Guest Post | Submit   Job information   Contents   Link   Youtube Video   Photo   Practice Set   Affiliated Link   Register with us Register login Login
Join Our Telegram Group Join Our Telegram Group https://t.me/educratsweb

Yam Dwitiya Bhai Dooj Katha | यम द्वितीया भाई दूज कथा, पूजा विधि व महत्व

यम द्वितीया का पर्व कार्तिक शुक्ल पक्ष द्वितीया अर्थात कार्तिक महीने के उजाले पाख के दूसरे दिन मनाया जाता है। इस दिन प्रातःकाल चंद्र-दर्शन की परंपरा है और जिसके लिए भी संभव होता है वो यमुना नदी के जल में स्नान करते हैं। स्नानादि से निवृत्त होकर दोपहर में बहन के घर जाकर वस्त्र और द्रव्य आदि द्वारा बहन का सम्मान किया जाता है और वहीं भोजन किया जाता है। मान्यता है कि ऐसा करने से कल्याण या समृद्धि प्राप्त होती है। जो पुरुष यमद्वितीया को बहन के हाथ का भोजन करता है, उसे धन, आयुष्य, धर्म, अर्थ और अपरिमित सुख की प्राप्ति होती है। यम द्वितीय के दिन सायंकाल घर में बत्ती जलाने से पूर्व, घर के बाहर चार बत्तियों से युक्त दीपक जलाकर दीप-दान करने का नियम भी है।

Yam Dwitiya Bhai Dooj Katha in Hindi

Yam Dwitiya Bhai Dooj Katha in Hindi | यम द्वितीय या भाई दूज से सम्बंधित दो कथाएं प्रचलित है जिसमे से एक पौराणिक कथा और दूसरी लोक कथा है। पौराणिक कथा के अनुसार सूर्य भगवान की स्त्री का नाम संज्ञा देवी था। इनकी दो संतानें, पुत्र यमराज तथा कन्या यमुना थी। संज्ञा देवी पति सूर्य की उद्दीप्त किरणों को न सह सकने के कारण उत्तरी ध्रुव प्रदेश में छाया बन कर रहने लगीं। उसी छाया से ताप्ती नदी तथा शनीचर का जन्म हुआ। इधर छाया का यम तथा यमुना से विमाता सा व्यवहार होने लगा। इससे खिन्न होकर यम ने अपनी एक नई नगरी यमपुरी बसाई, यमपुरी में पापियों को दण्ड देने का कार्य सम्पादित करते भाई को देखकर यमुनाजी गो लोक चली आईं जो कि कृष्णावतार के समय भी थी।

यमुना अपने भाई यमराज से बडा स्नेह करती थी। वह उससे बराबर निवेदन करती कि वह उसके घर आकर भोजन करें। लेकिन यमराज अपने काम में व्यस्त रहने के कारण यमुना की बात को टाल जाते थ। बहुत समय व्यतीत हो जाने पर एक दिन सहसा यम को अपनी बहन की याद आई। उन्होंने दूतों को भेजकर यमुना की खोज करवाई, मगर वह मिल न सकीं। फिर यमराज स्वयं ही गोलोक गए जहाँ विश्राम घाट पर यमुनाजी से भेंट हुई। भाई को देखते ही यमुनाजी ने हर्ष विभोर होकर उनका स्वागत सत्कार किया तथा उन्हें भोजन करवाया। इससे प्रसन्न हो यम ने वर माँगने को कहा –

 

यमुना ने कहा – हे भइया मैं आपसे यह वरदान माँगना चाहती हूँ कि मेरे जल में स्नान करने वाले नर-नारी यमपुरी न जाएँ।

प्रश्न बड़ा कठिन था, यम के ऐसा वर देने से यमपुरी का अस्तित्व ही समाप्त हो जाता। भाई को असमंजस में देख कर यमुना बोलीं – आप चिंता न करें मुझे यह वरदान दें कि जो लोग आज के दिन बहन के यहाँ भोजन करके, इस मथुरा नगरी स्थित विश्राम घाट पर स्नान करें वे तुम्हारे लोक को न जाएँ। इसे यमराज ने स्वीकार कर लिया। उन्होंने बहन यमुनाजी को आश्वासन दिया – ‘इस तिथि को जो सज्जन अपनी बहन के घर भोजन नहीं करेंगे उन्हें मैं बाँधकर यमपुरी ले जाऊँगा और तुम्हारे जल में स्नान करने वालों को स्वर्ग होगा।’ तभी से यह त्यौहार मनाया जाता है।

लोक कथा | एक बुढ़िया थी। उसके सात बेटे और एक बेटी थी। बेटी की शादी हो चुकी थी। जब भी उसके बेटे की शादी होती, फेरों के समय एक नाग आता और उसके बेटे को डस लेता था। बेटा वही ख़तम हो जाता और बहू विधवा। इस तरह उसके छह बेटे मर गये। सातवे की शादी होनी बाकी थी। इस तरह अपने बेटों के मर जाने के दुख से बुढ़िया रो रो के अंधी हो गयी थी।

 

भाई दूज आने को हुई तो भाई ने कहा की मैं बहिन से तिलक कराने जाऊँगा। माँ ने कहा ठीक है।

उधर जब बहिन को पता चला की उसका भाई आ रहा है तो वह खुशी से पागल होकर पड़ोसन के गयी और पूछने लगी की जब बहुत प्यारा भाई घर आए तो क्या बनाना चलिए? पड़ोसन उसकी खुशी को देख कर जलभुन गयी और कह दिया कि,” दूध से रसोई लेप, घी में चावल पका। ” बहिन ने एसा ही किया।

उधर भाई जब बहिन के घर जा रहा था तो उसे रास्ते में साँप मिला। साँप उसे डसने को हुआ।

भाई बोला- तुम मुझे क्यू डस रहे हो?

साँप बोला- मैं तुम्हारा काल हूँ। और मुझे तुमको डसना है।

भाई बोला- मेरी बहिन मेरा इंतजार कर रही है। मैं जब तिलक करा के वापस लौटूँगा, तब तुम मुझे डस लेना।

साँप ने कहा- भला आज तक कोई अपनी मौत के लिए लौट के आया है, जो तुम आऔगे।

भाई ने कहा- अगर तुझे यकीन नही है तो तू मेरे झोले में बैठ जा| जब मैं अपनी बहिन के तिलक कर लू तब तू मुझे डस लेना। साँप ने एसा ही किया।

भाई बहिन के घर पहुँच गया। दोनो बड़े खुश हुए।

भाई बोला- बहिन, जल्दी से खाना दे, बड़ी भूख लगी है।

बहिन क्या करे। न तो दूध की रसोई सूखे, न ही घी में चावल पके।

भाई ने पूछा- बहिन इतनी देर क्यूँ लग रही है? तू क्या पका रही है?

तब बहिन ने बताया कि ऐसे-ऐसे किया है।

भाई बोला- पगली! कहीं घी में भी चावल पके हैं , या दूध से कोई रसोई लीपे है। गोबर से रसोई लीप, दूध में चावल पका।

बहिन ने एसा ही किया। खाना खा के भाई को बहुत ज़ोर नींद आने लगी। इतने में बहिन के बच्चे आ गये। बोले-मामा मामा हमारे लिए क्या लाए हो?

भाई बोला- में तो कुछ नही लाया।

बच्चो ने वह झोला ले लिया जिसमें साँप था। जेसे ही उसे खोला, उसमे से हीरे का हार निकला।

बहिन ने कहा- भैया तूने बताया नही की तू मेरे लिए इतना सुंदर हार लाए हो।

भाई बोला- बहना तुझे पसंद है तो तू लेले, मुझे हार का क्या करना।

अगले दिन भाई बोला- अब मुझे जाना है, मेरे लिए खाना रख दे| बहिन ने उसके लिए लड्डू बना के एक डब्बे मे रख के दे दिए।

भाई कुछ दूर जाकर, थक कर एक पेड़ के नीचे सो गया। उधर बहिन के जब बच्चों को जब भूख लगी तो माँ से कहा की खाना दे दो।

माँ ने कहा- खाना अभी बनने में देर है। तो बच्चे बोले कि मामा को जो रखा है वही दे दो। तो वह बोली की लड्डू बनाने के लिए बाजरा पीसा था, वही बचा पड़ा है चक्की में, जाकर खा लो। बच्चों ने देखा कि चक्की में तो साँप की हड्डियाँ पड़ी है।

यही बात माँ को आकर बताई तो वह बावड़ी सी हो कर भाई के पीछे भागी। रास्ते भर लोगों से पूछती की किसी ने मेरा गैल बाटोई देखा, किसी ने मेरा बावड़ा सा भाई देखा। तब एक ने बताया की कोई लेटा तो है पेड़ के नीचे, देख ले वही तो नहीं। भागी भागी पेड़ के नीचे पहुची। अपने भाई को नींद से उठाया। भैया भैया कहीं तूने मेरे लड्डू तो नही खाए!!

भाई बोला- ये ले तेरे लड्डू, नहीं खाए मैने। ले दे के लड्डू ही तो दिए थे, उसके भी पीछे पीछे आ गयी।

बहिन बोली- नहीं भाई, तू झूठ बोल रहा है, ज़रूर तूने खाया है| अब तो मैं तेरे साथ चलूंगी।

भाई बोला- तू न मान रही है तो चल फिर।

चलते चलते बहिन को प्यास लगती है, वह भाई को कहती है की मुझे पानी पीना है।

भाई बोला- अब मैं यहाँ तेरे लिए पानी कहाँ से लाउ, देख ! दूर कहीं चील उड़ रहीं हैं,चली जा वहाँ शायद तुझे पानी मिल जाए।

तब बहिन वहाँ गयी, और पानी पी कर जब लौट रही थी तो रास्ते में देखती है कि एक जगह ज़मीन में 6 शिलाए गढ़ी हैं, और एक बिना गढ़े रखी हुई थी। उसने एक बुढ़िया से पूछा कि ये शिलाएँ कैसी हैं।

उस बुढ़िया ने बताया कि- एक बुढ़िया है। उसके सात बेटे थे। 6 बेटे तो शादी के मंडप में ही मर चुके हैं, तो उनके नाम की ये शिलाएँ ज़मीन में गढ़ी हैं, अभी सातवे की शादी होनी बाकी है। जब उसकी शादी होगी तो वह भी मंडप में ही मर जाएगा, तब यह सातवी सिला भी ज़मीन में गड़ जाएगी।

यह सुनकर बहिन समझ गयी ये सिलाएँ किसी और की नही बल्कि उसके भाइयों के नाम की हैं। उसने उस बुढ़िया से अपने सातवे भाई को बचाने का उपाय पूछा। बुढ़िया ने उसे बतला दिया कि वह अपने सातवे भाई को केसे बचा सकती है। सब जान कर वह वहाँ से अपने बॉल खुले कर के पागलों की तरह अपने भाई को गालियाँ देती हुई चली।

भाई के पास आकर बोलने लगी- तू तो जलेगा, कुटेगा, मरेगा।

भाई उसके एसे व्यवहार को देखकर चोंक गया पर उसे कुछ समझ नही आया। इसी तरह दोनो भाई बहिन माँ के घर पहुँच गये। थोड़े समय के बाद भाई के लिए सगाई आने लगी। उसकी शादी तय हो गयी।

जब भाई को सहरा पहनाने लगे तो वह बोली- इसको क्यू सहरा बँधेगा, सहारा तो मैं पहनूँगी। ये तो जलेगा, मरेगा।

सब लोगों ने परेशान होकर सहरा बहिन को दे दिया। बहिन ने देखा उसमें कलंगी की जगह साँप का बच्चा था।बहिन ने उसे निकाल के फैंक दिया।

अब जब भाई घोड़ी चढ़ने लगा तो बहिन फिर बोली- ये घोड़ी पर क्यू चढ़ेगा, घोड़ी पर तो मैं बैठूँगी, ये तो जलेगा, मरेगा, इसकी लाश को चील कौवे खाएँगे। सब लोग बहुत परेशान। सब ने उसे घोड़ी पर भी चढ़ने दिया।

अब जब बारात चलने को हुई तब बहिन बोली- ये क्यू दरवाजे से निकलेगा, ये तो पीछे के रास्ते से जाएगा, दरवाजे से तो मैं निकलूंगी। जब वह दरवाजे के नीचे से जा रही थी तो दरवाजा अचानक गिरने लगा। बहिन ने एक ईंट उठा कर अपनी चुनरी में रख ली, दरवाजा वही की वही रुक गया। सब लोगों को बड़ा अचंभा हुआ।

रास्ते में एक जगह बारात रुकी तो भाई को पीपल के पेड़ के नीचे खड़ा कर दिया।

बहिन कहने लगी- ये क्यू छाव में खड़ा होगा, ये तो धूप में खड़ा होगा| छाँव में तो मैं खड़ी होगी।

जैसे ही वह पेड़ के नीचे खड़ी हुई, पेड़ गिरने लगा। बहिन ने एक पत्ता तोड़ कर अपनी चुनरी में रख लिया, पेड़ वही की वही रुक गया।अब तो सबको विश्वास हो गया की ये बावली कोई जादू टोना सिख कर आई है, जो बार बार अपने भाई की रक्षा कर रही है। ऐसे करते करते फेरों का समय आ गया।

जब दुल्हन आई तो उसने दुल्हन के कान में कहा- अब तक तो मैने तेरे पति को बचा लिया, अब तू ही अपने पति को और साथ ही अपने मरे हुए जेठों को बचा सकती है।

फेरों के समय एक नाग आया, वो जैसे ही दूल्हे को डसने को हुआ , दुल्हन ने उसे एक लोटे में भर के उपर से प्लेट से बंद कर दिया। थोड़ी देर बाद नागिन लहर लहर करती आई।

दुल्हन से बोली- तू मेरा पति छोड़।

दुल्हन बोली- पहले तू मेरा पति छोड़।

नागिन ने कहा- ठीक है मैने तेरा पति छोड़ा।

दुल्हन- एसे नहीं, पहले तीन बार बोल।

नागिन ने 3 बार बोला, फिर बोली की अब मेरे पति को छोड़।

दुल्हन बोली- एक मेरे पति से क्या होगा, हसने बोलने क लिए जेठ भी तो होना चाहिए, एक जेठ भी छोड़।

नागिन ने जेठ के भी प्राण दे ।

फिर दुल्हन ने कहा- एक जेठ से लड़ाई हो गयी तो एक और जेठ। वो विदेश चला गया तो तीसरा जेठ भी छोड़।

इस तरह एक एक करके दुल्हन ने अपने 6 जेठ जीवित करा लिए।

उधर रो रो के बुढ़िया का बुरा हाल था। कि अब तो मेरा सातवा बेटा भी बाकी बेटों की तरह मर जाएगा। गाँव वालों ने उसे बताया कि उसके सात बेटा और बहुए आ रही है।

तो बुढ़िया बोली- गर यह बात सच हो तो मेरी आँखो की रोशनी वापस आ जाए और मेरे सीने से दूध की धार बहने लगे। ऐसा ही हुआ। अपने सारे बहू बेटों को देख कर वह बहुत खुश हुई।

बोली- यह सब तो मेरी बावली का किया है। कहाँ है मेरी बेटी?

सब बहिन को ढूँढने लगे। देखा तो वह भूसे की कोठरी में सो रही थी। जब उसे पता चला कि उसका भाई सही सलामत है तो वह अपने घर को चली। उसके पीछे पीछे सारी लक्ष्मी भी जाने लगी।

बुढ़िया ने कहा- बेटी, पीछे मूड के देख! तू सारी लक्ष्मी ले जाएगी तो तेरे भाई भाभी क्या खाएँगे।

 

तब बहिन ने पीछे मूड के देखा और कहा- जो माँ ने अपने हाथों से दिया वह मेरे साथ चल, बाद बाकी का भाई भाभी के पास रहे।

इस तरह एक बहिन ने अपने भाई की रक्षा की।

Contents shared By educratsweb.com
if you have any information regarding Job, Study Material or any other information related to career. you can Post your article on our website. Click here to Register & Share your contents.
For Advertisment or any query email us at bharatpages.in@gmail.com

RELATED POST
जीवित्पुत्रिका (जितिया /जिउतिया) व्रत कथा // Jivitputrika Vrat Katha / Jitiya vart katha जीवित्पुत्रिका (जितिया /जिउतिया) व्रत कथा // Jivitputrika Vrat Katha / Jitiya vart katha Jitiya Puja में मछली खाकर व्रत शुरू क्यों करते है | जितिया व्रत में खान-पान से जुड़ी परंपरा | Katha Jitiya Puja में मछली खाकर व्रत शुरू क्यों करते है | जितिया व्रत में खान-पान से जुड़ी परंपरा | Katha Jitiya (जितिया / जिउतिया) व्रत कथा ॥ #चिल्ही #सियारो की कथा / Chilhi siyaro ki katha / Jitiya vart k Jitiya (जितिया / जिउतिया) व्रत कथा ॥ #चिल्ही #सियारो की कथा / Chilhi siyaro ki katha / Jitiya vart k
Jivitputrika Vrat Katha in Hindi - जीवित्पुत्रिका व्रत की कहानी Jivitputrika Vrat Katha in Hindi - जीवित्पुत्रिका व्रत की कहानी जितिया व्रत के कथा सुनु मिथिला संस्कार के प्रस्तुति| जीतवाहन के कथा|jitvaahan ke katha |shyama jha | जितिया व्रत के कथा सुनु मिथिला संस्कार के प्रस्तुति| जीतवाहन के कथा|jitvaahan ke katha |shyama jha | चिल्ही सियारो की कथा /जीवित्पुत्रिका (जितिया /जिउतिया) व्रत कथा // Jivitputrika Vrat Katha / Jitiya चिल्ही सियारो की कथा /जीवित्पुत्रिका (जितिया /जिउतिया) व्रत कथा // Jivitputrika Vrat Katha / Jitiya
12 September Anant Chaturdashi 2019 | अनंत चतुर्दशी व्रत कथा & पूजा विधि | Vrat Katha & Puja Vidhi 12 September Anant Chaturdashi 2019 | अनंत चतुर्दशी व्रत कथा & पूजा विधि | Vrat Katha & Puja Vidhi Katha Ram Bhakt Hanuman Ki By Hariharan Full Audio Songs Juke Box Katha Ram Bhakt Hanuman Ki By Hariharan Full Audio Songs Juke Box मेघनाथ - जिससे हारे श्री राम और लक्ष्मण | Ramayan Katha | Ancient Hindu Stories | Maha Warrior मेघनाथ - जिससे हारे श्री राम और लक्ष्मण | Ramayan Katha | Ancient Hindu Stories | Maha Warrior
Sampurna Ramayan Katha | Musical Story of Shri Ram | Ayodhya Kand | Sunder Kand | Lanka Kand Sampurna Ramayan Katha | Musical Story of Shri Ram | Ayodhya Kand | Sunder Kand | Lanka Kand कर्मा पूजा की कथा और इतिहास KARMA PUJA KA KATHA कर्मा पूजा की कथा और इतिहास KARMA PUJA KA KATHA अनंत चतुर्दशी व्रत | Anant Chaturdashi Vrat | Vrat Puja Vidhi & Vrat Katha in hindi | Vinod Pandey अनंत चतुर्दशी व्रत | Anant Chaturdashi Vrat | Vrat Puja Vidhi & Vrat Katha in hindi | Vinod Pandey
HANUMAN LEELA(CHALE SAMUNDER PAAR)Naagmata Sursa Ne Rokha Rasta! Ramayan Katha ! Total Devotional !! HANUMAN LEELA(CHALE SAMUNDER PAAR)Naagmata Sursa Ne Rokha Rasta! Ramayan Katha ! Total Devotional !!
  1. Diwali - Festival of Lights
  2. Durga Puja 2018 all dates & time in India. Durga puja is a biggest festivals in India.
  3. जानिए छठ पूजा व्रत विधि और नियम हिन्दी में
  4. Flipkart Upcoming Sale September 2019: Dates & Upto 90% OFF Offers
  5. Karma Puja - Karma Festival, Karma Puja
  6. पितृ-पक्ष - श्राद्ध पर्व तिथि व मुहूर्त 2019
  7. Yam Dwitiya Bhai Dooj Katha | यम द्वितीया भाई दूज कथा, पूजा विधि व महत्व
  8. educratsweb.com की तरफ से विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनाएँ
  9. दिवाली पर्व तिथि व मुहूर्त 2019
Save this page as PDF | Recommend to your Friends

http://educratsweb(dot)com http://educratsweb.com/content.php?id=927 http://educratsweb.com educratsweb.com educratsweb