया है। भारत सरकार द्वारा द
8. घुटन से बचा सकता है मास्क पर इस हर्बल स्प्रे का छिड़काव
घुटन से बचा सकता है मास्क पर इस हर्बल स्प्रे का छिड़काव यह हर्बल डीकन्जेस्टैंट स्प्रे किसी इन्हैलर की तरह काम करता है इसका उपयोग पूरी तरह से सुरक्षित है स्प्रे करने के बाद मास्क का उप
9. Coronavirus Tips: Google ने Doodle बनाकर लोगों से घर में रहने का किया अनुरोध
टेक कंपनी गूगल (Google) काफी समय से कोरोना फाइटर्स को धन्यवाद देने के लिए डूडल बनाती आ रही है। अब इस कड़ी में कंपनी ने एक और डूडल बनाया है, जिसके जरिए लोगों से लॉकडाउन तक घर में रहने की अपील की है। साथ ह
10. सोनी सबवरील मालिका तेनाली रामा मध्‍ये शीर्षक भूमिका साकारणारा अभिनेता कृष्‍णा भारद्वाजने सांगितले आपले फिटनेस गुपित
सोनी सबवरील मालिका तेनाली रामा मध्‍ये शीर्षक भूमिका साकारणारा अभिनेता कृष्‍णा भारद्वाजने सांगितले आपले फिटनेस गुपित तुझ्या मते फिटनेसचा अर्थ काय आहे?
11. सोनी सब के ‘तेनाली रामा’ में मुख्‍य भूमिका निभा रहे कृष्‍णा भारद्वाज ने खोले फिटनेस के राज
सोनी सब के ‘तेनाली रामा’ में मुख्‍य भूमिका निभा रहे कृष्‍णा भारद्वाज ने खोले फिटनेस के राज आपके लिये फिटनेस का क्‍या मतलब है? मेरे लिये फिटनेस का मतलब है स्‍वस्‍
12. स्किल इंडिया ने महामारी के दौरान आवश्यक सेवाओं के लिए 900 सत्यापित पलम्बर की सूची मुहैया कराई है, जो दिशानिर्देशों का पालन करते हुए अपनी सेवा देंगे
स्किल इंडिया ने महामारी के दौरान आवश्यक सेवाओं के लिए 900 सत्यापित पलम्बर की सूची मुहैया कराई है, जो दिशानिर्देशों का पालन करते हुए अपनी सेवा देंगे इंडियन पल्बिंग स्किल्स काउंसिल (आईप
13. All Yoga Asanas Names With Pictures And Benefits in Hindi
अर्ध चन्द्रासन   अर्ध चन्द्रासन जैसा कि नाम से पता च
14. होमियोपैथी की ये दवाएं हैं बड़े काम की है ।
होमियोपैथी की ये दवाएं हैं बड़े काम की है । चाय छोड़ने के लिए - Aresenic 200 गुटखा, तम्बाकु, सिगरेट, बीड़ी छोड़ने के लिए - Phosphorous 200 शराब छोड़्ने के लिए - Sulphur 200 कांच, काँटा, बिच्छु के काटने पर - Sili
15. डायबिटीज (शुगर) के उपचार में - विजयसार (अमृतरस) के चमत्कारिक परिणाम
शुगर की बीमारी जिसे हम सामान्य बोलचाल की भाषा में मधुमेह या डायबिटीज के रुप में भी जानते हैं यह राजरोग के रुप में इन्सानी शरीर में अपनी जडें जमाता है और एक बार शरीर मे
16. Patanjali Product for Health Care
Patanjali Product for Health Care / स्वास्थ्य देखभाल Full List    
17. मधुमेह का अचूक और सफल उपचार क्या है
मधुमेह का अचूक और सफल उपचार क्या है   कुछ ऐसे भी फार्मूले है जिनको बाजार में लाने के बजाय फाइलों में कैद किया गया है इस फार्मूले को कोई दवा कंपनी लेने को तैयार नहीं है क्योंकि जिस पे
18. दाँतों के डॉक्टर के पास क्यों जाएँ?
दाँतों के डॉक्टर के पास क्यों जाएँ?   पुराने ज़माने
19. How To Gain Weight - 10 दिन में 7 किलो वजन कैसे बढ़ाएं How To Gain Weight Fast Health
How To Gain Weight - 10 दिन में 7 किलो वजन कैसे बढ़ाएं How To Gain Weight Fast Health     If your question is how to gain weight, then this video is for you. Ayurveda scholar Sonia Goyal is sharing 2 health tips in Hindi in this video to gain weight fast naturally at home. These weight gain tips are based on traditional Indian health practice of Ayurveda and naturopathy.  
20. चमकी बुखार क्या है?
चमकी बुखार जिसके अंतर्गत दिमागी बुखार से जुड़े वायरस पाए जाते हैं से जुड़े वायरस की अभी तक पहचान नहीं हो सकी है| Chamki Fever अधिकतर 10 साल तक के बच्चो को अपनी चपेट में ले रहा है|एक्यूट इंसेफेलाइटिस स
21. कैंसर और होम्योपथी
कैंसर और होम्योपथी कैंसर नाम सुनते ही मन में डर बैठ जाता हैं, क्योकि कैंसर एक घातक रोग हैं। लाखों लोग हर वर्ष कैंसर के कारण मौत के मुंह में चले जाते हैं। कुछ इलाज न होने के कारण तो कुछ गलत
22 Online and Offline Application Form for admission in class VI, Session : 2020-21 in Netarhat Vidyalaya #Admission 5 Days Remaining for Apply
Online and Offline Application Form for admission in class VI, Session : 2020-21 in Netarhat Vidyalaya Netarhat Awasiya Vidyalaya सत्र 2020-21 में छठा वर्ग में नामांकन हेतु प्रवेश परीक्षा का आवेदन पत्र   नेतरहाट आवासीय विद्यालय सत्र 2020-21 में छठा वर्ग में ...
We would love to hear your thoughts, concerns or problems with anything so we can improve our website educratsweb.com ! visit https://forms.gle/jDz4fFqXuvSfQmUC9 and submit your valuable feedback.
Save this page as PDF | Recommend to your Friends

http://educratsweb(dot)com http://educratsweb.com/content.php?id=786 http://educratsweb.com educratsweb.com educratsweb