Danik Bhaskar International News #educratsweb
HOME | LATEST JOBS | JOBS | CONTENTS | STUDY MATERIAL | CAREER | NEWS | BOOK | VIDEO | PRACTICE SET REGISTER | LOGIN | CONTACT US
Post Jobs or Post Contents | BPSC Child Development Project Officer Online Form 2018 | JOBS IN MAHARASHTRA METRO RAIL CORPORATIOH LIMITED | Recruitment of Young Professional Finance in National Highways Authority of India | JOBS IN NARSEE MONJEE COLLEGE OF COMMERCE & ECONOMICS | DNYAN GANGA EDUCATION TRUSTS DEGREE COLLEGE OF SCIENCE AND COMMERCE | | JOBS IN INSTITUTE OF INTERNATIONAL STUDIES | Various Jobs in TECHNO INDIA |

Danik Bhaskar International News

https://www.bhaskar.com/rss-feed/2338/ 👁 8159

इंसान को दोबारा जीवन की उम्मीद देने वाले वैज्ञानिक का दिमाग फ्रीज, ताकि फिर से इस्तेमाल हो सके


इंटरनेशनल डेस्क, मॉस्को. इंसान को दोबारा जीवन की उम्मीद देने वाले रूसी वैज्ञानिक डॉ. यूरी पिचुगिन (67) का दिमाग फ्रीज कर दिया गया है। डॉ. यूरी का दिमाग उन्हीं की ईजाद की हुई तकनीक के जरिए माइनस 196 डिग्री सेल्सिय तापमान पर फ्रीज कर दिया गया, ताकि भविष्य में दोबारा इस्तेमाल किया जा सके। डॉ. यूरी ने फ्रैंकेस्टाइन तकनीक की खोज की थी। इसके जरिए मृत लोगों के दिमाग को खास रसायन में रखकर फ्रीज किया जाता है। इसे क्रायो-प्रिजर्वेशन कहते हैं। वैज्ञानिकों का मानना है कि भविष्य में ऐसे दिमाग दोबारा इस्तेमाल में लाए जा सकते हैं।


बेटे ने दी क्रायो-प्रिजर्वेशन की इजाजत

रूस की क्रायोरस कंपनी ने डॉ. यूरी के दिमाग का क्रायो-प्रिजर्वेशन किया। यह मॉस्को के वेयरहाउस में संरक्षित रखा गया है। क्रायोरस की प्रवक्ता वेलेरिया उदालोवा ने बताया कि यूरी की हार्टअटैक से मौत हो गई थी। पड़ोसियों को उनका शव घर से बाहर मिला, उस वक्त तापमान माइनस 7 डिग्री था। डॉ. यूरी के दिमाग का क्रायो-प्रिजर्वेशन इसलिए किया गया, क्योंकि उन्होंने 2012 में कॉन्ट्रैक्ट साइन किया था। कनाडा में रहने वाले उनके बेटे को इस बात की जानकारी है और उन्होंने ही ऐसा करने की इजाजत दी।

अमेरिका-रूस में होता है डॉ. यूरी की तकनीक का इस्तेमाल
अमेरिका और रूस में डॉ. यूरी की इस तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है। इससे भविष्य में विज्ञान के आगे बढ़ने पर इस तरह के दिमाग का दोबारा इस्तेमाल किए जाने का मौका मिलता है। इस प्रक्रिया के लिए कई कंपनियां 13 लाख रुपए तक लेती हैं। हालांकि, यूरी खुद यह नहीं चाहते थे कि उनका दिमाग फ्रीज किया जाए। इसके पीछे उन्हें इस तकनीक की विफलता की आशंका नहीं थी, बल्कि उन्होंने इसके पीछे नैतिकता का हवाला दिया था। उन्होंने कहा था कि मानवता का यह रूप उन्हें दुख पहुंचाता है।

वैज्ञानिकों का दावा- दशकों बाद हो सकता है दिमाग का दोबारा इस्तेमाल
डॉ. यूरी की तकनीक के आधार पर वैज्ञानिक दावा करते हैं कि अत्यधिक ठंडे तापमान में रखे गए दिमाग का इस्तेमाल कुछ दशकों या शताब्दियों बाद किया जा सकता है। भविष्य में विज्ञान की तरक्की के बाद इस दिमाग का इस्तेमाल किसी अन्य शरीर में भी किया जा सकता है। जिस वेयर हाउस में डॉ. यूरी का दिमाग रखा गया है, वहां 66 अन्य लोगों के दिमाग क्रायो-प्रिजर्वेशन तकनीक से रखे गए हैं। इनके अलावा 32 पालतू पशुओं के दिमाग को भी प्रिजर्व किया गया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Russian scientists cryogenically freeze the BRAIN of genius who created Frankenstein technology

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/russian-scientists-cryogenically-freeze-the-brain-of-genius-5993271.html

चीन में अमेरिकी टेक फर्मों के मुकाबले की कंपनियां, इनके बनाए ऐप दुनियाभर में मशहूर


बीजिंग. दुनियाभर में चीन ही ऐसा देश है जिसकी इंटरनेट कंपनियां अमेरिकी कंपनियों के मुकाबले की हैं। नकद भुगतान को स्मार्टफोन पेमेंट में बदलने के मामले में चीन, अमेरिका से काफी आगे है। शॉर्ट वीडियो, पॉडकास्ट, ब्लॉग और टीवी स्ट्रीमिंग में क्रिएटिविटी के लिए भी चीन की खास पहचान है।

  1. कुछ साल पहले तक चीन की टेक कंपनियां अमेरिकी कंपनियों की नकल किया करती थीं। लेकिन, अब दोनों तरफ से ऐसा हो रहा है। अमेरिकी सोशल मीडिया कंपनियों के अधिकारी यूजर का ध्यान खींचने के लिए चीन की टेनसेंट और बाईटडांस कंपनी के तौर तरीकों को फॉलो करते हैं।

  2. टेनसेंट का वीचैट ऐप सिर्फ सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म नहीं बल्कि ऑल-इन-वन है। इसमें गेम खेलने, यूटिलिटी बिल का भुगतान करने और ट्रेन का टिकट बुक करने की फैसिलिटी भी है। इसने फेसबुक और एपल जैसी कंपनियों को भी ज्यादा फीचर वाले ऐप बनाने का रास्ता दिखाया।

  3. फेसबुक ने हाल ही में चीन की सोशल मीडिया ऐप टिकटोक की तर्ज पर शॉर्ट वीडियो का अपना ऐप शुरू किया है। टिकटोक को पश्चिमी देशों के युवा काफी पसंद करते हैं।

  4. चीन की टेक कंपनियां कई मामलों में अमेरिकी कंपनियों की तुलना में कम रुकावट वाली हैं। इनके लिए फेसबुक जैसी कंपनियों की तरह डेटा लीक और डिजिटल एडिक्शन जैसे मुद्दे बड़ी समस्या नहीं हैं।

  5. चीन में सिर्फ एक नियम चलता है- 'देश को नुकसान मत पहुंचाओ।' इसीलिए वीबो और बेदू जैसी टेक कंपनियां सेंसरशिप के आदेशों का ध्यान रखती हैं। वो गैर जरूरी विचारधारा से भी दूर रहती हैं।

  6. चीन के नेता भी इंटरनेट को पसंद करते हैं। अब वो अपने देश के टेक टैलेंट को नई ऊंचाईयों पर ले जाना चाहते हैं। वो टेक्नोलॉजी के जरिए इकोनॉमी में इनोवेशन लाना चाहते हैं।

  7. टेक्नोलॉजी कंपनियों के लिए चीन का मार्केट काफी माकूल है। वहां एक स्टार्टअप भी बहुत जल्द खुद को कामयाब कंपनी में बदल सकता है। चीन में इन्टेलेक्चुअल प्रॉपर्टी को लेकर ज्यादा रेग्युलेशन नहीं हैं। कंपनियां एक-दूसरे की टेक्नोलॉजी में सेंधमारी कर सकती हैं। हालांकि, यह इनोवेशन के लिए तो अच्छा नहीं है। लेकिन, कंज्यूमर को नए-नए ऑप्शन मिल जाते हैं।

  8. चीन की मीडिया, फाइनेंस और हेल्थकेयर इंडस्ट्री में भी हालांकि सरकारी कंपनियों का दबदबा है। लेकिन, अलीबाबा और टेनसेंट जैसी निजी इंटरनेट कंपनियों को भी बिजनेस की इजाजत है।

  9. चीन के डिजिटल पेमेंट मार्केट में अलीबाबा और टेनसेंट के मोबाइल पेमेंट प्लेटफॉर्म की बड़ी हिस्सेदारी है। इन पेमेंट ऐप के जरिए शॉपिंग, लोन एप्लीकेशन, किराए पर बाइक और डॉक्टर से अपॉइंटमेंट लेने जैसी सुविधाएं भी मिलती हैं।

  10. चीन के नेताओं को भी लोगों की जिंदगी में टेक्नोलॉजी के बढ़ते दखल का अहसास है। यही वजह है कि वहां की सरकार टेक कंपनियों में हिस्सेदार बनकर अपना प्रभाव बढ़ाना चाहती है।

  11. चीन में ज्यादातर लोग वीचैट ऐप का इस्तेमाल करते हैं। यह अलग-अलग संस्थाओं से लेकर पुलिस तक के लोगों की राय जानने का सबसे बेहतर नेटवर्क है।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      China developed tech firms as strong as US companies they follow each other

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/china-developed-tech-firms-as-strong-as-us-companies-they-follow-each-other-01383416.html

इंसान को दोबारा जीवन की उम्मीद देने वाले वैज्ञानिक का दिमाग फ्रीज, ताकि फिर से इस्तेमाल हो सके


मॉस्को. इंसान को दोबारा जीवन की उम्मीद देने वालेरूसी वैज्ञानिक डॉ. यूरी पिचुगिन (67) का दिमाग फ्रीज कर दिया गया है। डॉ. यूरी का दिमागउन्हीं की ईजाद की हुई तकनीक के जरिए माइनस 196 डिग्री सेल्सिय तापमान पर फ्रीज कर दिया गया, ताकि भविष्य में दोबारा इस्तेमाल किया जा सके। डॉ. यूरी ने फ्रैंकेस्टाइन तकनीक की खोज की थी। इसके जरिए मृत लोगों के दिमाग को खास रसायन में रखकर फ्रीज किया जाता है। इसे क्रायो-प्रिजर्वेशन कहते हैं। वैज्ञानिकों का मानना है किभविष्य में ऐसे दिमाग दोबारा इस्तेमाल में लाए जा सकते हैं।

बेटे ने दी क्रायो-प्रिजर्वेशन की इजाजत
रूस की क्रायोरस कंपनी ने डॉ. यूरी के दिमाग का क्रायो-प्रिजर्वेशन किया। यह मॉस्को के वेयरहाउस में संरक्षित रखा गया है। क्रायोरस की प्रवक्ता वेलेरिया उदालोवा ने बताया कि यूरी की हार्टअटैक से मौत हो गई थी। पड़ोसियों को उनका शव घर से बाहर मिला, उस वक्त तापमान माइनस 7 डिग्री था। डॉ. यूरी के दिमाग का क्रायो-प्रिजर्वेशन इसलिए किया गया, क्योंकि उन्होंने 2012 में कॉन्ट्रैक्ट साइन किया था। कनाडा में रहने वाले उनके बेटे को इस बात की जानकारी है और उन्होंने ही ऐसा करने की इजाजत दी।

मैं कभी भी अपना क्रायो-प्रिजर्वेशन नहीं कराऊंगा। ऐसा इसलिए नहीं कि मुझे इसकी कामयाबी पर भरोसा नहीं है, बल्कि मानवता के इस रूप से मुझे दुख होता है।

डॉ. यूरी पिचुगिन, 2016

अमेरिका-रूस में होता है डॉ. यूरी की तकनीक का इस्तेमाल
अमेरिका और रूस में डॉ. यूरी की इस तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है। इससे भविष्य में विज्ञान के आगे बढ़ने पर इस तरह के दिमाग का दोबारा इस्तेमाल किए जाने का मौका मिलता है। इस प्रक्रिया के लिए कई कंपनियां 13 लाख रुपए तक लेती हैं। हालांकि, यूरी खुद यह नहीं चाहते थे कि उनका दिमाग फ्रीज किया जाए। इसके पीछे उन्हें इस तकनीक की विफलता की आशंका नहीं थी, बल्कि उन्होंने इसके पीछे नैतिकता का हवाला दिया था। उन्होंने कहा था कि मानवता का यह रूप उन्हें दुख पहुंचाता है।

वैज्ञानिकों का दावा- दशकों बाद हो सकता है दिमाग का दोबारा इस्तेमाल
डॉ. यूरी की तकनीक के आधार पर वैज्ञानिक दावा करते हैं कि अत्यधिक ठंडे तापमान में रखे गए दिमाग का इस्तेमाल कुछ दशकों या शताब्दियों बाद किया जा सकता है। भविष्य में विज्ञान की तरक्की के बाद इस दिमाग का इस्तेमाल किसी अन्य शरीर में भी किया जा सकता है। जिस वेयर हाउस में डॉ. यूरी का दिमाग रखा गया है, वहां 66 अन्य लोगों के दिमाग क्रायो-प्रिजर्वेशन तकनीक से रखे गए हैं। इनके अलावा 32 पालतू पशुओं के दिमाग को भी प्रिजर्व किया गया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
डॉक्टर यूरी पिचुगिन के दिमाग को पहले उनके शरीर से अलग किया गया और फिर इसे फ्रीज कर दिया गया।
Russians cryogenically frozen a dead scientific genius

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/russians-cryogenically-frozen-a-dead-scientific-genius-01382057.html

80 साल से गर्भवती को बॉक्स गिफ्ट कर रही सरकार, 95% नवजात इसी में लेते हैं अपनी पहली नींद


हेलसिंकी. फिनलैंड की सरकार 80 सालसे गर्भवतियों कोस्पेशल बॉक्स गिफ्ट कर रही है। इस बॉक्स में नवजात की जरूरत का सामान,कपड़े, शीट और खिलौने होते हैं। महिला चाहे अमीर हो या गरीब, उसे यह बॉक्स दिया जाता है। यह बच्चों की परवरिश के लिएस्टार्टर किट की तरह होता है। एक सर्वे के मुताबिक, फिनलैंड में करीब 95% नवजात अपनी पहली नींद इसी बॉक्स में लेते हैं।

इस परंपरा से आता है बराबरी का भाव

सबसे पहले सरकार ने 1938 में कम आय वाले परिवारों को यह मैटरनिटी बॉक्स बांटने शुरू किए। 1949 से हर वर्ग की महिला को यह बॉक्स दिए जाने लगे। दरअसल, सरकार का मानना है कि इसकीवजह से लोगों में बराबरी का भाव आता है। बच्चा चाहे किसी भी पृष्ठभूमि से हो, वह अपनी पहली नींद इसी कार्डबोर्ड के बॉक्स में लेता है।

सरकार मां को बॉक्स या इसके बदले 140 यूरो कैश लेने का विकल्प देती है। 95% महिलाएं आमतौर पर बॉक्स को ही चुनती हैं। मैटरनिटी बॉक्स उन गर्भवतियों को दिया जाता है, जिनकी प्रेग्नेंसी के चार महीने पूरे हो गए हों। इसके लिए सभी को म्यूनिसिपल क्लिनिक जाना होता है।

बच्चों की मृत्युदर कम हुई
1930 के आसपास फिनलैंड की गिनती गरीब देशों में होती थी। यहां शिशु मृत्यु दर भी 65 थी। यानी पैदा होने वाले हजार बच्चों में 65 की मौत हो जाती थी। लेकिन, सरकार के मैटरनिटी बॉक्स योजना के कुछ दशकों बाद हालात में काफी सुधार हुआ। 1980 के बाद फिनलैंड में शिशु मृत्यु दर 10 के नीचे ही है।

स्टार्टर किट में होती हैं बच्चे की जरूरत की सभी चीजें

बॉक्स में मैट्रेस कवर, अंडरशीट, ब्लैंकेट, स्लीपिंग बैग होता है। इसके अलावा स्नोसूट, हैट, टॉवेल, नेल कटर, हेयर ब्रश, टूथ ब्रश, थर्मामीटर, नैपी और जूते-मोजे भी दिए जाते हैं। बच्चों को खेलने के लिए पिक्चर बुक और कुछ दूसरे खिलौने भी मिलते हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
मैटरनिटी बॉक्स महिलाओं को उनकी प्रेग्नेंसी के चौथे महीने में दिया जाता है।
मैटरनिटी बॉक्स के अंदर का सामान।
1947 में दिया जाने वाला मैटरनिटी बॉक्स।

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/maternity-boxes-are-provided-to-expecting-mothers-in-finland-01382000.html

बेघर व्यक्ति को मिला डॉलरों से भरा बैग; फूड बैंक को दिया, ताकि दूसरों को खाना मिल सके


वॉशिंगटन. अमेरिका के वॉशिंगटन के समनर में रहने वाला एक बेघर शख्स अब वहां ईमानदारी की मिसाल बन गया है। इतना ही नहीं उसके कारण उसके जैसे बेघरों को यहां आसानी से दो वक्त का खाना नसीब होने लगा है। यह शख्स है केविन बूथ।दरअसल, केविन को जमीन पर एक बैग रखा मिला। 12 लाख रुपए से ज्यादा थे।उसने यह पैसा फूड बैंक को दान कर दिया।

  1. असल में कुछ महीने पहले केविन स्थानीय फूड बैंक के बाहर लगे ब्रेड बॉक्स में अपने लिए ब्रेड तलाशने पहुंचा था। इस बॉक्स में लोग अक्सर जरूरतमंदों के लिए ब्रेड छोड़ जाया करते हैं। जब केविन यहां पहुंचातो उसेबॉक्स के पास जमीन पर एक बैग रखा मिला। बैग खोलकर देखा, तो वहचौंक गया।यह नकदी (डॉलर) से भरा हुआ था। पूरे 17 हजार डॉलर यानी करीब 12 लाख 30 हजार रुपए।

  2. एक-एक रोटी के लिए तरसने वाले केविन ने बैग उसके मालिक तक पहुंचाने की ठानी। वह20 मिनट तक वहीं खड़ा रहा, लेकिन कोई भी बैग तलाशते हुए वहां नहीं आया। इसके बाद उसनेफूड बैंक से जुड़े एक कार्यकर्ता को बैग सौंप दिया। पहले तोकार्यकर्ता भी समझा कि इसमें जरूरतमंदों के लिए खाना होगा।

  3. कुछ देर बाद उसने इसे तराजू पर तौला, फिर खोलकर देखा तो हैरान रह गया। फूड बैंक के कार्यकर्ता ने तत्काल पुलिस को फोन लगाया और बैग की जानकारी दी। समनर पुलिस ने इलाके के सीसीटीवी कैमरों को खंगाला, मगर उन्हें बैग छोड़ने वाले का पता नहीं चला। हालांकि ये पता चल गया कि बैग मिला किसे था।

  4. इसके बाद पुलिस ने 90 दिनों तक कैश को अपने पास रखा, ताकि सूचना मिलने पर इसका मालिक पुलिस स्टेशन आ जाए। मगर कोई नहीं आया। आखिर इस राशि को फूड बैंक के लिए ही दे दिए जाने का फैसला लिया गया।

  5. पुलिस को लगा कि केविन को धन्यवाद कहने का इससे अच्छा तरीका और कोई नहीं हो सकता। यानी अब केविन को मिले पैसों से यह बैंक और ज्यादा जरूरतमंदों की मदद के लिए तैयार है। इतना ही नहीं बैंक ने केविन को कुछ पैसा तोहफे में दिया है, वहीं स्थानीय पुलिस ट्रैफिक सिग्नल्स पर इस शख्स की ईमानदारी का बखान कर रही है।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      फूड बैंक की डायरेक्टर के साथ केविन।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/homeless-man-finds-17000-dollar-cash-and-gives-it-to-local-food-bank-washington-01384212.html

लोग जानबूझकर कानून को तोड़ रहे ताकि खूबसूरत अफसर करे गिरफ्तार


बर्लिन. दुनिया की हर महिला सुंदर दिखना चाहती है, लेकिन जर्मनी की एक महिला पुलिसकर्मी की खूबसूरती उनकी जॉब के लिए मुसीबत बन गई है। 34 साल की एड्रिएन कोलेसजर इंस्टाग्राम पर नियमित रूप से अपनी फोटो अपलोड करती हैं जिसे उनके यूजर्स बेहद पसंद करते हैं। उनकी फोटो देखकर यहां लोग जानबूझकर कानून तोड़ने लग पड़े थे ताकि एड्रिएन आएं और उन्हें गिरफ्तार करें।

  1. एड्रिएन के इंस्टाग्राम पर पांच लाख 57 हजार फॉलोअर्स हैं। इसी कारण एड्रिएन को इस साल जुलाई में छह महीने की अनपेड लीव पर भेज दिया गया। वापस आने पर एक शर्त रखी गई है, या तो इंस्टाग्राम छोड़ें या पुलिस की नौकरी।

  2. फिलहाल एड्रिएन ने इस पर कोई फैसला नहीं लिया है लेकिन उन्हें एक जनवरी 2019 से नौकरी दोबारा ज्वाइन करनी होगी अगर वह इंस्टाग्राम छोड़ देती हैं तो।

  3. 34 साल की एड्रिएन हर को अपनी फिटनेस से जुड़ी फोटो इंस्टाग्राम पर अपलोड करती हैं। दो साल पहले वह इसी कारण सुर्खियों में आई थीं जब उन्हें दुनिया की सबसे खूबसूरत पुलिसकर्मी करार दिया गया।

  4. एड्रिएन कहती हैं, मैंने अभी तक यह फैसला नहीं किया है कि मैं क्या करूंगी लेकिन सच कहूं तो मैं दोनों काम करना चाहती हूं। पुलिस की नौकरी भी और सोशल मीडिया पर तस्वीरें भी डालूंगी लेकिन यह जानती हूं कि हमें जिंदगी में हमेशा वह नहीं मिलता जो हम चाहते हैं।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      एड्रिएन कोलेसजर।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/please-arrest-me-woman-police-officer-adrienne-kolesza-in-germany-01384244.html

विजय माल्या भारत लाया जाएगा, कोर्ट ने मंजूरी दी; मामला ब्रिटिश सरकार को रेफर किया


इंटरनेशनल डेस्क, लंदन. वेस्टमिंस्टर अदालत ने सोमवार को फैसला दिया कि भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या (62) को ब्रिटेन से भारत प्रत्यर्पित किया जाए। जज एम्मा आर्बुटनॉट ने कहा कि पहली नजर में माल्या के खिलाफ धोखाधड़ी, साजिश रचने और मनी लॉन्डरिंग का केस बनता है। अदालत ने यह मामला अब ब्रिटिश सरकार को भेज दिया है। फैसले से पहले कोर्ट पहुंचे माल्या ने कहा था कि मैंने रुपए लौटाने का प्रस्ताव दिया है, यह झूठा नहीं था। मेरे इस ऑफर का प्रत्यर्पण से कोई लेना-देना नहीं है। मैंने पैसे चुराए नहीं। मैंने किंगफिशर एयरलाइंस को बचाने के लिए अपने 4 हजार करोड़ रुपए इसमें लगाए थे।


- माल्या पर भारतीयों बैंकों के 9,000 करोड़ रुपए बकाया हैं। वह मार्च 2016 में लंदन भाग गया था। भारत ने पिछले साल फरवरी में यूके से उसके प्रत्यर्पण की अपील की थी। भारत में फ्रॉड और मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों पर अप्रैल 2017 में स्कॉटलैंड यार्ड में माल्या की गिरफ्तारी हुई लेकिन, जमानत पर छूट गया। उसके प्रत्यर्पण का मामला 4 दिसंबर 2017 से लंदन की अदालत में चल रहा है।

अब आगे क्या होगा :

यूके की लीगल एक्सपर्ट पावनी रेड्डी के मुताबिक, यूके सरकार अदालत के फैसले से संतुष्ट होती है तो वह माल्या के प्रत्यर्पण का आदेश जारी करेगी। इस फैसले के खिलाफ माल्या के पास 14 दिन में हाईकोर्ट में अपील का अधिकार होगा।माल्या ने अगर प्रत्यर्पण के फैसले के खिलाफ अपील नहीं की तो यूके की सरकार के आदेश जारी करने के 28 दिन में उसका प्रत्यर्पण किया जाएगा।

माल्या की 5 दलीलें :
# माल्या का कहना है कि उसके खिलाफ मामला राजनीति से प्रेरित है। उसने एक रुपया भी उधार नहीं लिया। किंगफिशर एयरलाइंस ने लोन लिया था। कारोबार में घाटा होने की वजह से लोन की रकम खर्च हो गई। वह सिर्फ गारंटर था और यह फ्रॉड नहीं है।
# वह कर्ज का 100% मूलधन चुकाने को तैयार है। उसने साल 2016 में कर्नाटक हाईकोर्ट में भी यह ऑफर दिया था। उसका कहना है कि रकम चुराकर भागने की बात गलत है। उसे बैंक डिफॉल्ट का पोस्टर बॉय बना दिया गया है।
# माल्या ने यह भी कहा था कि साल 2016 में उसने प्रधानमंत्री मोदी और वित्त मंत्री अरुण जेटली को चिट्ठी लिखकर जांच कमेटी गठित करने की मांग की थी लेकिन, कोई जवाब नहीं मिला।
# माल्या ने यह भी कहा था कि भारतीय जेलों की हालत अच्छी नहीं है। इसके बाद यूके की अदालत ने भारत से जेल का वीडियो मांगा था। भारत ने मुंबई की आर्थर रोड जेल के बैरक नंबर 12 का वीडियो भेजा था, जहां माल्या को रखा जाएगा। वीडियो देखने के बाद यूके की कोर्ट ने संतुष्टि जताई थी।
# मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक प्रत्यर्पण पर फैसले से पहले माल्या ने यह भी कहा है कि राजनीति की वजह से उसे भारत में न्याय मिलने के आसार कम हैं। उसके खिलाफ नए आरोप लग सकते हैं।

भारतीय जांच एजेंसियों की दलील

सीबीआई ने यूके की अदालत के फैसले का स्वागत किया। कहा- हमें उम्मीद है कि माल्या को जल्द भारत लाया जाएगा और हम उसके खिलाफ मामलों में नतीजे पर पहुंचेंगे। हमने तथ्यों और कानून के आधार पर मजबूती से अपना पक्ष रखा था और हम पूरी तरह आश्वस्त थे कि माल्या को प्रत्यर्पित किया जाएगा। माल्या ने जानबूझकर बैंकों का कर्ज नहीं चुकाया। वह प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत भगोड़ा घोषित है। उस पर मनी लॉन्ड्रिंग का भी आरोप है। वह ब्रिटेन के कानून के मुताबिक भी आरोपी है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
UK court orders extradition of Vijay Mallya to India

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/uk-court-orders-extradition-of-vijay-mallya-to-india-5992931.html

टीम इंडिया की ऐतिहासिक जीत के बाद आखिरी विकेट पर विवाद, देखिए केएल राहुल ने कैसे लिया था विनिंग कैच


स्पोर्ट्स डेस्क/एडिलेड: भारत ने पहले टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया को 31 रन से हरा कर जीत हासिल की। ऑस्ट्रेलियाई जमीन पर टीम इंडिया को 10 साल बाद जीत मिली। पिछली जीत अनिल कुंबले की कप्तानी में 2008 में मिली थी। तब भारत ने पर्थ में 72 रन से मेजबान टीम को हराया था। इस जीत के साथ ही भारत ने 4 मैचों की टेस्ट सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली है। हालांकि भारत की ये जीत अभी से ​विवादों में आ गई। दरअसल भारत की तरफ से आर अश्विन ने जोस हेजलवुड को आउट कर ऑस्ट्रेलिया को आखिरी झटका दिया। लेकिन हेजलवुड का विकेट अब विवाद में आ गया है। फोक्स क्रिकेट ने हेजलवुड के विकेट का वीडियो शेयर कर भारत की इस जीत पर सवाल खड़े कर दिए हैं।

रोमांचक हो गया था मुकाबला
ऑस्ट्रेलिया 323 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए एक वक्त स्कोर चार विकेट पर 84 रन था और भारत की जीत चौथे दिन ही तय लग रही थी, लेकिन इसके बाद अगले पांच विकेट के लिए 31, 41, 31, 41, 31 रन की पार्टनरशिप और सबसे अहम आखिरी विकेट के लिए 32 रन की साझेदारी ने मैच को रोमांचक बना दिया। हालांकि अश्विन ने आखिरी विकेट लेकिन मैच भारत की झोली में डाल दिया। लेकिन ये जीत ऑस्ट्रेलियाई मीडिया को पच नहीं रही है, फोक्स क्रिकेट ने हेजलवुड के आउट होने का वीडियो शेयर कर लिखा- क्या आखिरी कैच क्लीन था?

कैसे आउट हुए थे हेजलवुड?
वीडियो में देखा जा सकता है कि सेकेंड स्लिप पर खड़े केएल राहुल ने हेजलवुड का कैच लपका। लेकिन गेंद राहुल के हाथ से हल्की सी फिसलती हुई दिख रही है। लेकिन ऐसा लग रहा है कि राहुल ने आसानी से कैच लपक लिया है। वैसे ये वीडियो शेयर करने के बाद फैंस ने ऑस्ट्रेलियाई साइट फोक्स क्रिकेट को जमकर लताड़ लगाई है। कई फैंस ने इस वीडियो के रिप्लाई में कहा है कि अब ऑस्ट्रेलिया भी पाकिस्तान और बांग्लादेश जैसे बहाने बनाने लगी है।









Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Was the final dismissal in Indias win over Australia a clean catch?

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/was-the-final-dismissal-in-indias-win-over-australia-a-clean-catch-5992730.html

भारत के बाद अब पाकिस्तान में सामने आया 'विजय माल्या' जैसा मामला


इंटरनेशनल डेस्क/लाहौर: कर्ज में डूबे पाकिस्तान में 'विजय माल्या' जैसा मामला सामने आया है, जहां पाकिस्तान की एक निजी एयरलाइन कंपनी के मालिक पर 1.36 बिलियन कैश लेकर विदेश भागने का आरोप है। इस एयरलाइन की कई घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ाने 2 महीने से रद्द चल रही थीं। अक्तूबर महीने से ही इस एयरलाइन की कई उड़ने रद्द थीं, वहीं एयरलाइन के आंकड़ें देखें तो कंपनी के करीब 3000 कर्मचारियों को कई महीनों से सैलरी नहीं दी गई थी, सैलरी न मिलने को लेकर एयरलाइन के कर्मचारी प्रदर्शन भी कर रहे थे। इतना ही नहीं इस मामले को लेकर कंपनी के खिलाफ कोर्ट भी पहुंचे हैं।

करोडों रुपए का घोटाला कर हुए फरार
पाकिस्तान की निजी एयरलाइन शाहीन एयर इंटरनेशनल के मालिक करोड़ों रुपये का घोटाला करके विदेश भाग गया। इस एयरलाइन के चेयरमैन काशिफ महमूद सहबई और इसके सीईओ एहसान खालिद सहबई का नाम पहले से ही 'एक्जिट कंट्रोल लिस्ट' में शामिल है। इस लिस्ट में शामिल होने का मतलब है कि ये लोग देश छोड़कर नहीं भाग सकते हैं, लेकिन पाकिस्तान में ये दोनों लिस्ट में नाम होने के बावजूद भी करोड़ों का घोटाला करके विदेश भागने में सफल हो गए।
इन दोनों पर एयर लाइन ऑपरेशन का भी 136 लाख रुपये बकाया हैं। इन दोनों की भागने की आशंका पहले से ही पकिस्तान के नागरिक उड्डयन प्राधिकरण (सीएए) को थी।

किंगफिशर के विजय माल्या जैसा मामला
पाकिस्तान के द डॉन ने अपनी रिपोर्ट में बताया- 'जब कंपनी के विदेशी इनवेस्टमेंट के बारे में पूछताछ की गई तो अधिकारी ने बताया कि एयरलाइन का बाजार खराब होने की वजह से निवेश के लिए कोई विदेशी संस्था आगे नहीं आई।' पाकिस्तानी के अखबार डॉन के मुताबिक सीएए के पास इस एयरलाइन के आठ विमान हैं क्योंकि ये विमान उड़ान भरने की स्थिति में नहीं है।इन विमानों के लिए सीएए साई पार्किंग शुल्क भी लेता है।

पहले फायदे में थी शाहीन एयर इंटरनेशनल
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एयरलाइन के पास स्थानीय और विदेशी प्रॉपर्टी मिलाकर करीब 18 बिलियन की कुल संपत्ति है। इतना ही नहीं साल 2006 से साल 2016 तक एयरलाइन कंपनी फायदे में भी ही रही है। एयरलाइन को मुनाफे का एक बड़ा भाग खाड़ी देशों के रूट पर मिला है। पाकिस्तानी अखबरा 'द डॉन' के मुताबिक- जब कंपनी के विदेशी इनवेस्टमेंट के बारे में पूछताछ की गई तो एक अधिकारी ने बताया- 'एयरलाइन का बाजार खराब होने की वजह से निवेश के लिए कोई विदेशी संस्था आगे नहीं आई।'फायदे में भी ही रही है। एयरलाइन को मुनाफे का एक बड़ा भाग खाड़ी देशों के रूट पर मिला है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Owners of Shaheen Air International flee abroad

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/owners-of-shaheen-air-international-flee-abroad-5992844.html

2020 में डेमोक्रेटिक पार्टी से राष्ट्रपति चुनाव लड़ सकते हैं जॉन कैरी


वॉशिंगटन.अमेरिका के पूर्व विदेश मंत्रीजॉन कैरी 2020 में डेमोक्रेटिक पार्टी से राष्ट्रपति चुनाव लड़ सकते हैं। 2020 में राष्ट्रपति चुनाव लड़ने को लेकर पूछे गए सवाल पर कैरी ने कहा कि वे इस पर विचार करेंगे। इससे पहलेडेमोक्रेटिक पार्टी की भारतीय मूल की सांसद कमला हैरिस भी चुनाव लड़ने की इच्छा जता चुकी हैं।

  1. हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के एक कार्यक्रम में जब अगले राष्ट्रपति चुनाव में उम्मीदवार होने के बारे में कैरी से पूछा गया तो उन्होंने थोड़ा रुककर कहा कि वे इसे देखेंगे। उन्होंने कहा कि मैं पहले ही कह चुका हूं कि इसकी संभावना से इनकार नहीं कर सकता।

  2. कैरी ने कहा, "मैं अभी राज्यों में नहीं जा रहा,न ही मैं जमीनी स्तर पर कोई काम कर रहा हूं। लेकिन क्या मैं इस बारे में कुछ सोचूंगा, तो इसका जवाब हां है। मैं यह पहले ही स्पष्ट कर चुका हूं।'' उन्होंने यहां ट्रम्प सरकार की विदेश नीति, जलवायु परिवर्तनसमेत कई मुद्दों पर आलोचना की।

  3. जॉन कैरी 2013 से 2017 तक विदेश मंत्री थे। वे मैसाच्युसेट्स से 1985 से 2013 तक सांसद भी रहे। उन्होंने 2004 में डेमोक्रेटिक पार्टी से राष्ट्रपति चुनाव लड़ा था।

  4. सीनेट में भारतीय मूल की सांसद कमला हैरिस जल्द ही 2020 के राष्ट्रपति चुनाव में अपनी उम्मीदवारी पर फैसला ले सकती हैं। कैलिफोर्निया से डेमोक्रेट पार्टी की सीनेटर कमला ने कहा था कि वे जल्द इस पर फैसला ले सकती हैं। नवंबर में कराए गए डेमोक्रेटिक वोटर्स पोल में कमला को राष्ट्रपति चुनाव के लिए ट्रम्प के खिलाफ पांचवीं पसंदीदा नॉमिनी माना गया था। पोल में पूर्व उपराष्ट्रपति जो बिडेन का नाम सबसे आगे था। इसके बाद वरमोंट के सीनेटर बर्नी सैंडर्स, टेक्सास के रिपब्ल्किन सांसद बीटो ओ'रुर्क और मैसाच्युसेट्स की सीनेटर एलिजाबेथ वॉरेन उनसे आगे थीं।

  5. कमला के अलावा अमेरिका की पहली हिंदू सांसद तुलसी गबार्ड भी 2020 के राष्ट्रपति चुनाव के लिए उम्मीदवारी पेश कर सकती हैं। 37 साल की तुलसी हवाई से चार बार से डेमोक्रेट सांसद हैं। वे हर बार रिकॉर्ड वोटों से जीती हैं। अगर वे उम्मीदवार बनती हैं तो यह पहली बार हाेगा जब किसी हिंदू को अमेरिका के किसी दल की तरफ से राष्ट्रपति चुनाव में उम्मीदवारी मिलेगी। अगर वे चुनी जाती हैं तो अमेरिका की पहली महिला और सबसे युवा राष्ट्रपति बन सकती हैं।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      John Kerry on running for president in 2020: I m going to think about it

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/john-kerry-on-running-for-president-in-2020-i-m-going-to-think-about-it-01381882.html

11 साल बाद ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर जीत के बाद कोहली ने कहा- मुझे अपने खिलाड़ियों पर गर्व है, इस बात के लिए की कंगारुओं की तारीफ


स्पोर्ट्स डेस्क/एडिलेड: भारत ने पहले टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया को 31 रन से हरा दिया। ऑस्ट्रेलियाई जमीन पर टीम इंडिया को 10 साल बाद जीत मिली। पिछली जीत अनिल कुंबले की कप्तानी में 2008 में मिली थी। तब भारत ने पर्थ में 72 रन से मेजबान टीम को हराया था। इस जीत के साथ ही भारत ने 4 मैचों की टेस्ट सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली है। मैच जीतने के बाद विराट कोहली काफी खुश नजर आए।

रोमांच क्रिकेट का हिस्सा
मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में विराट कोहली से जब करीबी मुताबले के बारे में पूछ गया तो उन्होंने कहा- 'टेस्ट क्रिकेट में ये सब होता रहता है। आपको सिर्फ शांत रहने की जरूरत होती है।'

ऑस्ट्रेलियाई टीम के लिए क्या बोले विराट?
कंगारुओं के बारे में कोहली ने कहा- 'ऑस्‍ट्रेलिया ने जोरदार संघर्ष किया लेकिन हमने अपनी योजना पर अमल किया और आखिरी विकेट हासिल करने में सफल रहे' विराट ने कहा- 'मुझे अपने गेंदबाजों पर गर्व है जिन्‍होंने मैच में 20 विकेट हासिल किए, ये बड़ी उपलब्धि है।' उन्होंने कहा कि ऑस्‍ट्रेलियाई टीम की ओर से किए गए संघर्ष के बावजूद यह कहना चाहूंगा कि भारतीय टीम बेहतर साबित हुई और जीत की हकदार थी।

विराट ने खुद को लेकर किया खुलासा
विराट कोहली कहा- 'मैच के दौरान मुझ पर भी थोड़ा दबाव था।' कोहली ने कहा, 'उन्होंने शानदार जज्बा दिखाया। मैं ये नहीं कहूंगा कि मैं बर्फ की तरह ठंडा था लेकिन आप ऐसा दिखा नहीं सकते।'

जीत सकते हैं हर मैच
विराट कोहली ने ये भी कहा कि अगर आने वाले मैचों में बल्लेबाजी अच्छी होती रही तो फिर भारतीय टीम सीरीज का हर मैच जीत सकती है। विराट कोहली ने चेतेश्वर पुजारा की भी जमकर तारीफ की। कोहली ने कहा कि पुजारा ने जिस तरह की बल्लेबाजी की वो काबिलेतारीफ था।

विराट के नाम दर्ज हुआ अनोखा रिकॉर्ड
बतौर कप्तान विराट कोहली के नाम अनोखा रिकॉर्ड दर्ज हो गया है। विराट एक कैलेंडर ईयर में इंग्लैंड, दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट मैच जीतने वाले पहले भारतीय कप्तान बन गए हैं। कोहली से पहले राहुल द्रविड़ और एमएस धोनी इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका में तो टीम को जीत दिला चुके हैं लेकिन ऑस्ट्रेलिया में नहीं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Virat Kohli addresses press conference after India beat Australia in Adelaide

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/virat-kohli-addresses-press-conference-after-india-beat-australia-in-adelaide-5992697.html

जीएसटी जैसे आर्थिक सुधारों के लिए आईएमएफ के चीफ इकोनॉमिस्ट ने मोदी सरकार की तारीफ की


वॉशिंगटन. अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के मुख्य अर्थशास्त्री मॉरिस ऑब्स्टफेल्ड ने मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों की तारीफ की है। मॉरिस ने रविवार को एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि पिछले चार सालों में भारत का विकास काफी मजबूती से हुआ। उन्होंने जीएसटी और दिवालिया कानून जैसे आर्थिक सुधारों को भी सरकार का बेहतरीन कदम बताया।

  1. मॉरिस ने कहा, “जीएसटी और दिवालिया कानून लागू कर मोदी सरकार ने देश की आर्थिक स्थिति में आधारभूत सुधार किए हैं। इसके अलावा सरकार ने बड़े स्तर पर लोगों को अर्थव्यवस्था की मुख्यधारा में शामिल किया, जो कि एक जरूरी कदम था।”

  2. मोदी सरकार की पिछले साढ़े चार सालों की आर्थिक नीतियों की समीक्षा करते हुए मॉरिस ने कहा कि विकास में भारत का प्रदर्शन काफी मजबूत रहा है। उन्होंने कहा- “अभी भी कुछ कमियां हैं, इसलिए जरूरी है कि सरकार चुनावों के दौरान भी सुधारों की गति बनाए रखे, ताकि वित्तीय व्यवस्था भी सही तरीके से बनी रहे।”

  3. मॉरिस ने भारत में कॉरपोरेट कर्ज और खराब इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स के लंबे इतिहास पर भी टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ सालों में देश बैंकिंग सिस्टम की तरफ ज्यादा केंद्रित हुआ है। लेकिन जैसे भारत बैंकिंग सिस्टम की तरफ बढ़ रहा है, हो सकता है कि कर्ज शेडौ बैंकिंग की तरफ मुड़ गए हों। इसलिए आर्थिक दबाव को नियंत्रित रखने के लिए इस क्षेत्र में नजर बनाए रखने की जरूरत है। भारत में हमें यह कोशिश नजर आने लगी है।

  4. 66 साल के मॉरिस अपना तीन साल का कार्यकाल पूरा कर इस महीने रिटायर हो रहे हैं। वे इसके बाद यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया में अर्थशास्त्र विभाग लौट जाएंगे। मॉरिस के बाद भारत की गीता गोपीनाथ आईएमएफ में मुख्य अर्थशास्त्री का पद संभालेंगी। वे रघुराम राजन के बाद इस पद परपहुंचने वाली दूसरी भारतीय होंगी।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      IMF Chief Economist praised reforms like GST says India growth very solid

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/imf-chief-economist-praised-reforms-like-gst-says-india-growth-very-solid-01380495.html

माल्या के प्रत्यर्पण पर लंदन की अदालत आज लेगी फैसला, भारत आने पर इस जेल में रखा जाएगा


इंटरनेशनल डेस्क. भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या के प्रत्यर्पण मामले में लंदन की वेस्टमिंस्टर अदालत सोमवार को फैसला सुना सकती है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक भारत आने पर माल्या को डर है कि राजनीति की वजह से निष्पक्ष सुनवाई नहीं होगी। उस पर नए आरोप भी लग सकते हैं।

माल्या पर कितने का है कर्ज : माल्या पर भारतीयों बैंकों के 9,000 करोड़ रुपए बकाया हैं। वह मार्च 2016 में लंदन भाग गया था। भारत ने पिछले साल फरवरी में यूके से उसके प्रत्यर्पण की अपील की थी। भारत में फ्रॉड और मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों पर अप्रैल 2017 में स्कॉटलैंड यार्ड में माल्या की गिरफ्तारी हुई लेकिन, जमानत पर छूट गया। उसके प्रत्यर्पण का मामला 4 दिसंबर 2017 से लंदन की अदालत में चल रहा है।

- माल्या का कहना है कि उसके खिलाफ मामला राजनीति से प्रेरित है। उसने एक रुपया भी उधार नहीं लिया। किंगफिशर एयरलाइंस ने लोन लिया था। कारोबार में घाटा होने की वजह से लोन की रकम खर्च हो गई। वह सिर्फ गारंटर था और यह फ्रॉड नहीं है।

कर्ज चुकाने को तैयार :माल्या कर्ज का 100% मूलधन चुकाने को तैयार है। उसने साल 2016 में कर्नाटक हाईकोर्ट में भी यह ऑफर दिया था। उसका कहना है कि रकम चुराकर भागने की बात गलत है। उसे बैंक डिफॉल्ट का पोस्टर बॉय बना दिया गया है। माल्या ने यह भी कहा था कि साल 2016 में उसने प्रधानमंत्री मोदी और वित्त मंत्री अरुण जेटली को चिट्ठी लिखकर जांच कमेटी गठित करने की मांग की थी लेकिन, कोई जवाब नहीं मिला।

"भारतीय जेलों की हालत अच्छी नहीं" : माल्या ने यह भी कहा था कि भारतीय जेलों की हालत अच्छी नहीं है। इसके बाद यूके की अदालत ने भारत से जेल का वीडियो मांगा था। भारत ने मुंबई की आर्थर रोड जेल के बैरक नंबर 12 का वीडियो भेजा था, जहां माल्या को रखा जाएगा। वीडियो देखने के बाद यूके की कोर्ट ने संतुष्टि जताई थी।

- मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक प्रत्यर्पण पर फैसले से पहले माल्या ने यह भी कहा है कि राजनीति की वजह से उसे भारत में न्याय मिलने के आसार कम हैं। उसके खिलाफ नए आरोप लग सकते हैं।

अक्टूबर 2012 में किंगफिशर एयरलाइंस बंद हुई

मार्च 2012 में माल्या की किंगफिशर एयरलाइंस ने यूरोप और एशिया के लिए फ्लाइट्स बंद कर दीं। घरेलू बाजार में जहां किंगफिशर हर दिन 340 फ्लाइट्स ऑपरेट करती थीं, उन्हें घटाकर 125 कर दिया गया। लेकिन यह फॉर्मूला 8 महीने भी नहीं चला। अक्टूबर 2012 में किंगफिशर की सारी फ्लाइट्स बंद हो गईं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
why vijay mallya fear after extradition

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/why-vijay-mallya-fear-after-extradition-5992701.html

फ्रांस में 'मैक्रों इस्तीफा दो' लिखी वेस्ट पहनकर प्रदर्शन, 1700 प्रदर्शकारी गिरफ्तार


पेरिस. फ्रांस में राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के खिलाफ प्रदर्शन तेज हो गया। रविवार को 'मैक्रों इस्तीफा दो' लिखी वेस्टपहनकर प्रदर्शन किया गया। इसके चलते 1700 प्रदर्शनकारी गिरफ्तार किए गए। देशभर में खासी सिक्योरिटी लगाई गई है। फ्रांस में पेट्रोलियम उत्पादों पर टैक्स बढ़ाने को लेकर शुरू हुआ प्रदर्शन शनिवार को हिंसक हो गया था। पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प में 110 से ज्यादा लोग घायल हुए थे।

  1. प्रदर्शनकारियों ने पेरिस में कारों को आग लगा दी और बैरियर तोड़ दिए। एलिसी पैलेस (राष्ट्रपति का निवास) के पास इकट्ठे हुए लोगों ने 'मैक्रों इस्तीफा दो' के नारे लगाए।

  2. इस दौरान कई जगहों पर पुलिस की प्रदर्शनकारियों से झड़प भी हुई। मार्सेल, बोर्डो, लियोन और टूलो में लगातार चौथे वीकेंड पर लोगों ने बढ़ती कीमतों के चलते प्रदर्शन किया। पेरिस में प्रदर्शन का उग्र रूप सामने आया।

  3. पेरिस में कई दुकानदार प्रदर्शन का शिकार हुए। दुकानों-कैफ में जमकर तोड़फोड़ हुई। शहर की मेयर ऐन हिदाल्गो ने ट्वीट किया- एक बार फिर लोगों ने नुकसान पहुंचाया। इसे कतई अच्छा नहीं कहा जा सकता। पुलिस को लोगों को भगाने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े। बीते दशक में पेरिस में दंगे के दौरान 200 कारें फूंकी जा चुकी हैं।

  4. प्रदर्शनकारियों पर सरकार सख्ती बरत रही है। प्रधानमंत्री एदुआर्दो फिलिप ने पुलिस को उसके ऑपरेशन पर बधाई दी। उन्होंने कहा- मसले के हल के लिए बातचीत जारी है। राष्ट्रपति भी इस बारे में बातचीत करेंगे। पेरिस में 8 हजार पुलिस और पहली बार बख्तरबंद गाड़ियां तैनात की गई हैं।

  5. लूट की घटनाओं को देखते हुए एफिल टॉवर, बड़े म्यूजियम, मेट्रो स्टेशन बंद कर दिए गए। राजधानी से 670 प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया गया। अफसर सोशल मीडिया पर होने वाली गतिविधियों पर भी नजर रख रहे हैं। यूके के टाइम्स अखबार के मुताबिक- दंगा भड़काने वाले कई ऑनलाइन अकाउंट्स रूस से जुड़े पाए गए।

  6. देशभर में 'मैक्रों इस्तीफा दो' लिखी 1.25 लाख पीली बनियानें बांटी गईं। पिछली हफ्ते ऐसी 1.36 लाख बनियानें बांटी गई थीं। पेरिस में जख्मी हुए 179 लोगों को अफसरों ने अस्पताल में भर्ती कराया। 17 पुलिसकर्मी भी घायल हुए।

  7. प्रदर्शन फ्रांस की सीमाओं के पार तक पहुंच गया। ब्रसेल्स (बेल्जियम) से 400 प्रदर्शनकारी गिरफ्तार किए गए। नीदरलैंड के शहरों में भी शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन हुआ। पूरे फ्रांस में 89 हजार पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं।

  8. अमेरिकी राष्ट्रपति ने ट्वीट किया- पेरिस में दिन और रात काफी दुखद रहे। क्या खर्चीले पेिरस समझौते को खत्म नहीं होना चाहिए? क्या कम टैक्स के रूप में पैसा लोगों को पास नहीं पहुंच सकता?

  9. फ्रांस में पेट्रोल और डीजल की बढ़ी हुई कीमतों और हाइड्रोकार्बन टैक्स बढ़ाने के विरोध में 17 नवंबर से ही बड़ी संख्या के लोगों के सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं। फ्रांस के गृह मंत्रालय के मुताबिक, शनिवार को हुआ प्रदर्शन तीसरे सप्ताह लगातार हुआ। पिछले एक हफ्ते में इसमें 1 लाख से ज्यादा लोग शामिल हो चुके हैं।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      huge operation under way in France after yellow vest demonstration
      huge operation under way in France after yellow vest demonstration

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/huge-operation-under-way-in-france-after-yellow-vest-demonstration-01378742.html

24 कैरेट वाले सोने के सिक्कों से बना क्रिसमस ट्री, खर्च 18.52 करोड़ रुपए


म्यूनिख (जर्मनी). प्रोऑरम गोल्ड हाउस ने इस बार सोने के सिक्कों से क्रिसमस ट्री तैयार किया है। प्रोऑरम का दावा है कि यह यूरोप का सबसे महंगा क्रिसमस ट्री है। इसे बनाने में 2018 वियना फिलहॉर्मनिक गोल्ड कॉइन्स लगे हैं। इस क्रिसमस ट्री की कीमत 23 लाख यूरो (करीब 18.52 करोड़ रुपए) बताई जा रही है। ये सिक्के 24 कैरेट (99.99 फीसदी शुद्धता) वाले सोने से बने हैं।

  1. इस कॉइन का नाम वियना फिलहॉर्मनिक ऑर्केस्ट्रा के नाम पर रखा गया है। इसे पहली बार 1989 में लांच किया गया था। यह दुनिया में सबसे ज्यादा बिकने वाले सोने के सिक्कों में एक है।

  2. कुछ खास बातें

    • 2018 गोल्ड कॉइन से बना है यह क्रिसमस ट्री।
    • 63 किलो है शुद्ध सोने के सिक्कों का वजन।
    • 01 औंस (करीब 28.35 ग्राम) का है हर सिक्का।


    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      Europes Most Expensive Christmas Tree Is Made of Gold

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/europes-most-expensive-christmas-tree-is-made-of-gold-01379505.html

भारत ने ऑस्ट्रेलिया में 10 साल बाद टेस्ट जीता, सीरीज के पहले टेस्ट मैच में मेजबान को 31 रन से हराया


स्पोर्ट्स डेस्क/एडिलेड: भारत के चार टेस्ट की सीरीज के पहले मैच में ऑस्ट्रेलिया को 31 रन से हरा दिया। ऑस्ट्रेलियाई जमीन पर टीम इंडिया को 10 साल बाद जीत मिली है। पिछली जीत अनिल कुंबले की कप्तानी में 2008 में मिली थी। तब भारत ने पर्थ में 72 रन से मेजबान टीम को हराया था। साथ ही एडिलेड में 15 साल बाद जीत हासिल हुई। पिछली बार 2003 में सौरव गांगुली की कप्तानी में सफलता मिली थी। दोनों टीमों के बीच 71 साल के टेस्ट इतिहास में भारत पहली बार सीरीज का पहला मैच जीता।

323 रन का था टारगेट

भारत से मिले 323 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए ऑस्ट्रेलियाई टीम दूसरी पारी में आखिरी दिन 291 रन पर सिमट गई। शॉन मार्श ने सर्वाधिक 60 और कप्तान टिम पेन ने 41 रन बनाए। टीम इंडिया के लिए दूसरी पारी में आर अश्विन, जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी को तीन-तीन विकेट मिले, जबकि ईशांत शर्मा ने एक विकेट निकाला। इससे पहले ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 235 रन बनाए थे। वहीं, भारतीय टीम ने पहली पारी 250 और दूसरी 307 रन बनाए थे।

एडिलेड में 116 साल में पहली बारऑस्ट्रेलिया नेचौथी पारी में 200 रन बनाए

एडिलेड में ऑस्ट्रेलिया चौथी पारी में हाइएस्ट 315 रन तक लक्ष्य ही हासिल कर पाया है। उसने 1902 में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट में चौथी पारी में छह विकेट पर 315 रन बनाकर मैच जीता था। इसके बाद उसने पहली बार 200 का आंकड़ा छुआ।

एक टेस्ट में सबसे ज्यादा शिकार करने वाले तीसरे विकेटकीपर बने पंत
ऋषभ पंत एक टेस्ट में सबसे ज्यादा शिकार करने वाले तीसरे विकेटकीपर बने। उन्होंने इस मैच में 11 शिकार किए। इस मामले में पंत ने इंग्लैंड के जैक रसेल और दक्षिण अफ्रीका के एबी डिविलियर्स की बराबरी की। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के एडम गिलक्रिस्ट, भारत के ऋद्धिमान साहा और इंग्लैंड के बॉब टेलर (10 शिकार) को पीछे छोड़ा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
India win the first test match of the 4-match series against Australia by 31 runs.

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/india-win-the-first-test-match-of-the-4-match-series-against-australia-by-31-runs-5992597.html

यहां जमीन की कमी, हर हफ्ते 60 पुरानी कब्रों को दोबारा खोदकर दफनाए जा रहे नए शव


इंटरनेशनल डेस्क, जोहानेसबर्ग. दक्षिण अफ्रीका के जोहानेसबर्ग में शवों को दफनाने के लिए कब्रों की कमी हो गई है। इसके चलते ज्यादातर लोग परिजन के अंतिम संस्कार के लिए पहले से बनी कब्रों को दोबारा खोद रहे हैं। हर हफ्ते शहर में 50 से 60 कब्रें दोबारा खोदी जा रही हैं, ताकि पहले से दफन शव के ऊपरी हिस्से में एक और शव दफनाया जा सके।


शहरी इलाकों पर बोझ
दरअसल, जोहानेसबर्ग दक्षिण अफ्रीका का आर्थिक हब है। यहां बढ़ती जनसंख्या और विदेशियों के पहुंचने की वजह से शहरी इलाकों में लगातार बोझ बढ़ता जा रहा है। अधिकारियों का कहना है कि अगर जनसंख्या पर जल्द काबू नहीं पाया गया तो अगले 50 सालों में शवों को दफनाने के लिए कोई जगह ही नहीं बचेगी।

- शहर के कब्रिस्तानों का प्रबंधन करने वाले विभाग के मैनेजर रेजी मोलोइ के मुताबिक, कब्रों के लिए खुली जगहें तेजी से गायब हो रही हैं। इसकी एक वजह यह है कि लोग बड़ी संख्या में यहां रहने के लिए आ रहे हैं। इनमें विदेशों के नागरिक भी शामिल हैं।

अधिकारियों के मुताबिक- जोहानेसबर्ग अकेला शहर नहीं है, जहां कब्रों की कमी हो रही है। इससे पहले डरबन में भी करीब तीन दशक पहले यही समस्या सामने आई थी। हालांकि, तब यह परेशानी एचआईवी/एड्स से मरने वालों की बढ़ती संख्या और राजनीतिक हिंसा की वजह से पैदा हुई थी।

दूसरे विकल्पों को तलाशने की जरूरत
दक्षिण अफ्रीका के सिमिट्री (कब्रिस्तान) एसोसिएशन के चेयरमैन डेनिस इंग के मुताबिक, लोगों को समझना होगा कि शव को दफनाने की जगह जल्द खत्म हो जाएगी। ऐसे में कब्रों को दोबारा इस्तेमाल करने और शवों को जलाए जाने के विकल्प के बारे में सोचना होगा। हालांकि, अफ्रीकी समुदायों में अभी जलाए जाने को अप्राकृतिक और गैर-पारंपरिक माना जाता है।

अफ्रीका में कुछ शव को आग लगाने को मंजूरी मिलना काफी मुश्किल हो सकता है। अधिकारियों का कहना है कि लोग इसे नरक की आग में जलने जैसा मानते हैं। कुछ और पारंपरिक लोगों का मानना है कि इंसान को पूरा शारीरिक रूप में ही भगवान के पास पहुंचना चाहिए न कि राख के रूप में।

सरकार बना सकती है कब्रों के दोबारा इस्तेमाल का कानून
कब्रों की भारी कमी से निपटने के लिए सरकार जल्द ही एक कानून का प्रस्ताव दे सकती है, जिसके तहत जमीन को जबरदस्ती कब्जे किया जा सकेगा। इसके जरिए सरकार रंगभेद और उपनिवेशवाद के बाद पैदा हुईं असमानता को खत्म किया जा सकेगा। साथ ही लोगों को कब्र के लिए भी जगह मिल सकेगी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
GRAVE DILEMMA: SOUTH AFRICAN CITIES SHORT OF CEMETERY SPACE

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/grave-dilemma-south-african-cities-short-of-cemetery-space-5992596.html

जमीन की कमी, हर हफ्ते 60 पुरानी कब्रों को दोबारा खोदकर दफनाए जा रहे नए शव


जोहानेसबर्ग.दक्षिण अफ्रीका के जोहानेसबर्ग में शवों को दफनाने के लिए कब्रों की कमी हो गई है। इसके चलते ज्यादातर लोगपरिजनके अंतिम संस्कार के लिए पहले से बनी कब्रों को दोबारा खोद रहे हैं। हर हफ्ते शहर में 50 से 60 कब्रें दोबारा खोदी जा रही हैं, ताकि पहले से दफन शव के ऊपरी हिस्से में एक और शव दफनाया जा सके।

  1. दरअसल, जोहानेसबर्ग दक्षिण अफ्रीका का आर्थिक हब है। यहां बढ़ती जनसंख्या और विदेशियों के पहुंचने की वजह से शहरी इलाकों में लगातार बोझ बढ़ता जा रहा है। अधिकारियों का कहना है कि अगर जनसंख्या पर जल्द काबू नहीं पाया गया तो अगले 50 सालों में शवों को दफनाने के लिए कोई जगह ही नहीं बचेगी।

  2. शहर के कब्रिस्तानों का प्रबंधन करने वाले विभाग के मैनेजर रेजी मोलोइ के मुताबिक, कब्रों के लिए खुली जगहें तेजी से गायब हो रही हैं। इसकी एक वजह यह है कि लोग बड़ी संख्या में यहां रहने के लिए आ रहे हैं। इनमें विदेशों के नागरिक भी शामिल हैं।

  3. अधिकारियों के मुताबिक- जोहानेसबर्ग अकेला शहर नहीं है, जहां कब्रों की कमी हो रही है। इससे पहले डरबन में भी करीब तीन दशक पहले यही समस्या सामने आई थी। हालांकि, तब यह परेशानी एचआईवी/एड्स से मरने वालों की बढ़ती संख्या और राजनीतिक हिंसा की वजह से पैदा हुई थी।

  4. दक्षिण अफ्रीका के सिमिट्री (कब्रिस्तान) एसोसिएशन के चेयरमैन डेनिस इंग के मुताबिक, लोगों को समझना होगा कि शव को दफनाने की जगह जल्द खत्म हो जाएगी। ऐसे में कब्रों को दोबारा इस्तेमाल करने और शवों को जलाए जाने के विकल्प के बारे में सोचना होगा। हालांकि, अफ्रीकी समुदायों में अभी जलाए जाने को अप्राकृतिक और गैर-पारंपरिक माना जाता है।

  5. अफ्रीका में कुछ शव को आग लगाने को मंजूरी मिलना काफी मुश्किल हो सकता है। अधिकारियों का कहना है कि लोग इसे नरक की आग में जलने जैसा मानते हैं। कुछ और पारंपरिक लोगों का मानना है कि इंसान को पूरा शारीरिक रूप में ही भगवान के पास पहुंचना चाहिए न कि राख के रूप में।

  6. कब्रों की भारी कमी से निपटने के लिए सरकार जल्द ही एक कानून का प्रस्ताव दे सकती है, जिसके तहत जमीन को जबरदस्ती कब्जे किया जा सकेगा। इसके जरिए सरकार रंगभेद और उपनिवेशवाद के बाद पैदा हुईं असमानता को खत्म किया जा सकेगा। साथ ही लोगों को कब्र के लिए भी जगह मिल सकेगी।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      South African cities short of cemetery space

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/south-african-cities-short-of-cemetery-space-01378929.html

पुलिस ने फेसबुक पर वॉन्टेड का विज्ञापन दिया तो अपराधी बोला- 48 घंटे में पहुंच जाऊंगा


वॉशिंगटन. यहां के एक अपराधी ने अपने जवाब से पुलिस का दिल जीत लिया। पुलिस ने एंथनी एकर्स (38) को पकड़ने के लिए फेसबुक पर एक ऐड पोस्ट किया था। इसके जवाब में एंथनी ने लिखा कि 48 घंटे में वह पुलिस के पास पहुंच जाएगा। हालांकि यह वादा करने के बाद उसने तीसरी बार में सरेंडर किया।

  1. रिचलैंड पुलिस डिपार्टमेंट अपराधियों को पकड़ने के लिए सोशल मीडिया पर ऐड निकालती है। इसे वॉन्टेड वेडनेसडे कहा जाता है। ऐड में लिखा- एंथनी एकर्स को पुलिस पकड़ने में नाकाम रही। अगर किसी के पास जानकारी हो तो दिए गए नंबर पर सूचित करें।

  2. ऐड पोस्ट करने के बाद पुलिस के पास जवाब आया। व्यक्ति ने लिखा- मैं एंथनी एकर्स हूं। आप नाराज न हों। मैं खुद को सौंपने के लिए तैयार हूं। इस पर पुलिस ने कहा कि अगर तुम्हें लाने के लिए गाड़ी की जरूरत पड़े तो हमें बता सकते हो।

  3. एंथनी ने लिखा- ऑफर के लिए शुक्रिया। मैं एक महीने के लिए आपके इलाके में रहूंगा। 48 घंटे के अंदर आपके पास पहुंच जाऊंगा। लेकिन 48 घंटे गुजरने के बाद भी एंथनी पुलिस के पास नहीं पहुंचा। फेसबुक पर एक यूजर ने पूछा- क्या उसने खुद को पुलिस के हवाले कर दिया? पुलिस ने कहा- वह नहीं आया।

  4. एंथनी ने माफी मांगते हुए कहा- "डियर रिचलैंड पुलिस डिपार्टमेंट, यह मैं ही हूं। मैं अपना कमिटमेंट निभाता हूं लेकिन इस बार नहीं आ पाया। इसके िलए खेद है। कल लंचटाइम से पहले आपके सामने रहूंगा। आपके पास मुझ पर भरोसा करने का कोई कारण नहीं है। लेकिन मैं कल लंच के पहले नहीं आ पाया तो फोन करके आपसे गाड़ी बुला लू्ंगा।''

  5. यह भी लिखा- "रिचलैंड पुलिस, आपको एडवांस में शुक्रिया, क्योंकि आपने मुझे एक और मौका दिया। मैं जानता हूं कि मैं इसके लायक नहीं हूं।'' हालांकि दूसरी बार भी एंथनी पुलिस के पास हाजिर नहीं हुआ।

  6. जब दोबारा भी एंथनी पुलिस स्टेशन नहीं आया तो पुलिस ने फिर उसे अपनी गाड़ी से लाने का ऑफर दिया। कहा- वीकेंड आया और चला गया। हमें शुरुआत से ही लग रहा था कि तुम आना ही नहीं चाहते। तुम हमें कभी भी फोन कर सकते हो। हम तुम्हें ले आएंगे।

  7. आखिरकार तीसरी बार एंथनी ने वादा निभाया और 4 दिसंबर को उसने रिचलैंड पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया। उसने पुलिस अफसरों के साथ सेल्फी ली, उसे सोशल मीडिया पर अपलोड करते हुए लिखा- अपनी स्वीटहार्ट के साथ डेट पर आया हूं।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      fugitive won hearts of police for response to a wanted ad on social media

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/fugitive-won-hearts-of-police-for-response-to-a-wanted-ad-on-social-media-01376531.html

माल्या के प्रत्यर्पण पर कल आ सकता है फैसला, भारतीय बैंकों का 9000 करोड़ रुपए है बकाया, ईडी-सीबीआई की टीमें यूके रवाना


नई दिल्ली. भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या के प्रत्यर्पण पर यूके की अदालत सोमवार को फैसला सुना सकती है। इस मामले में 12 सितंबर को आखिरी सुनवाई हुई थी। माल्या पर भारतीय बैंकों के 9,000 करोड़ रुपए बकाया हैं। इस मामले में जांच कर रही सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की टीमें भी यूके के लिए रवाना हो गई हैं। प्रत्यर्पण पर फैसला आने के पांच दिन पहले माल्या ने ट्वीट कर कहा था कि वो 100 फीसदी रकम चुकाने को तैयार है।

दिसंबर 2017 में दर्ज हुआ था मामला
माल्या ने मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों के बाद देश छोड़ दिया था। वह मार्च 2016 से लंदन में है। भारत सरकार लगातार उसके प्रत्यर्पण की कोशिश कर रही है। 2017 में जी-20 सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे से माल्या के प्रत्यर्पण की अपील की थी। पिछले साल चार दिसंबर को इस मामले में यूके की कोर्ट में केस शुरू हुआ था।

ईडी की कार्रवाई जारी रहेगी
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या की वह मांग खारिज कर दी, जिसमें उसने ईडी की कार्रवाई पर रोक लगाने की अपील की थी। ईडी ने मुंबई स्थित विशेष कोर्ट में अर्जी दाखिल कर मांग की थी कि माल्या को भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित किया जाए। माल्या ने इसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। इस मामले में पिछले महीने बॉम्बे हाईकोर्ट ने माल्या की अर्जी खारिज कर दी थी। जिसके खिलाफ माल्या ने सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी।

कर्ज की 100% रकम चुकाने को तैयार माल्या
विजय माल्या ने गुरुवार को ट्वीट कर यह अपील दोहराई कि वह बैंकों का 100% बकाया चुकाने को तैयार है। लेकिन यह किस्सा खत्म होना चाहिए कि उसने पैसा चुराया। माल्या ने बुधवार को सैटलमेंट का प्रस्ताव देते हुए कहा था कि वह साल 2016 में ही कर्ज चुकाने को तैयार था। इस बारे में सरकार को चिट्ठी भी लिखी लेकिन कोई जवाब नहीं मिला।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
UK Court expected to pronounce its judgment on Mallya extradition

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/uk-court-expected-to-pronounce-its-judgment-on-mallya-extradition-5992376.html

साल के अंत तक व्हाइट हाउस चीफ आॅफ स्टाफ का पद छोड़ेंगे जाॅन केली, ट्रम्प ने किया एेलान


वॉशिंगटन.अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने व्हाइट हाउस चीफ ऑफ स्टाफ के पद से जॉन केली को हटने का ऐलान किया है। ट्रम्प ने शनिवार को ट्वीट में कहा कि केली साल के अंत तक अपना पद छोड़ देंगे। दरअसल, कई दिनों से ऐसी रिपोर्ट्स आ रही थीं कि व्हाइट हाउस में केली और ट्रम्प के रिश्ते खराब हो गए हैं और इसीलिए केली पर लगातार पद छोड़ने का दबाव बन रहा है। हालांकि, ट्रम्प ने उन्हें बेहतरीन आदमी बताया और कहा कि अगले एक-दो दिन में वे केली का स्थान लेने वाले व्यक्ति की घोषणा करेंगे।

ट्रम्प ने रिपोर्ट्स से कहा- केली पिछले दो सालों से मेरे साथ थे, मुझे उनकी सेवाओं की कद्र है। केली अमेरिकी सेना के रिटायर्ड मरीन कोर जनरल हैं। 31 जुलाई 2017 से ट्रम्प के चीफ ऑफ स्टाफ हैं। ट्रम्प प्रशासन के पहले सात महीनों में वह गृह सुरक्षा मंत्री थे।

निक्की हेली भी दे चुकी हैं इस्तीफा
माना जा रहा है कि अमेरिकी उपराष्ट्रपति माइक पेंस के चीफ ऑफ स्टाफ निक एयर्स (36) केली का स्थान लेंगे। केली के जाने के साथ अब तक 28 लोग व्हाइट हाउस से निकाले जा चुके हैं या अपना पद छोड़ चुके हैं। हाल ही में यूएन में अमेरिका की राजदूत निक्की हेली ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। वे भी इस साल के अंत तक पद छोड़ देंगी। उनकी जगह विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हीदर नॉअर्ट को नियुक्त किया गया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
John Kelly resigns from White House Chief of Staff position

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/john-kelly-resigns-from-white-house-chief-of-staff-position-01376649.html

14 साल में आंखों की रोशनी चली गई थी, दृष्टिहीनों के लिए बनाया आवाज से चलने वाला ऐप


टोक्यो. जापान में डॉ. चीको असाकावा की आंखों की रोशनी 14 साल की उम्र में चली गई थी। लेकिन वे बीते 30 साल से दृष्टिहीनों के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) तैयार करने में जुटी हैं। वे आवाज से चलने वाला ऐप नेवकॉग बना चुकी हैं। इससे दृष्टिहीनों को इमारत के अंदर जगह ढूंढने में मदद मिलेगी। डॉ. चीको दुनिया का पहला वेब टू स्पीच (इंटरनेट पर लिखा पढ़ने वाला) ब्राउजर भी बना चुकी हैं।

  1. डॉ. असाकावा के मुताबिक- जब मैं बड़ी हो रही थी, तब मदद के लिए कुछ खास तकनीकी नहीं थी। मैं खुद से न तो कुछ पढ़ सकती थी और न ही कहीं जा सकती थी। यह बहुत दर्दनाक अनुभव था। मैंने दृष्टिहीनों के लिए होने वाला कंप्यूटर कोर्स सीखना शुरू किया और इसके बाद मुझे आईबीएम में जॉब मिल गया।

  2. नेवकॉग के बारे में असाकावा बताती हैं कि इसके लिए हर दस मीटर पर कम ऊर्जा (रोशनी) वाले ब्लूटूथ लगाए गए हैं। इससे फिंगरप्रिंट के जरिए लोकेशन की जानकारी मिलेगी। यह काफी मददगार होगा और यूजर सही लोकेशन के आसपास पहुंच सकेगा।

  3. नेवकॉग फिलहाल पायलट प्रोजेक्ट की तरह काम कर रहा है। अमेरिका और टोक्यो में कई साइट्स पर यह मौजूद है। आईबीएम जल्द ही इसे और डेवलप कर जनता के लिए लॉन्च करेगा।

  4. पिट्सबर्ग (अमेरिका) में रहने वाले डगलस (70) और क्रिस्टीन (65) हन्सिंगर दृष्टिहीन हैं। एक होटल में दृष्टिहीनों के लिए आयोजित कॉन्फ्रेंस में दोनों नेवकॉग की मदद से ही पहुंचे।

  5. क्रिस्टीन कहती हैं कि इसके इस्तेमाल से ऐसा लगा कि मैं खुद को नियंत्रित रखे हुए हूं। डगलस कहते हैं कि नेवकॉग की मदद से कोई भी बिना आंखों वाला व्यक्ति इमारत के अंदर आसानी से आ-जा सकता है।

  6. डॉ. असाकावा एक नेविगेशनल रोबोट एआई सूटकेस भी बना रही हैं। इससे दृष्टिबाधित व्यक्ति को एयरपोर्ट जैसी जगहों पर दिशा-निर्देश समेत फ्लाइट में देरी और दरवाजों की जानकारी मिल सकेगी। सीढ़ियां आने पर सूटकेस व्यक्ति को सूचना देने के साथ उसे सहारा पकड़ने को भी कहेगा।

  7. असाकावा के मुताबिक- अभी सूटकेस का जो प्रोटोटाइप बनाया गया है, वह थोड़ा भारी है। जैसे-जैसे हम इस पर काम करते जाएंगे, यह छोटा, हल्का और सस्ता होता जाएगा।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      japan blind woman developing tech for the good of others
      japan blind woman developing tech for the good of others

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/japan-blind-woman-developing-tech-for-the-good-of-others-01357968.html

गोभी खरीदने जा रही महिला ने रास्ते में लॉटरी खरीदी; 1.5 करोड़ रुपए जीते


मेरीलैंड. अमेरिका के मेरीलैंड में एक महिला महज 25 मिनट में करोड़पति बन गई। दरअसल, वेनेसा वार्ड (31) नाम की महिला गोभी खरीदने के लिए घर से निकली थी। रास्ते में उसने एक लॉटरी खरीदी और 2 लाख 25 हजार डॉलर (करीब 1.5 करोड़ रुपए) जीत लिए। वेनेसा वार्ड ने वर्जीनिया लॉटरी को बताया कि उसे उसके पिता ने गोभी लाने के लिए कहा था।

रास्ते में उसने गोभी के साथ-साथ किस्मत आजमाने के लिए स्पिन स्क्रैच-ऑफ टिकट भी खरीद लिया। लॉटरी टिकट खरीदकर वह घर आ गई। जब उसने टिकट स्क्रैच किया तो उसे देखकर वह दंग रह गई। इस दौरान वेनेसा ने पाया कि लॉटरी में उसने 2 लाख 25 हजार डॉलर जीत लिए। लॉटरी जीतने पर वेनेसा ने बताया कि वह इस रकम को अपने रिटायरमेंट के लिए बचाकर रखना चाहती है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
woman buying cabbage bought a lottery on the way 1.5 crore to win in Maryla

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/woman-buying-cabbage-bought-a-lottery-on-the-way-1-5-crore-to-win-in-maryla-01357746.html

बाल काटने के अनोखे अंदाज से दुनियाभर में मशहूर हो रहा ये शख्स


इंटरनेशनल डेस्क। आम तौर पर आपने कई हेयर स्टाइलिश को लोगों के बाल काटते देखे होंगे लेकिन हम आपको एक खास हेयर स्टाइलिश से मिलवाएंगे। बाल काटने का इनका अजीबोगरीब तरीका ही इन्हें बनाता है सबसे अलग। पाकिस्तान के रहने वाले 26 साल के मोहम्मद अवैस पिछले 10 सालों से इस पेशे में हैं।अवैस बाल काटने के लिए 27 कैंचियां का इस्तेमाल एक साथ करते हैं। दोनों हाथों की 10 उंगलियां में वो 27 कैंचियों को फंसाते हैं और फिर बाल को डिजाइन भी करते हैं। इतनी सारी कैंचियों के साथ मोहम्मद अवैस धीरे-धीरे नहीं बल्कि काफी तेजी से लोगों के बाल काटते हैं।अपने इसी अनोखे अंदाज की वजह से अवैस पाकिस्तान में काफी मशहूर हो गए हैं। मोहम्मद अवैस धीरे-धीरे नहीं बल्कि काफी तेजी से लोगों के बाल काटते हैं।

ऊपर दिए वीडियो में देखें बाल काटने का अनोखा अंदाज



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Pakistani Barber Uses 27 Pairs Of Scissors To Cut Hair

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/pakistani-barber-uses-27-pairs-of-scissors-to-cut-hair-5991855.html

1.5 लाख प्रदर्शनकारियों कोे रोकने के लिए देशभर में लगे 90 हजार पुलिसकर्मी, 450 गिरफ्तार


पेरिस. फ्रांस में पिछले चार हफ्तों से मंहगाई और पेट्रोल-डीजल पर बढ़े टैक्स को लेकर प्रदर्शन जारी है। शनिवार को देशभर में करीब 1.25 लाख लोगों ने मार्च निकाला। प्रदर्शनों में हिंसा को रोकने के लिए फ्रांस सरकार ने 90 हजार पुलिसकर्मियों को लगाया है। पेरिस में 10 हजार लोगों के प्रदर्शन को नियंत्रित रखने के लिए प्रशासन ने 8 हजार पुलिसवाले तैनात किए। कुछ जगहों पर आगजनी जैसी घटनाओं को अंजाम देने वाले यलो वेस्ट प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने आंसू गैस से लेकर रबर बुलेट्स का भी इस्तेमाल किया।

फ्रेंच मीडिया के मुताबिक, अब तक 1000 से ज्यादा प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया जा चुका है। इसके अलावा 720 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। हालांकि हिंसा पिछले हफ्ते के मुकाबले काफी हद तक नियंत्रित कर ली गई है।

प्रधानमंत्री ने की एकता बनाए रखने की अपील

इसी बीच फ्रांस के प्रधानमंत्री एडुअर्ड फिलिप ने लोगों से राष्ट्रीय एकता बनाए रखने की अपील की। उन्होंने कहा कि किसी तरह के टैक्स से हमारी एकता बर्बाद नहीं हो सकती। हमें बातचीत के जरिए दोबारा इस मामले में साथ आना चाहिए। उन्होंने शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन करने वालों से सरकार से सीधे बात करने के लिए कहा।

बेल्जियम में भी शुरू हुए प्रदर्शन
बेल्जियम की राजधानी ब्रसेल्स में चल रहे यलो वेस्टप्रदर्शन के तहत यहां भी पुलिस ने 450 लोगों को गिरफ्तार किया। प्रदर्शन के दौरान पुलिस एवं प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प हुई थी। फ्रांस की तरह ही बेल्जियम में मौजूदा आंदोलन तेल की कीमतों में बढ़ोतरी, कम आय, बेरोज़गारी, शिक्षा नीति और कड़े श्रम क़ानून के विरोध में किया जा रहा है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
France Protest against rising Fuel taxes news and updates
France Protest against rising Fuel taxes news and updates
France Protest against rising Fuel taxes news and updates

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/france-protest-against-rising-fuel-taxes-news-and-updates-01374914.html

107 साल के दुनिया के सबसे बुजुर्ग हेयर ड्रेसर, 96 साल से बाल काट रहे


न्यूयॉर्क. यहां पर एक सैलून में 107 साल के एंथनी मैनसिनेली आकर्षण का केंद्र हैं। वजह है- एंथनी आज भी कटिंग कर रहे हैं। 96 साल से कटिंग कर रहे एंथनी दुनिया के सबसे बुजुर्ग हेयर ड्रेसर हैं। 11 साल पहले (96 साल की उम्र में) एंथनी का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में शामिल किया गया था।

  1. एंथनी ने 11 साल की उम्र में कटिंग करना शुरू किया था। घर पर आराम करने के सवाल पर एंथोनी कहते हैं- मैं रिटायर क्यों होऊंगा? मैं अभी भी काफी काम कर सकता हूं। घर पर रहना मुझे बोर करता है। एंथनी हफ्ते में 5 दिन सैलून में आठ घंटे काम करते हैं।

    ss

  2. एंथनी के कस्टमर्स में उनका 81 साल का बेटा भी है। लंबी जिंदगी का राज बताते पूछने पर वह कहते हैं- अगर कभी पता लगा तो अपने प्यार करने वालों को सबसे पहले बताऊंगा। बस इतना कह सकता हूं कि मैं अपने काम से प्यार करता हूं। शायद ऐसा करना ही मुझे जवान रखे हुए है।

  3. एंथनी के मुताबिक- 69 साल पहले मेरी शादी हुई थी। 14 साल पहले पत्नी की मौत हो गई। उसे बहुत मिस करता हूं। उनके एक ग्राहक क्रिस ड्यून कहते हैं- इस उम्र में भी उनका काम शानदार है। मुझे उनसे कोई शिकायत नहीं।

  4. 2007 में गिनीज बुक में नाम दर्ज होने के बाद कई हस्तियों ने उनके नाम पत्र लिखे हैं। इनमें अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा की पत्नी मिशेल ओबामा और न्यूयाॅर्क के गवर्नर एंड्रू कुओमो शामिल हैं। इसके अलावा आसपास की सैलून कंपनियां भी एंथनी को इस उपलब्धि पर बधाई दे चुकी हैं।

  5. एंथनी का स्टेट बार्बर लाइसेंस 31 अक्टूबर 2020 को खत्म हो जाएगा। हालांकि, अगर एंथनी के स्वास्थ्य को देखा जाए तो कहा जा सकता है कि वे लाइसेंस पहले ही रिन्यू करा सकते हैं।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      World's oldest barber 107-year-old Anthony Mancinelli cutting hairs from 96
      World's oldest barber 107-year-old Anthony Mancinelli cutting hairs from 96

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/world-s-oldest-barber-107-year-old-anthony-mancinelli-cutting-hairs-from-96-01357917.html

100 रुपए का दही चोरी होने पर महिला ने किया केस, डीएनए जांच में 42 हजार रुपए खर्च


ताइपे. ताइवान पुलिस ने 100 रुपए का दही चुराने वाले को पकड़ने के लिए 6 लोगों का डीएनए टेस्ट करा दिया। यह जांच स्टूडेंट्स होम में रहने वाली एक महिला की शिकायत पर शुरू की थी। महिला का आरोप था कि किसी ने उसके फ्रिज से दही निकाल कर खा लिया। लेकिन जब उसने अपने साथ रहने वाले 5 लोगों से इस बारे में पूछा तो सभी ने दही खाने से इनकार कर दिया। इसके बाद महिला ने ताइपे पुलिस के पास केस दर्ज कराया।

फिंगरप्रिंट नहीं मिला तोफोरेंसिक जांच की

ताइवान की मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जब महिला पुलिस के पास दही का पैकेट लेकर शिकायत करने गई तो सभी उसकी शिकायत पर चौंक गए। हालांकि, बाद में अधिकारियों ने चोरी का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी।जांच के दौरान सबसे बड़ी दिक्कत यह थी कि पुलिस को पैकेट से आरोपी का फिंगरप्रिंट नहीं मिल पाया, क्योंकि घटना के वक्त पैकेट गीला था। एेसे में महिला ने जांच टीम को फोरेंसिक की मदद लेने की सलाह दी। फोरेंसिक जांच की मंजूरी मिलने के बाद टीम ने महिला समेत कुल 6 लोगों का डीएनए टेस्ट किया। इसके नतीजों के आधार पर ही पुलिस ने दोषी को गिरफ्तार कर लिया।

डीएनए जांच से करदाताओं में गुस्सा
हर एक महिला के डीएनए टेस्ट में पुलिस को 3 हजार ताइवानी डॉलर (7000 रुपए) खर्च करने पड़े। इस लिहाज से 6 लोगों के टेस्ट में विभाग के कुल 42 हजार रुपए खर्च हो गए। ताइवान के लोगों ने मामला सामने आने के बाद करदाताओं के पैसे को इस तरह बर्बाद करने पर नाराजगी जताई। कुछ लोगों ने पुलिस पर संसाधन के दुरुपयोग का भी आरोप लगाया।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Police conducts DNA test to catch thief who stole packet of Yoghurt

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/police-conducts-dna-test-to-catch-thief-who-stole-packet-of-yoghurt-01368338.html

मेक्सिको की वनीसा ने जीता मिस वर्ल्ड 2018 का खिताब, आखिरी राउंड में अपने जवाब से जीत लिया जजेस की दिल


सान्या. साल 2018 के लिए मेक्सिको की वनीसा को मिस वर्ल्ड चुन लिया गया है। मिस वर्ल्ड के लिए वनीसा से सवाल पूछा गया कि वो दूसरों की मदद करने लिए आप मिस वर्ल्ड खिताब का इस्तेमाल किस तरह से करेंगी। इसके जवाब में वनीसा ने कहा कि मैं पिछले तीन साल से जैसा कर रही हूं वैसे ही अपनी पोजीशन का इस्तेमाल दूसरों की मदद के लिए करती रहूंगी। इस जवाब ने जजेज का दिल जीत लिया।

सवाल के जवाब में और क्या कहा ?
वनीसा ने सवाल का जवाब देते हुए आगे कहा, ''दुनिया में हम सभी अच्छे उदाहरण हैं। हम सबको दयालु, दूसरों की चिंता करने वाला और सभी को प्यार देने वाला होना चाहिए क्योंकि इसकी कोई कीमत नहीं है। मदद करना इतना भी मुश्किल काम नहीं है। इसके लिए हमें कभी जाने की भी जरूर नहीं होती। हम सभी के आस-पास हमेशा ऐसे लोग होते हैं, जिन्हें आपकी मदद की जरूरत होती है। बस हमारी पहल की जरूरत होती है।''

मानुषी ने पहनाया क्राउन
चीन की सान्या सिटी में शनिवार शाम को 2017 की मिस वर्ल्ड भारत की मानुषी छिल्लर ने मेक्सिको की वनीसा को मिस वर्ल्ड का क्राउन पहनाया। फर्स्ट रनर अप थाईलैंड की निकोलेंस पिचापा रहीं। भारत की अनुकृति वास टॉप 30 के लिए चुनी गईं लेकिन उसके बाद वो टॉप 12 में जगह नहीं बना पाईं और कॉम्पीटिशन से बाहर हो गईं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
video

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/miss-world-2018-vanessa-ponce-de-leon-winning-answer-5992154.html

मेक्सिको की वनीसा ने जीता मिस वर्ल्ड 2018 का खिताब, थाईलैंड की निकोलेंस दूसरे नंबर पर रहीं



इंटरनेशनल डेस्क। मेक्सिको की वनीसा को मिस वर्ल्ड 2018 चुन लिया गया है। चीन की सान्या सिटी में शनिवार शाम को 2017 की मिस वर्ल्ड भारत की मानुषी छिल्लर ने उन्हें मिस वर्ल्ड का क्राउन पहनाया। फर्स्ट रनर अप थाईलैंड की निकोलेंस पिचापा रहीं। भारत की अनुकृति वास टॉप 30 के लिए चुनी गईं लेकिन उसके बाद वो टॉप 12 में जगह नहीं बना पाईं और कॉम्पीटिशन से बाहर हो गईं। जीत के बाद वनीसा पोन्स डि लियोन ने कहा कि उन्हें विश्वास नहीं हो रहा है कि वो विनर बन गई हैं। सबसे अपना बेस्ट दिया और उन्होंने ने भी अपना बेस्ट दिया।

कॉन्टिनेन्टल क्वीन विनर्स
बेलारुस की मारिया वासेलेविच मिस वर्ल्ड यूरोप चुनी गईं। वहीं, जमैका की कादिजाह रॉबिन्सन मिस वर्ल्ड कैरेबियन, पनामा की सोलारिस बारबा मिस वर्ल्ड अफ्रीका और थाईलैंड की निकोलेंस पिचापा मिस वर्ल्ड एशिया और ओशेनिया चुनी गईं।


अनुकृति टॉप 30 में ही बना पाईं जगह
मिस वर्ल्ड कॉन्टेस्ट पिछली साल की तरह ही इस बार भी चीन का सान्या सिटी में हुआ। अनुकृति वास ने भारत को रिप्रेजेन्ट किया और वो सिर्फ टॉप 30 में ही जगह बना पाईं। भारत के अलावा टॉप 30 में चिली, फ्रांस, बांग्लादेश, जापान, मलेशिया, मॉरिशस, मेक्सिको, नेपाल, न्यूजीलैंड, सिंगापुर, थाइलैंड, युगांडा, अमेरिका, वेनेजुएला और वियतनाम ने जगह बनाई।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Miss World 2018 winner is Miss Mexico Vanessa Ponce De Leon

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/miss-world-2018-winner-is-miss-mexico-vanessa-ponce-de-leon-5992152.html

मैक्सिको की वनीसा पोन्स डि लियोन बनीं मिस वर्ल्ड 2018, मानुषी ने पहनाया क्राउन


सान्या. मेक्सिको की वनीसा को मिस वर्ल्ड 2018 चुन लिया गया है। चीन की सान्या सिटी में शनिवार शाम को 2017 की मिस वर्ल्ड भारत की मानुषी छिल्लर ने उन्हें मिस वर्ल्ड का क्राउन पहनाया। फर्स्ट रनर अप थाईलैंड की निकोलेंस पिचापा रहीं। भारत की अनुकृति वास टॉप 30 के लिए चुनी गईं लेकिन उसके बाद वो टॉप 12 में जगह नहीं बना पाईं और कॉम्पीटिशन से बाहर हो गईं।


कॉन्टिनेन्टल क्वीन विनर्स
बेलारुस की मारिया वासेलेविच मिस वर्ल्ड यूरोप चुनी गईं। वहीं, जमैका की कादिजाह रॉबिन्सन मिस वर्ल्ड कैरेबियन, पनामा की सोलारिस बारबा मिस वर्ल्ड अफ्रीका और थाईलैंड की निकोलेंस पिचापा मिस वर्ल्ड एशिया और ओशेनिया चुनी गईं।


अनुकृति टॉप 30 में ही बना पाईं जगह

मिस वर्ल्ड कॉन्टेस्ट पिछली साल की तरह ही इस बार भी चीन का सान्या सिटी में हुआ। अनुकृति वास ने भारत को रिप्रेजेन्ट किया और वो सिर्फ टॉप 30 में ही जगह बना पाईं। भारत के अलावा टॉप 30 में चिली, फ्रांस, बांग्लादेश, जापान, मलेशिया, मॉरिशस, मेक्सिको, नेपाल, न्यूजीलैंड, सिंगापुर, थाइलैंड, युगांडा, अमेरिका, वेनेजुएला और वियतनाम ने जगह बनाई।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
video
Miss World 2018 winner is Miss Mexico Vanessa Ponce De Leon
Miss World 2018 winner is Miss Mexico Vanessa Ponce De Leon
Miss World 2018 winner is Miss Mexico Vanessa Ponce De Leon

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/miss-world-2018-winner-is-miss-mexico-vanessa-ponce-de-leon-5992144.html

मैक्सिको की वनीसा बनीं मिस वर्ल्ड 2018, भारत की अनुकृति टॉप 30 तक ही पहुंच पाईं


सान्या (चीन). मैक्सिको की वनीसा पोन्स डि लियोन मिस वर्ल्ड 2018 चुनी गईं। उन्हें पिछले साल की मिस वर्ल्ड भारत की मानुषी छिल्लर ने क्राउन पहनाया। वनीसा मिस वर्ल्ड बनने वाली मैक्सिको की पहली महिला हैं। चीन के सान्या शहर में लगातार दूसरी बार हुए इस कॉम्पटीशन में भारत की अनुकृति वास अंतिम 12 तक नहीं पहुंच पाईं। वेसिर्फ टॉप 30 में जगह बना सकीं।17 साल बाद पिछलेसाल यानी 2017 में मिस वर्ल्ड का खिताब भारत की मानुषी छिल्लर ने जीता था।

भारत को अब तक मिले 6 खिताब
भारत की रीता फारिया (1966) मिस वर्ल्ड बनने वालीं देश की पहली महिला थीं। रीता के अलावा ऐश्वर्या राय (1994), डायना हेडन (1997), युक्ता मुखी (1999), प्रियंका चोपड़ा (2000) और मानुषी छिल्लर (2017) मिस वर्ल्ड का खिताब जीत चुकी हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
वनीसा को मिस वर्ल्ड का ताज पहनातीं मानुषी छिल्लर।
वनीसा।
Miss Mexico Venessa Ponce De Leon crowned as Miss World 2018

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/miss-mexico-venessa-ponce-de-leon-crowned-as-miss-world-2018-01370671.html

मिस वर्ल्ड 2018 का फाइनल जारी, भारत की अनुकृति वास टॉप 30 में है शामिल


सान्या. चीन के सान्या शहर में आज वर्ल्ड 2018 का फाइनल होने जा रहा है। जिसमें भारत का प्रतिनिधित्व अनुकृति वास करेंगी। बीते साल मानुषी छिल्लर ने मिस वर्ल्ड के ताज को पहना था और इस बार भी उम्मीद है कि ये ताज भारत की ही झोली में ही आएगा और विश्व सुंदरी का ताज अनुकृति वास के सिर पर सजेगा। अनुकृति वास मिस इंडिया 2018 की विनर हैं। जून में ये प्रतियोगिता हुई थी।

चीन में ही हो रहा कॉन्टेस्ट
इस बार मिस वर्ल्ड का आयोजन चीन में होने जा रहा है। ये प्रतियोगिता भारतीय समयानुसार 4.30 बजे शुरू हो चुकी है। पिछले साल भी चीन के सान्या शहर में इस प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था। इस बार भी प्रतियोगिता इसी शहर में रखी गई है। भारत के अलावा टॉप 30 में चिली, फ्रांस, बांग्लादेश, जापान, मलेशिया, मॉरिशस, मेक्सिको, नेपाल, न्यूजीलैंड, सिंगापुर, थाइलैंड, युगांडा, अमेरिका, वेनेजुएला और वियतनाम शामिल है।

32 देशों की प्रतिभागी ले रही हैं हिस्सा
मिस वर्ल्ड पेजेंट का यह 68 वां सीज़न है जिसमें 32 देशों के प्रतिभागी हिस्सा ले रहीं हैं। इसमें भारत की ओर से अनुकृति वास भी शामिल अनुकृति तमिलनाडु की रहने वाली हैं। वही मिस वर्ल्ड की प्रतियोगिता को लेकर मानुषी छिल्लर चीन के सान्या पहुंच चुकी हैं। उन्होंने कहा - “मैं सान्या वापस आकर बहुत खुश हूं। यह मेरे लिए एक जादुई जगह है। मुझे सान्या में ही ताज पहनाया गया था और मैं 8 दिसंबर को इस ताज को किसी और को पहनाउंगी।

ऐसे देख सकेंगे लाइव प्रसारण
मिस वर्ल्ड का ये समारोह भारतीय समयानुसार आज शाम 4.30 बजे से रोमेडी नाउ चैनल पर दिखाया जाएगा। वही इसकी लाइव स्ट्रीमिंग मिस वर्ल्ड 2018 के यूट्यूब चैनल पर भी देखी जा सकेगी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Tamil Nadu-born Anukreethy Vas running for the coveted crown Miss World 2018

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/tamil-nadu-born-anukreethy-vas-running-for-the-coveted-crown-miss-world-2018-5992082.html

लाइव शो कर रहा था एंकर, तभी सुनाई दी गोली चलने की आवाज, कुछ ही देर बाद एंकर पर आ गिरा आग का गोला


इंटरनेशनल डेस्क। सोशल मीडिया पर एक अजीबोगरीब वीडियो वायरल हो रहा है। जिसमें लाइव डिबेट शो के दैरान एंकर पर आग का गोला गिर गया। जीहां पाकिस्तान के एक न्यूज़ चैनल में लाइव शो के दौरान एंकर डिबेट करता है, तभी गोली चलने की आवाज आई। इससे एंकर डर गया, पर शो जारी रखता है। कुछ सेकंड बाद उस पर कागज का जलता हुआ गोला गिर जाता है।


वीडियो में एंकर ने डिबेट के दौरान पैनलिस्ट से पूछा, क्या आपको लगता है कि कट्टरपंथियों का सीमा पार जाना कितना आसान है? उसने अपनी एंकरिंग जारी ही रखी थी कि उसी समय बैकग्राउंड से एक तेज आवाज सुनाई पड़ती है। जब तक कि कोई समय पाता कि ये आवाज कहां से आ रही है इसी बीच एक जलता हुआ बॉल (फायर बॉल) एंकर के ऊपर आकर गिर पड़ा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
a fire balloon was thrown at journalist anchoring during a live broadcast in pakistan

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/a-fire-balloon-was-thrown-at-journalist-anchoring-during-a-live-broadcast-in-pakistan-5992027.html

पहली बार मंगल ग्रह पर हवाओं की आवाज रिकॉर्ड हुई, नासा के इनसाइट लैंडर ने भेजा ऑडियो


वॉशिंगटन.नासा के रोवर 'इनसाइट लैंडर' ने पहली बार मंगल ग्रह पर हवाओं की आवाज रिकॉर्ड की। स्पेस एजेंसी ने10 साल पहले रोवर को लाल ग्रह पर भेजा था। जिसे 26 नवंबर को मंगल की जमीन पर लैंड कराया गया। नासा की जेट प्रोपल्शन लैब ने हवाओं की रिकॉर्डिंग शुक्रवार शाम जारी की। एजेंसी केमुताबिक, यह रिकॉर्डिंग उस वक्त की है जब मंगल पर 16 से 24 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से हवाएं चल रही थीं।

  1. इनसाइट लैंडर के प्रमुख जांचकर्ता ब्रूस बेनर्ट के मुताबिक, इस ऑडियो को कैद करने की पहले से कोई योजना नहीं थी। हालांकि, हम मंगल पर काफी समय से मोशन (चाल) ढूंढने की कोशिश में थे। इसमें आवाज की तरंगों से पैदा होने वाला मोशन भी शामिल है।

  2. प्रेस कॉन्फ्रेंस मेंकॉर्नेल यूनिवर्सिटी के डॉन बैनफील्ड ने बताया- “मंगल ग्रह की हवाओं को सुनकर मुझे ऐसा लगा जैसे हम घर के बाहर गर्मी की दोपहर में बैठे हों। यानी मंगल और यहां की हवा में कुछ समानता है, जिसे इनसाइट लैंडर के जरिए सुना जा सकता है।''

  3. रिकॉर्डिंग में आवाजों के साथ जो शोर सुनाई दे रहा है वो दरअसल इनसाइट के सोलर पैनल से टकराने वाली आवाजें और वाइब्रेशन (कंपन) है। आवाज को रिकॉर्ड करने में रोवर ने अपने एयर प्रेशर सेंसर के साथ भूकंप मापने वाले सेसमोमीटर का इस्तेमाल किया।

  4. बैनर्ट के मुताबिक, इससे पहले 1976 में भेजा गया वाइकिंग लैंडर हवाओं की वजह से खुद हिलने लगा था, लेकिन तब इसकी आवाज रिकॉर्ड करना मुश्किल था। नासा ने इनसाइट लैंडर को इसी साल 26 नवंबर को मंगल की जमीन पर लैंड कराया था। वैज्ञानिकों के मुताबिक, सिर्फ दो हफ्ते के अंदर ऐसीजानकारियां मिलना बेहतरीन है।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      नासा ने इनसाइट लैंडर को इसी साल 26 नवंबर को मंगल की जमीन पर लैंड कराया था। -फाइल

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/nasa-s-insight-lander-records-sounds-of-mars-winds-01367948.html

बेटी ने बस में बदमाशी की तो पिता ने -2 डिग्री तापमान में 8 किमी पैदल चलवाया


ओहियो. अमेरिका में स्कूल बस में बदमाशी करने पर एक पिता ने अपनी 10 साल की बेटी को माइनस 2 डिग्री तापमान में 8 किमी पैदल चलवाया। इस दौरान वह कार से बेटी के पीछे-पीछे भी चले, ताकि वह सुरक्षित रहे।

ओहियो में रहने वाले मैट कॉक्स (39) ने बताया कि उनकी बेटी कर्स्टन स्कूल बस में बच्चों को डराती-धमकाती थी। इस कारण उसे स्कूल से तीन दिन के लिए सस्पेंड कर दिया गया था। इसके बाद भी उसकी बदमाशी कम नहीं हुई। दूसरी बार स्कूल में बदमाशी करने पर फिर सस्पेंड कर दिया।


बेवजह किसी परेशान न करें : मैट ने बताया कि बेवजह किसी को भी परेशान करना उनके उसूलों के खिलाफ है। उनकी बेटी दो बार ऐसी हरकत कर चुकी थी, इसलिए वे बेटी को सबक सिखाना चाहते थे। उन्होंने अगले दिन अपनी बेटी को माइनस 2 डिग्री तापमान में 8 किमी पैदल चलवाकर स्कूल भेजा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Ohio father makes daughter walk to school as punishment for bullyiing

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/ohio-father-makes-daughter-walk-to-school-as-punishment-for-bullyiing-01365864.html

अमेरिकी प्रतिबंधों को ईरान के राष्ट्रपति ने बताया आर्थिक आतंकवाद


तेहरान. ईरान के राष्ट्रपति हसन रुहानी ने उनके देश पर लगे अमेरिकी प्रतिबंधों को आर्थिक आतंकवाद बताया है। रुहानी ने कहा कि अमेरिका ने गैरकानूनी तरीके अपनाकर ईरान को निशाना बनाया। रुहानी ने तेहरान में एक कॉन्फ्रेंस के दौरान यह बात कही। कार्यक्रम में अफगानिस्तान, चीन, पाकिस्तान, रूस और तुर्की के अधिकारी मौजूद थे।

रुहानी ने कहा कि अमेरिका ने ईरान की अर्थव्यवस्था को संकट में डालने के लिए आर्थिक आतंकवाद का तरीका निकाला। वह दूसरे देशों के मन में भी डर पैदा करना चाहता है ताकि वो ईरान में निवेश ना करें।

ईरान के खिलाफ अमेरिकी प्रतिबंध 5 नवंबर से लागू हुए थे। ये प्रतिबंध ईरान के तेल और उसके फाइनेंशियल सेक्टर्स पर लगाए गए हैं। अमेरिका ने इसे ईरान के खिलाफ अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई बताया था। ऐसा माना जा रहा है कि अमेरिका की कार्रवाई से उन कंपनियों पर असर पड़ेगा जो ईरान के साथ कारोबार करती हैं।

ईरान के साथ हुई न्यूक्लियर डील से अमेरिका इस साल मई में पीछे हट गया था और ईरान पर आर्थिक प्रतिबंध लगाने का ऐलान किया था। इसके बाद ईरान की मुद्रा रियाल में काफी कमजोरी आ गई।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Iran President said US sanctions were economic terrorism

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/iran-president-said-us-sanctions-were-economic-terrorism-01367597.html

नाइटक्लब में कॉन्सर्ट के दौरान मची भगदड़, 6 की मौत


रोम. इटली के अंकोना शहर में शनिवार देर रात मची भगदड़ में 6 लोगों की मौत हो गई। रिपोर्ट्स के मुताबिक, शहर के अजूरा क्लब में शुक्रवार देर रात रैपर स्फेरा ऐबेस्ता का कॉन्सर्ट चल रहा था। इसी दौरान किसी ने मिर्च का स्प्रे छोड़ दिया। एक चश्मदीद के मुताबिक, जब लोगों ने वहां से भागने की कोशिश की तो उन्हें सभी दरवाजे बंद मिले, जिससे उनमें डर पैदा हो गया। बताया गया है कि कॉन्सर्ट देखने के लिए क्लब में 1000 से ज्यादा लोग मौजूद थे।

दमकल विभाग ने घटनास्थल की फोटोज के साथ एक ट्वीट किया है। इसमें बताया गया- “क्लब के अंदर लोगों ने कुछ चुभने वाला पदार्थ महसूस किया। इसके बाद डर के मारे लोग एक दूसरे को कुचलते हुए बाहर निकल गए। हादसे में 6 लोगों की मौत हुई और दर्जनों घायल हैं।”



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
several killed and injured in Italy nightclub stampede

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/several-killed-and-injured-in-italy-nightclub-stampede-01366901.html

राष्ट्रपति ट्रम्प ने पूर्व विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन को बताया बेवकूफ और आलसी


वॉशिंगटन. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और पूर्व विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन के बीच विवाद शुक्रवार को खुलकर सामने आ गया। टिलरसन ने गुरुवार को ट्रम्प पर आरोप लगाया था कि राष्ट्रपति उन्हें हमेशा गैरकानूनी फैसले लेने के लिए उकसाते थे। इस पर शुक्रवार को ट्रम्प ने पलटवार करते हुए टिलरसन को बेवकूफ और आलसी बताया। इसी ट्वीट में उन्होंने मौजूदा विदेश मंत्री माइक पोम्पियो की तारीफ भी की।

  1. ट्रम्प ने ट्वीट में लिखा, “माइक पोम्पियो बेहतरीन काम कर रहे हैं। रेक्स टिलरसन के पास काम करने की मानसिक क्षमता ही नहीं थी। वे बेवकूफ थे और मैं जल्दी उनसे पीछा नहीं छुड़ा पाया। टिलरसन बेहद आलसी थे। लेकिन अब खेल बदल चुका है। मंत्रालय में नया उत्साह है।”

  2. दरअसल, टिलरसन के अमेरिकी मीडिया चैनल सीबीएस न्यूज को हाल ही में एक इंटरव्यू दिया था। इसमें उन्होंने कई मामलों में ट्रम्प की आलोचना की। एक मौके पर उन्होंने कहा- “राष्ट्रपति मुझसे इसलिए परेशान हो गए, क्योंकि मैं वो आदमी था जो उन्हें बताता था कि आप क्या कर सकते हैं और क्या नहीं।”

  3. टिलरसन ने इंटरव्यू में बताया कि ट्रम्प अपनी समझ-बूझ के आधार पर काम करते हैं। वे एक तरह से आवेग में आ जाते थे। मेरे जैसे अनुशासित और प्रक्रिया को ध्यान में रखकर काम करने वाले के लिए एक ऐसे आदमी के साथ काम करना बेहद मुश्किल था जो बिल्कुल अनुशासित नहीं था।

  4. टिलरसन के मुताबिक, ट्रम्प को ब्रीफिंग रिपोर्ट पढ़ना भी नहीं पसंद था, क्योंकि वे ज्यादा चीजों की गहराई में नहीं जाना चाहते थे। बल्कि वे आमतौर पर कहते थे कि मैं इस बारे में यह राय बना चुका हूं, आप चाहें तो मुझे दूसरी तरह से राजी करें, लेकिन आप यह कर ही नहीं सकते।

  5. ट्रम्प और टिलरसन के बीच विवाद नया नहीं है। दरअसल, टिलरसन ने इसी साल मार्च में विदेश मंत्री पद से इस्तीफा दिया था। इस पर ट्रम्प ने खुशी जताते हुए उनके फैसले का स्वागत किया था। कुछ ही दिनों के अंतराल में ट्रम्प ने सीआईए के डायरेक्टर माइक पोम्पियो को विदेश मंत्री नियुक्त कर दिया था।

  6. विदेश मंत्री के तौर पर अपने कार्यकाल के दौरान टिलरसन भारत भी आ चुके हैं। भारत और अमेरिका के बीच पहली 2+2 मीटिंग में हिस्सा लेने से कुछ ही दिन पहले उन्हें हटाया गया था। हालांकि, उनके इस्तीफे के बाद 2+2 सितंबर में रखी गई थी।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      रेक्स टिलरसन (बाएं) ने एक इंटरव्यू में कहा था- मैं ट्रम्प को बताता था कि वे क्या कर सकते हैं और क्या नहीं।

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/donald-trump-tweets-on-rex-tillerson-calls-him-lazy-and-dumb-as-a-rock-01365124.html

हुवावे की सीएफओ का अमेरिका प्रत्यर्पण हुआ तो 30 साल तक की सजा हो सकती है


वैंकूवर. हुवावे की सीएफओ मेंग वांगझू (46) का अमेरिका प्रत्यर्पण हुआ तो उन्हें 30 साल तक की सजा हो सकती है। शुक्रवार की सुनवाई में मेंग पर लगे आरोपों का खुलासा हुआ। अमेरिकी वकीलों का कहना है कि मेंग ने ईरान की कंपनी से हुवावे के कारोबारी रिश्तों को छिपाया जबकि ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंध लागू थे। इस तरह अमेरिका में मेंग को इन आरोपों का सामना करना पड़ेगा कि उन्होंने साजिश रचकर वित्तीय संस्थानों से धोखाधड़ी की।

  1. मेंग के खिलाफ कनाडा में 22 अगस्त को ही गिरफ्तारी वारंट जारी हो चुका है। शुक्रवार को मेंग की जमानत अर्जी पर सुनवाई के दौरान यह बात सामने आई। अगली सुनवाई सोमवार को होगी। मेंग की गिरफ्तारी 1 दिसंबर को हुई। अमेरिका की अपील पर उन्हें गिरफ्तार किया गया।

  2. मेंग की गिरफ्तारी पिछले शनिवार को हुई थी। उसी दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और चीन के राष्ट्रपति शी-जिनपिंग जी-20 अर्जेंटीना में मुलाकात कर रहे थे। दोनों देशों के बीच ट्रेड वॉर 90 दिन टालने पर सहमति बनी थी। गुरुवार को मेंग की गिरफ्तारी की खबर सामने आई। चीन ने इस पर आपत्ति जताते हुए तुरंत रिहाई की मांग की थी।

  3. अमेरिकी अधिकारियों ने कहा था कि ट्रम्प को मेंग की गिरफ्तारी के बारे में जानकारी नहीं थी। उधर, हुवावे इस बात पर जोर दे रहा है कि गिरफ्तारी वारंट कई महीने पहले ही जारी हो गया था। यह कुछ मिनटों का फैसला नहीं था।

  4. मेंग के पिता रेन झेंगफेई हुवावे के चेयरमैन हैं। मेंग खुद भी कंपनी बोर्ड में वाइस चेयरपर्सन हैं। मेंग के पिता रेन चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के करीबी हैं। वो 20 साल तक चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी में थे। बताया जाता है कि उन्होंने सेना के टेक्नोलॉजी डिवीजन में भी काम किया था। रेन ने 1987 में हुवावे की शुरुआत की थी। वो अपनी बेटी मेंग को उत्तराधिकारी के तौर पर तैयार कर रहे हैं।

  5. हुवावे सैमसंग के बाद दुनिया की दूसरी बड़ी स्मार्टफोन कंपनी भी है। इसी साल हुवावे ने एपल को पीछे छोड़ा है। हुवावे से 1.8 लाख कर्मचारी जुड़े हुए हैं। यह 170 देशों में प्रोडक्ट बेचती है। पिछले साल इसका टर्नओवर 6.5 लाख करोड़ रुपए रहा था। चीन के लिए हुवावे इसलिए अहम है क्योंकि इससे तकनीक के मामले में अमेरिका और यूरोप पर उसकी निर्भरता कम हो जाएगी।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      Huawei CFO could face sentence of up to 30 years per charge if extradited t

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/huawei-cfo-could-face-sentence-of-up-to-30-years-per-charge-if-extradited-t-01363419.html

जापान में लोगों से ज्यादा मकान, मुफ्त किराए के बावजूद 1 करोड़ से ज्यादा घर खाली


टोक्यो. जापान में खाली घरों की संख्या बढ़ती जा रही है। राजधानी टोक्यो के आसपास के इलाके खाली हो रहे हैं, क्योंकि लोग नौकरी की तलाश में शहरों में बसना चाहते हैं। एक आकलन के मुताबिक, जापान में एक करोड़ से ज्यादा घर खाली हैं। ऐसे कई घरों के मालिक अपनी संपत्ति फ्री में भी देने को तैयार हैं। खाली पड़े घरों को खरीदने के लिए सरकार योजना भी चला रही है।

  1. जापान में खाली घर छोड़ने को घोटाला करने जैसा माना जाता है। लेकिन सच यही है कि आज जापान में लोगों से ज्यादा मकान हो गए हैं। जापान पॉलिसी फोरम के मुताबिक, देश में 6.1 करोड़ मकान हैं, जबकि घरों पर मालिकाना हक महज 5.2 करोड़ लोगों के पास है।

    Japan

  2. ओकुतामा में रहने वाले इदा परिवार ने दो मंजिला घर इसलिए फ्री में दे दिया क्योंकि वे शहर में रहना चाहता था। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ पॉपुलेशन एंड सोशल सिक्योरिटी अनुमान के मुताबिक, 2065 में जापान की 12.7 करोड़ की आबादी घटकर 8.8 करोड़ रह जाएगी। लिहाजा खाली घरों की संख्या में और इजाफा होगा।

  3. ग्रामीण इलाकों के इन खाली घरों को अकिया (भुतहा घर) कहा जा रहा है। अनुमान है कि 2040 तक जापान के 900 कस्बे और गांवों का कोई अस्तित्व नहीं रह जाएगा। क्योंकि वहां रहने वाला कोई नहीं होगा। एक अफसर काजुताका निजिमा कहते हैं कि टोक्यो से ढाई घंटे की दूरी पर बसा ओकुतामा 22 साल में खत्म हो जाएगा।

  4. गांवों को बसाने के लिए बाकायदा प्रोजेक्ट शुरू किया गया है। इसी के तहत ओकातुमा के लिए ओकुतामा यूथ रिवाइटलाइजेशन डिपार्टमेंट बनाया गया है। 1960 के दशक में ओकुतामा की आबादी 13 हजार हुआ करती थी, अब यहां महज 5 हजार लोग बचे हैं।

  5. जापान के खाली पड़े घरों को दोबारा बसाने के लिए 2014 में अकिया बैंक प्रोजेक्ट शुरू किया गया। हर इलाके के हिसाब से नियम बनाए गए हैं। ओकुतामा में 100 वर्गमीटर का मकान 6 लाख रुपए में मिल सकता है।

  6. घरों को मुफ्त या रेनोवेशन के लिए मदद की पेशकश भी की जा रही है। इसके लिए शर्त है कि घर लेने वाले की उम्र 40 साल से कम होनी चाहिए या उनका 18 साल से कम उम्र का बच्चा हो। अकिया योजना के तहत घर लेने वालों से यह सुनिश्चित कराया जाता है कि वे इलाके में हमेशा के लिए रहेंगे और वहां घर खरीदने के लिए दूसरों को भी प्रोत्साहित करेंगे।

  7. खाली पड़े घर खरीदने के लिए केवल जापान के लोगों को नहीं, विदेशियों को भी प्रोत्साहित किया जा रहा है। अमेरिका और चीन के लोगों ने भी इसमें रुचि दिखाई है। टोक्यो में 6 बच्चों के साथ रहने वाले फिलीपींस-जापानी कपल रोजाली और तोशीयुकी कहते हैं कि कंक्रीट जंगल से परेशान होने के बाद प्रकृति से घिरे ओकुतामा को रहने के लिए चुना।

  8. जापान में द्वितीय विश्व युद्ध और 1980 के दशक में आर्थिक विकास के बाद जनसंख्या बढ़ी। इस दौरान मकानों की कमी हो गई थी। लोगों के लिए बड़ी तादाद में सस्ते मकान बनाए गए। फूजित्सू रिसर्च इंस्टीट्यूट के हिदेताका योनेयामा कहते हैं कि ऐसे ज्यादातर मकानों की गुणवत्ता अच्छी नहीं थी। नतीजतन 85% लोगों ने दूसरा घर खरीदा बेहतर समझा।

  9. 2015 में जापान सरकार ने कानून पास किया कि अगर कोई घर खाली छोड़कर चला जाएगा तो उसे जुर्माना देना होगा। लोगों को विकल्प दिया गया कि या तो वे घर को तोड़ दें या उसे और विकसित कर लें।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      Japan has more homes than people to live in them

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/japan-has-more-homes-than-people-to-live-in-them-01355923.html

महिला पत्रकार को महंगा पड़ा छोटी बांह की ड्रेस पहनना, संसद से निकाली गईं, सोशल मीडिया पर जाहिर किया दर्द तो हुआ ऐसा रिएक्शन


इंटरनेशनल डेस्क/कैनबरा: ऑस्ट्रेलिया में महिलाएं स्लीवलेस टॉप (टी-शर्ट) पहने फोटोज सोशल मीडिया पर शेयर कर रही हैं। ऐसा करके वे पत्रकार पैट्रिशिया कार्वेलास के प्रति एकजुटता दर्शा रही हैं। दरअसल, हाल ही में पैट्रिशिया छोटी बांह का टॉप पहनकर ऑस्ट्रेलियाई संसद की रिपोर्टिंग करने गई थीं। यहां उन्हें संसद परिसर से यह कहकर निकाल दिया गया कि उनकी ड्रेस काफी छोटी है और इससे उनके शरीर का काफी हिस्सा दिख रहा है।

पैट्रिशिया ने सोशल मीडिया पर शेयर किया फोटो
पैट्रिशिया ने ट्विटर पर अपनी बाहें दिखाते हुए एक फोटो शेयर किया और लिखा, 'मुझे संसद से इस लिए बाहर निकाल दिया गया क्योंकि उन्हें मेरे हाथ का काफी हिस्सा खुला दिख रहा था। ये बेवकूफी है! लेकिन अटेंडेंट के कहने पर मैंने बाहर जाना ही बेहतर समझा। मुझे लगता है कि यह नियम आज के मानकों के हिसाब से ठीक नहीं है।'

पहले पुरुष पत्रकार को रोका गया था
संसद के सदन और गैलरी दोनों ही जगहों पर ड्रेस कोड का एक मानक है। पहले पुरुष पत्रकारों को भी सूट नहीं पहनकर आने पर प्रेस गैलरी में घुसने से रोका जा चुका है। लेकिन पैट्रिशिया का मामला सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर लोग उनके सपोर्ट में उतर गए हैं। एक ट्विटर यूजर ने इस मामले में ऑस्ट्रेलियाई विदेश मंत्री जूली बिशप की फोटो पोस्ट करते हुए लिखा कि पिछले महीने मंत्री भी स्लीवलेस ड्रेस पहनकर संसद पहुंची थी, उन्हें संसद से बाहर क्यों नहीं किया गया? एक और ट्विटर यूजर ने घटना पर तंज कसते हुए कहा, 'हे भगवान! आपके हाथ हैं? तुरंत वहां से निकल जाइए।' वहीं दूसरे ट्विटर यूजर ने कहा, 'क्या लोगों को खुली बाहों में घूमने का अधिकार नहीं है?'



ऑस्ट्रेलिया सरकार ने मांगी माफी
ट्विटर पर मामला बढ़ने के बाद ऑस्ट्रेलियाई सरकार को माफी मांगनी पड़ी है। देश के रक्षा मंत्री क्रिस्टोफर पाइन ने कहा, 'मैं सदन की तरफ से मिस कारवेलास को प्रेस गैलरी से निकाले जाने के लिए माफी मांगता हूं।' स्पीकर टोनी स्मिथ ने मामले की जांच बिठाने की बात कही। कार्वेलास ने सरकार की तरफ से माफी मांगे जाने के बाद कहा, 'संसद में ड्रेस कोड के रिव्यू किए जाने की पहल से काफी खुश हूं। आखिर अब महिला पत्रकारों को प्रोफेशनल कपड़े पहनने की आजादी मिलेगी।'



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Twitter users defend journalist thrown out of Australian Parliament for bare arms

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/twitter-users-defend-journalist-thrown-out-of-australian-parliament-for-bare-arms-5991530.html

ट्रांसपोर्ट मुफ्त करने वाला दुनिया का पहला देश होगा, नहीं देना होगा किराया


लग्जमबर्ग. यूरोप का सातवां सबसे छोटा देश लग्जमबर्ग अगले साल गर्मियों तक पब्लिक ट्रांसपोर्ट मुफ्त कर देगा। ऐसा करने वाला वह दुनिया का पहला देश होगा। इसके तहत लग्जमबर्ग में बस, ट्रेन और ट्राम से यात्रा करने वाले लोगों को किसी भी प्रकार का किराया नहीं देना होगा।

  1. इस देश की आबादी करीब 6 लाख है। कम आबादी होने के बावजूद यहां ट्रैफिक की समस्या बनी रहती है। इस कारण सरकार ने देश के पर्यावरण को बचाने और ट्रैफिक की समस्या से छुटकारा पाने के लिए ये खास योजना बनाई है।

  2. जेवियर बेटल ने बुधवार को लक्जमबर्ग के प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ ली है। बेटल ने चुनाव अभियान में कहा था कि वे पब्लिक ट्रांसपोर्ट को मुफ्त कर देंगे।

  3. लक्जमबर्ग की राजधानी लक्जमबर्ग सिटी की यातायात व्यवस्था को दुनिया के सबसे खराब ट्रैफिक में से एक माना जाता है। एक लाख 10 हजार की आबादी वाले शहर में 4 लाख लोग काम करने के लिए आते हैं, जबकि देश की आबादी ही 6 लाख है।

  4. सरकार पहले ही 20 साल तक के स्टूडेंट्स के लिए मुफ्त ट्रांसपोर्ट की घोषणा कर चुकी है। सेकंडरी स्कूल के बच्चों को घर से स्कूल आने-जाने के लिए फ्री सर्विस शुरू की गई है। किसी भी व्यक्ति को 2 घंटे से ज्यादा की यात्रा करने के लिए 1.78 पाउंड (160 रुपए) ही चुकाने होंगे। यानी 2,590 वर्ग किमी क्षेत्रफल वाले देश को घूमने के लिए किसी व्यक्ति को 160 रु. ही चुकाने होंगे।

  5. लक्जमबर्ग में 2020 से सभी तरह की टिकट बंद कर दी जाएंगी। लिहाजा किराए के संग्रह और टिकट खरीद पर निगरानी रखने की बचत होगी। हालांकि, फ्री ट्रांसपोर्ट के लिए नीति कैसे तैयार होगी, सरकार ने फिलहाल तय नहीं किया है।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      Luxembourg to be first country to introduce free public transport

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/luxembourg-to-be-first-country-to-introduce-free-public-transport-01357293.html

खरीदारी के बहाने ज्वैलरी शॉप में घुसा चोर, फिर सोने की चेन लेकर तेजी से बाहर की ओर भागा, लेकिन उससे हुई ऐसी चूक कि अगले ही पल वापस आना पड़ा


इंटरनेशनल डेस्क। एक ज्वैलरी शॉप में कुछ ऐसा हुआ जिसने हर किसी को हैरान कर दिया. एक चोर दुकान में घुसा और सोने की चेन चुराकर भागने लगा। लेकिन चोर के अंदर घुसते ही दुकाना का दरवाजा लॉक हो गया था। वीडियो में देखा जा सकता है कि थाईलैंड के चौनबुरी के ज्वेलरी स्टोर में एक शख्स घुसता है और चेन दिखाने के लिए कहता है। शॉप में मौजूद वर्कर सोने की चेन दिखने के लिए रख देता है। मौका पाकर में वहां से चेन लेकर भाग जाता है। लेकिन दरवाजा लॉक था। ऐसे में चोर वापस आया और चेन लौटा दी । वर्कर ने पुलिस को बुलवाया और इस चोर को अरेस्ट किया।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
thailand rob jewellery store thief fails to lift gold chain

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/thailand-rob-jewellery-store-thief-fails-to-lift-gold-chain-5991176.html

सिडनी टेस्ट में अश्विन की फिरकी में फंसे कंगारू, दूसरे दिन 7 विकेट पर ऑस्ट्रेलिया ने 191 रन बनाए, भारत से अभी भी पीछे


स्पोर्ट्स डेस्क: भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच सिडनी में खेले जा रहे पहले टेस्ट के दूसरे दिन का खेल खत्म हो गया है। दूसरे दिन स्टंप के वक्त ऑस्ट्रेलिया ने 7 विकेट पर 191 रन बना लिए हैं। कंगारू अभी भी भारत से 59 रन पीछे हैं। इंडिया के लिए रविचंद्रन अश्विन ने लिए सबसे ज्यादा तीन विकेट, वहीं इशांत शर्मा और जसप्रीत बुमराह ने लिए दो-दो विकेट लिए। इससे पहले टीम इंडिया कल के स्कोर में बिना कोई रन जोड़े आउट हो गई थी।

खराब रही ऑस्ट्रेलिया की शुरुआत
ऑस्ट्रेलियाई पारी की शुरुआत भी अच्छी नहीं रही। दिन के पहले ही ओवर में इशांत शर्मा ने आरोन फिंच को बोल्ड कर दिया। फिंच एक बड़ा शॉट खेलने गए लेकिन गेंद बल्ले और पेड के बीच से जगह बनाती हुई विकेटों से जा टकराई।
इसके बाद मार्कस हैरिस और उस्मान ख्वाजा ने ऑस्ट्रेलियाई पारी को संभालने का काम किया। दोनों धीरे-धीरे अर्धशतकीय साझेदारी की ओर बढ़ रहे थे, तभी अश्विन की एक गेंद हैरिस के बल्ले से लगकर पैड से टकराई और सिली पॉइंट पर खड़े मुरली विजय ने उनका आसान सा कैच लपका। वो 26 रन बनाकर आउट हुए। इसके बाद अश्विन ने शॉन मार्श को आउट किया।

सचिन ने बढ़ाया हौसला
सचिन तेंदुलकर ने ट्वीट कर टीम इंडिया का हौसला बढ़ाया। सचिन ने ट्वीट किया और भारतीय खिलाड़ियों से कहा कि उन्होंने जो मैच पर पकड़ बनाई है उसे ठीली ना पड़ने दें। सचिन ने लिखा- 'भारतीय टीम को अब इस परिस्थिती का अधिक से अधिक फायदा उठाना चाहिए, साथ ही मैच पर अब पकड़ ठीली ना छोड़े, ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों का इस तरह का डिफेंसिव खेल मैंने अपने अनुभव में पहले कभी नहीं देखा, अभी के हिसाब से अश्विन बेहद प्रभावी दिख रहे हैं और टीम को मजबूत स्थिती में लाने में अहम जिम्मेदारी निभा रहे हैं।'





Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
India vs Australia 1st Test, Day 2 Highlights

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/india-vs-australia-1st-test-day-2-highlights-5991404.html

हीदर नाॅअर्ट होंगी यूएन में अमेरिका की अगली राजदूत, निक्की हेली की जगह लेंगी


वाॅशिंगटन. अमेरिकी विदेश विभाग की प्रवक्ता हीदर नॉअर्ट संयुक्त राष्ट्र में देश की अगली राजदूत होंगी। अमेरिकी न्यूज चैनल ने दावा किया है कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प शुक्रवार को उनके नाम का ऐलान कर सकते हैं। इससे पहले भारतीय मूल की निक्की हेली ने अक्टूबर में ऐलान किया था कि वे साल के अंत तक यूएन में राजदूत का पद छोड़ देंगी।

  1. 48 साल की नॉअर्ट ने पिछले साल अप्रैल में पहली बार सरकारी पद संभाला है। नॉअर्ट फॉक्स न्यूज और एबीसी न्यूज में प्रेजेंटर के तौर पर काम कर चुकी हैं। गुरुवार को फॉक्स ने ही उनके राजदूत बनाने के बारे में ट्वीट किया।

  2. विदेश विभाग ने अभी इस मामले में कोई टिप्पणी नहीं की है। हालांकि, अगर उनके नाम का ऐलान होता भी है तो उनकी नियुक्ति को सीनेट की मंजूरी की जरूरत होगी।

  3. निक्की हेली को जनवरी 2017 में यूएन में अमेरिका का दूत बनाया गया था। ट्रम्प ने ट्वीट करके बताया कि मेरी राजदूत दोस्त की तरफ से बड़ा ऐलान होने वाला है।

  4. निक्की हेली के माता-पिता भारतीय है। वह 2016 में राष्ट्रपति चुनाव के दौरान ट्रम्प की आलोचक भी रहीं। दिसंबर 2017 में निक्की ने कहा कि जिस महिला ने ट्रम्प पर यौन शोषण के आरोप लगाए, उसकी बात सुनी जानी चाहिए।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      Heather Nauert to replace Nikki Haley as US envoy to UN

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/heather-nauert-to-replace-nikki-haley-as-us-envoy-to-un-01357279.html

8 दिन पहले PAK के प्रधानमंत्री ने कहा था, भारत शांति के लिए एक कदम आगे बढ़ेगा तो हम दो कदम चलेंगे, लेकिन अब दिया विवादित बयान


इंटरनेशनल डेस्क, इस्लामाबाद. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा है कि भारत की सत्ताधारी पार्टी (भाजपा) मुसलमान और पाक विरोधी है। उसने मेरी तरफ से की गई शांति की हर कोशिश को नाकाम कर दिया। इमरान ने यह बात वॉशिंगटन पोस्ट को दिए इंटरव्यू में कही। जुलाई में चुनाव जीतने के बाद अपने पहले संबोधन में इमरान ने कहा था कि भारत एक कदम आगे बढ़ेगा तो हम दो कदम चलेंगे। हाल ही में पाक ने भारत को सार्क समिट में शामिल होने का न्योता दिया था। इस पर सुषमा स्वराज ने कहा कि बातचीत और आतंकवाद साथ-साथ नहीं हो सकते। बता दें कि 8 दिन पहले पाकिस्तान केप्रधानमंत्री ने कहा था कि भारत शांति के लिए एक कदम आगे बढ़ेगा तो हम दो कदम चलेंगे।

'मुंबई हमले के बारे में जानकारी ले रहा हूं'
भारत मुंबई हमले के अपराधियों को सजा होते देखना चाहता है, इस सवाल पर इमरान ने कहा- मैंने सरकार से केस की हालिया स्थिति पता करने को कहा है। यह आतंकवाद से जुड़ा मसला था, हम इसे सुलझाना चाहते हैं। मुझे उम्मीद है कि जब भारत में चुनाव हो जाएंगे तो दोनों देशों में बातचीत शुरू हो सकेगी।

- इमरान ने कहा- पाक किसी आतंकी या आतंकी गुट को देश में पनाह नहीं दे रहा। जबसे मैं सत्ता में आया हूं, सुरक्षाबलों से मुझे बाकायदा जानकारी मिल रही है। मैं अमेरिका से पूछना चाहता हूं कि हमारे यहां आतंकी गुट कहां सक्रिय हैं? अगर अफगान सीमा पार कर 2-3 हजार तालिबान हमारे यहां आ गए हैं तो उन्हें अफगान शिविरों में भेज दिया जाएगा।

'9/11 से कोई लेना-देना नहीं'

इमरान ने कहा कि पाक का 9/11 से कोई लेना-देना नहीं है। ओसामा अफगानिस्तान में था, इसमें किसी पाकिस्तानी की भूमिका नहीं थी। 1980 के दशक में पाक ने अफगानिस्तान में सोवियत सेनाओं के खिलाफ अमेरिका की मदद की, लेकिन उसे इसका नुकसान ही उठाना पड़ा। आतंकवाद के खिलाफ युद्ध में हमारे 80 हजार लोग मारे गए। 150 अरब डॉलर (करीब 10.58 लाख करोड़ रुपए) का नुकसान हुआ। हमारे यहां न तो निवेशक आते हैं और न ही खेलने के लिए कोई टीम।

- इमरान ने कहा- अगर अमेरिका यह समझता है कि वह पाक को अपने मंसूबे पूरे करने के लिए किराए की बंदूक की तरह इस्तेमाल करेगा तो ऐसे में रिश्ता नहीं चल सकता। हम आत्मसम्मान के साथ अमेरिका से संबंध रखना चाहते हैं। अमेरिका से रिश्ते का मतलब यह कतई नहीं होगा कि हमारे यहां से किसी की जान जाए।

- अगर चीन के साथ हमारे कारोबारी संबंध हैं तो ऐसा ही रिश्ता अमेरिका के साथ भी है। माना यह जाता है कि अगर आप अमेरिकी राजनीति के साथ सहमत नहीं है तो आप अमेरिका विरोधी हैं। इसे तो साम्राज्यवादी नजरिया माना जाना चाहिए।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Pakistan PM Imran Khan Says Indian BJP government is anti muslim

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/pakistan-pm-imran-khan-says-indian-bjp-government-is-anti-muslim-5991354.html

भारत की सत्ताधारी पार्टी मुस्लिम विरोधी, उसने शांति की हर कोशिश नाकाम की: इमरान


इस्लामाबाद. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा है कि भारत की सत्ताधारी पार्टी (भाजपा) मुसलमान और पाक विरोधी है। उसनेमेरी तरफ से की गई शांति की हर कोशिश को नाकाम कर दिया। इमरान ने यह बात वॉशिंगटन पोस्ट कोदिए इंटरव्यू में कही। जुलाई में चुनाव जीतने के बाद अपने पहले संबोधन में इमरान ने कहा था कि भारत एक कदम आगे बढ़ेगा तो हम दो कदम चलेंगे। हाल ही में पाक ने भारत को सार्क समिट में शामिल होने का न्योता दिया था। इस पर सुषमा स्वराज ने कहाकि बातचीत और आतंकवाद साथ-साथ नहीं हो सकते।

  1. भारत मुंबई हमले के अपराधियों को सजा होते देखना चाहता है, इस सवाल पर इमरान ने कहा- मैंने सरकार से केस की हालिया स्थिति पता करने को कहा है। यह आतंकवाद से जुड़ा मसला था, हम इसे सुलझाना चाहते हैं। मुझे उम्मीद है कि जब भारत में चुनाव हो जाएंगे तो दोनों देशों में बातचीत शुरू हो सकेगी।

  2. इमरान ने कहा- पाक किसी आतंकी या आतंकी गुट को देश में पनाह नहीं दे रहा। जबसे मैं सत्ता में आया हूं, सुरक्षाबलों से मुझे बाकायदा जानकारी मिल रही है। मैं अमेरिका से पूछना चाहता हूं कि हमारे यहां आतंकी गुट कहां सक्रिय हैं? अगर अफगान सीमा पारकर 2-3 हजार तालिबान हमारे यहां आ गए हैं तो उन्हें अफगान शिविरों में भेज दिया जाएगा।

  3. इमरान के मुताबिक- पाक का 9/11 से कोई लेना-देना नहीं है। ओसामाअफगानिस्तान में था, इसमें किसी पाकिस्तानी की भूमिका नहीं थी। 1980 के दशक में पाक ने अफगानिस्तान में सोवियत सेनाओं के खिलाफ अमेरिका की मदद की, लेकिन उसे इसका नुकसान ही उठाना पड़ा। आतंकवाद के खिलाफ युद्ध में हमारे 80 हजार लोग मारे गए। 150 अरब डॉलर (करीब 10.58 लाख करोड़ रुपए) का नुकसान हुआ। हमारे यहां न तो निवेशक आते हैं और न ही खेलने के लिए कोई टीम।

  4. इमरान ने कहा- अगर अमेरिका यह समझता है कि वह पाक को अपने मंसूबे पूरे करने के लिए किराए की बंदूक की तरह इस्तेमाल करेगा तो ऐसेमें रिश्ता नहीं चल सकता। हम आत्मसम्मान के साथ अमेरिका से संबंध रखना चाहते हैं। अमेरिका से रिश्ते का मतलब यह कतई नहीं होगा कि हमारे यहां से किसी की जान जाए।

  5. पाक प्रधानमंत्री के मुताबिक- अगर चीन के साथ हमारे कारोबारीसंबंध हैं तो ऐसा ही रिश्ता अमेरिका के साथ भी है। माना यह जाता है कि अगर आप अमेरिकी राजनीति के साथ सहमतनहीं है तो आप अमेरिका विरोधी हैं। इसे तो साम्राज्यवादी नजरिया माना जाना चाहिए।

  6. इमरान ने कहा- आतंकवाद के खिलाफ अमेरिकी युद्ध में हम भी शामिल थे, हमारे नागरिक-सैनिक मारे गए लेकिन लादेन के खात्मे में हमारेसहयोगियों को हम पर ही भरोसा नहीं था।

  7. पाकिस्तान के विदेश विभाग के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने कहा है कि भले ही सरकार ने करतारपुर कॉरिडोर खोलने का फैसला किया हो, लेकिन कश्मीर अभी भी प्रमुख मुद्दा है। पाक सरकार जम्मू-कश्मीर विवाद पर बैकफुट पर नहीं आएगी। करतारपुर कॉरिडोर को खोलने का फैसला सिखों की भावनाओं को ध्यान में रखकर लिया गया है।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      Pak PM Imran Khan to Washington Post: Indian BJP government is anti muslim

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/pakistan-prime-minister-imran-khan-blames-bjp-of-being-anti-pakistan-and-an-01357088.html

सीएनएन ऑफिस को बम से उड़ाने की धमकी, कर्मचारियों ने बाहर आकर स्काइप से प्रसारण शुरू किया


न्यूयॉर्क. सीएनएन के न्यूयॉर्क स्थित ऑफिस में गुरुवार देर रात को बम से उड़ाने की धमकी दी गई। इसके बाद पुलिस ने मौके पर पहुंचकर बिल्डिंग खाली करा ली। सीएनएन की वेबसाइट के मुताबिक, न्यूजरूम में स्थानीय समयानुसार रात10:30 बजे के शो के बाद फायर अलॉर्म ऑन हुआ। तब तक चैनल रिकॉर्डेड प्रोग्राम चलाने लगा था। हालांकि, एक घंटे बाद बिल्डिंग के बाहर चैनल ने स्काइप के जरिए दोबारा लाइव प्रसारण शुरू कर दिया।

पुलिस ने आम लोगों को घटनास्थल से दूर रहने की हिदायत दीहै। अक्टूबर में भी सीएनएन के ऑफिस में पार्सल से बम भेजा गया था। तब भी पूरे दफ्तर को खाली कराया गया था। हालांकि, बम निष्क्रिय स्थिति में था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
CNN New York office evacuated after Bomb threat news and updates

Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/cnn-new-york-office-evacuated-after-bomb-threat-news-and-updates-01357059.html

शहरों में पब्लिक ट्रांसपोर्ट को मुफ्त बनाने वाला दुनिया का पहला देश होगा लग्जेमबर्ग


लक्जेमबर्ग सिटी. यूरोपीय देश लक्जेमबर्ग अगले साल गर्मियों तक सार्वजनिक परिवहन मुफ्त कर देगा। ऐसा करने वाला वह दुनिया का पहला देश होगा। लिहाजा लक्जेमबर्ग में बस, ट्रेन और ट्राम की यात्रा के लिए कई लोगों को कोई पैसा नहीं चुकाना पड़ेगा। देश के पर्यावरण को बचाने और ट्रैफिक की समस्या से निजात पाने के लिए सरकार खास योजना तैयार कर रही है।

  1. बुधवार को जेवियर बेटल ने लक्जेमबर्ग के प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ ली। डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता बेटल ने सोशलिस्ट वर्कर्स पार्टी और ग्रीन पार्टी के साथ मिलकर सरकार बनाई। बेटल ने चुनाव अभियान में ही साफ कर दिया था कि वे पब्लिक ट्रांसपोर्ट को फ्री कर देंगे।

  2. लक्जेमबर्ग की राजधानी लक्जेमबर्ग सिटी की यातायात व्यवस्था को दुनिया के सबसे खराब ट्रैफिक में से एक माना जाता है। एक लाख 10 हजार की आबादी वाले इस शहर में चार लाख लोग काम करने के लिए आते हैं।

    Luxembourg

  3. एक शोध बताता है कि लक्जेमबर्ग सिटी में 2016 में जाम के दौरान एक ड्राइवरके औसतन 33 घंटे खराब हुए। पूरे देश की आबादी छह लाख है। दोलाख लोग पड़ोसी देशों फ्रांस, बेल्जियम और जर्मनी से सीमा पार कर यहां काम करने आते हैं।

  4. सरकार 20 साल तक के बच्चों के लिए पहले ही मुफ्त ट्रांसपोर्ट का ऐलानकर चुकी है। सेकंडरी स्कूल के बच्चों को घर से स्कूल आने-जाने के लिए फ्री सर्विस शुरू की गई है।

  5. यही नहीं, किसी भी व्यक्ति को दोघंटे से ज्यादा की यात्रा करने के लिए 1.78 पाउंड (महज 160 रुपए) ही चुकाने होंगे। यानी 2590 वर्गकिमी क्षेत्रफल वाले देश को घूमने के लिए किसी व्यक्ति को 160 रुपए ही चुकाने होंगे।

  6. लक्जेमबर्ग में 2020 से सभी तरह केटिकट बंद कर दिए जाएंगे। हालांकि, फ्री ट्रांसपोर्ट के लिए नीति कैसे तैयार की जाएगी, इस पर सरकार ने फिलहाल तय नहीं किया है। ट्रेन में फर्स्ट-सेकंड क्लास कंपार्टमेंट के किराए पर भी ध्यान देना होगा।

  7. बेटल सरकार ने ऐलान किया है कि लक्जेमबर्ग में भांग (कैनाबिस) की खरीदी-बिक्री और भंडारण को अवैध नहीं माना जाएगा। वहीं सरकार ने कुछ नई छुट्टियों का भी ऐलान किया है।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      Luxembourg to become first country to make all public transport free

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/luxembourg-to-become-first-country-to-make-all-public-transport-free-01355786.html

छोटी बांह की ड्रेस पहनने पर संसद से निकाली गई महिला पत्रकार, सरकार को मांगनी पड़ी माफी


कैनबरा. ऑस्ट्रेलिया में महिलाएं स्लीवलेस टॉप (टी-शर्ट) पहने फोटोज सोशल मीडिया पर शेयर कर रही हैं। ऐसा करके वेपत्रकार पैट्रिशिया कार्वेलास के प्रति एकजुटता दर्शा रही हैं। दरअसल, हाल ही में पैट्रिशिया छोटी बांह का टॉप पहनकर ऑस्ट्रेलियाई संसद की रिपोर्टिंग करने गई थीं। यहां उन्हें संसद परिसर से यह कहकर निकाल दिया गया कि उनकी ड्रेस काफी छोटी है और इससे उनके शरीर का काफी हिस्सा दिख रहा है।

  1. पैट्रिशिया ने ट्विटर पर अपनी बाहें दिखाते हुए एक फोटो शेयर किया और लिखा, “मुझे संसद से इस लिए बाहर निकाल दिया गया क्योंकि उन्हें मेरे हाथ का काफी हिस्सा खुला दिख रहा था। ये बेवकूफी है! लेकिन अटेंडेंट के कहने पर मैंने बाहर जाना ही बेहतर समझा। मुझे लगता है कि यह नियम आज के मानकों के हिसाब से ठीक नहीं है।”

  2. संसद के सदन और गैलरी दोनों ही जगहों पर ड्रेस कोड का एक मानक है। पहले पुरुष पत्रकारों को भी सूट नहीं पहनकर आने पर प्रेस गैलरी में घुसने से रोका जा चुका है। लेकिन पैट्रिशिया का मामला सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर लोग उनके सपोर्ट में उतर गए हैं।

  3. एक ट्विटर यूजर ने इस मामले में ऑस्ट्रेलियाई विदेश मंत्री जूली बिशप की फोटो पोस्ट करते हुए लिखा कि पिछले महीने मंत्री भी स्लीवलेस ड्रेस पहनकर संसद पहुंची थी, उन्हें संसद से बाहर क्यों नहीं किया गया?

  4. एक और ट्विटर यूजर ने घटना पर तंज कसते हुए कहा, ‘‘हे भगवान! आपके हाथ हैं? तुरंत वहां से निकल जाइए।’’ वहीं दूसरे ट्विटर यूजर ने कहा, ‘‘क्या लोगों को खुली बाहों में घूमने का अधिकार नहीं है?’’

  5. ट्विटर पर मामला बढ़ने के बाद ऑस्ट्रेलियाई सरकार को माफी मांगनी पड़ी है। देश के रक्षा मंत्री क्रिस्टोफर पाइन ने कहा, “मैं सदन की तरफ से मिस कारवेलास को प्रेस गैलरी से निकाले जाने के लिए माफी मांगता हूं।’’ स्पीकर टोनी स्मिथ ने मामले की जांच बिठाने की बात कही।

  6. कार्वेलास ने सरकार की तरफ से माफी मांगे जाने के बाद कहा, “संसद में ड्रेस कोड के रिव्यू किए जाने की पहल से काफी खुश हूं। आखिर अब महिला पत्रकारों को प्रोफेशनल कपड़े पहनने की आजादी मिलेगी।”



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      Twitter defends journalist taken out of Australian Parliament for bare arms
      Twitter defends journalist taken out of Australian Parliament for bare arms

      Click here to Read full Details Sources @ https://www.bhaskar.com/international/news/twitter-defends-journalist-taken-out-of-australian-parliament-for-bare-arms-01353118.html




Explore Jobs/Opportunities
Jobs Jobs / Opportunities / Career
Engineering Jobs / Opportunities / Career
West Bengal Jobs / Opportunities / Career
Faculty & Teaching Jobs / Opportunities / Career
Accounts & Finance Jobs / Opportunities / Career
Bank Jobs / Opportunities / Career
Delhi Jobs / Opportunities / Career
Uttar Pradesh Jobs / Opportunities / Career
Gujarat Jobs / Opportunities / Career
Maharashtra Jobs / Opportunities / Career
Management Jobs / Opportunities / Career
Uttarakhand Jobs / Opportunities / Career
Bihar Jobs / Opportunities / Career
Telangana Jobs / Opportunities / Career
Haryana Jobs / Opportunities / Career
Railway Jobs / Opportunities / Career
Odisha Jobs / Opportunities / Career
Rajasthan Jobs / Opportunities / Career
Kerala Jobs / Opportunities / Career
Meghalaya Jobs / Opportunities / Career
Explore Articles / Stories
Government Schemes
Career
News
Admit Card
Bihar
Study Material
DATA
Technology
Public Utility Forms
Employment News
Exam Result
Sample Question Paper
Scholorship
Festival
State Government Schemes
Syllabus
Wallpaper
Bank IFSC
Election
Explore more
Main Page
Register / Login
Like our Facebook Page
Follow on Twitter
Subscrive Our Newsletter Via Nuzzle
Get Updates Via Rss Feed
Sarkari Niyukti
Free Online Practice Set
Latest Jobs
Feed contents
Useful Links
Photo
Video
Post Jobs
Post Contents
Supremedeal : India Business Directory
Find IFSC Code
Find Post Office / Pincode
Contact us
Best Deal

Disclaimer: we only provide job information. we are not associated with any job website. Although we take extreme care for accuracy of the information provided, but you must check the authenticity of the website before applying for the job. We are not responsible for your operation , once you leave our website and apply thereafter. Please recheck the genuineness of the job website from yourself also.

Copyright © 2018. Website template by WebThemez.com