educratsweb logo


शनि देव के 108 नाम ( 108 Names of lord Shanidev in Hindi )
शनि देव के 108 नाम ( 108 Names of lord Shanidev in Hindi )
http://educratsweb.com/users/images/3806-contents.jpg

शनि देव के 108 नाम ( 108 Names of lord Shanidev in Hindi )

  1. शनैश्चर- धीरे- धीरे चलने वाला
  2. शान्त- शांत रहने वाला
  3. सर्वाभीष्टप्रदायिन्- सभी इच्छाओं को पूरा करने वाला
  4. शरण्य- रक्षा करने वाला
  5. वरेण्य- सबसे उत्कृष्ट
  6. सर्वेश- सारे जगत के देवता
  7. सौम्य- नरम स्वभाव वाले
  8. सुरवन्द्य- सबसे पूजनीय
  9. सुरलोकविहारिण् - सुरह्स की दुनिया में भटकने वाले
  10. सुखासनोपविष्ट - घात लगा के बैठने वाले
  11. सुन्दर- बहुत ही सुंदर
  12. घन – बहुत मजबूत
  13. घनरूप - कठोर रूप वाले
  14. घनाभरणधारिण् - लोहे के आभूषण पहनने वाले
  15. घनसारविलेप - कपूर के साथ अभिषेक करने वाले
  16. खद्योत – आकाश की रोशनी
  17. मन्द – धीमी गति वाले
  18. मन्दचेष्ट – धीरे से घूमने वाले
  19. महनीयगुणात्मन् - शानदार गुणों वाला
  20. मर्त्यपावनपद – जिनके चरण पूजनीय हो
  21. महेश – देवो के देव
  22. छायापुत्र – छाया का बेटा
  23. शर्व – पीड़ा देना वेला
  24. शततूणीरधारिण् - सौ तीरों को धारण करने वाले
  25. चरस्थिरस्वभाव - बराबर या व्यवस्थित रूप से चलने वाले
  26. अचञ्चल – कभी ना हिलने वाले
  27. नीलवर्ण – नीले रंग वाले
  28. नित्य - अनन्त एक काल तक रहने वाले
  29. नीलाञ्जननिभ – नीला रोगन में दिखने वाले
  30. नीलाम्बरविभूशण – नीले परिधान में सजने वाले
  31. निश्चल – अटल रहने वाले
  32. वेद्य – सब कुछ जानने वाले
  33. विधिरूप - पवित्र उपदेशों देने वाले
  34. विरोधाधारभूमी - जमीन की बाधाओं का समर्थन करने वाला
  35. भेदास्पदस्वभाव - प्रकृति का पृथक्करण करने वाला
  36. वज्रदेह – वज्र के शरीर वाला
  37. वैराग्यद – वैराग्य के दाता
  38. वीर – अधिक शक्तिशाली
  39. वीतरोगभय – डर और रोगों से मुक्त रहने वाले
  40. विपत्परम्परेश - दुर्भाग्य के देवता
  41. विश्ववन्द्य – सबके द्वारा पूजे जाने वाले
  42. गृध्नवाह – गिद्ध की सवारी करने वाले
  43. गूढ – छुपा हुआ
  44. कूर्माङ्ग – कछुए जैसे शरीर वाले
  45. कुरूपिण् - असाधारण रूप वाले
  46. कुत्सित - तुच्छ रूप वाले
  47. गुणाढ्य – भरपूर गुणों वाला
  48. गोचर - हर क्षेत्र पर नजर रखने वाले
  49. अविद्यामूलनाश – अनदेखा करने वालो का नाश करने वाला
  50. विद्याविद्यास्वरूपिण् - ज्ञान करने वाला और अनदेखा करने वाला
  51. आयुष्यकारण – लम्बा जीवन देने वाला
  52. आपदुद्धर्त्र - दुर्भाग्य को दूर करने वाले
  53. विष्णुभक्त – विष्णु के भक्त
  54. वशिन् - स्व-नियंत्रित करने वाले
  55. विविधागमवेदिन् - कई शास्त्रों का ज्ञान रखने वाले
  56. विधिस्तुत्य – पवित्र मन से पूजा जाने वाला
  57. वन्द्य – पूजनीय
  58. विरूपाक्ष – कई नेत्रों वाला
  59. वरिष्ठ - उत्कृष्ट
  60. गरिष्ठ - आदरणीय देव
  61. वज्राङ्कुशधर – वज्र-अंकुश रखने वाले
  62. वरदाभयहस्त – भय को दूर भगाने वाले
  63. वामन – (बौना ) छोटे कद वाला
  64. ज्येष्ठापत्नीसमेत - जिसकी पत्नी ज्येष्ठ हो
  65. श्रेष्ठ – सबसे उच्च
  66. मितभाषिण् - कम बोलने वाले
  67. कष्टौघनाशकर्त्र – कष्टों को दूर करने वाले
  68. पुष्टिद - सौभाग्य के दाता
  69. स्तुत्य – स्तुति करने योग्य
  70. स्तोत्रगम्य - स्तुति के भजन के माध्यम से लाभ देने वाले
  71. भक्तिवश्य - भक्ति द्वारा वश में आने वाला
  72. भानु - तेजस्वी
  73. भानुपुत्र – भानु के पुत्र
  74. भव्य – आकर्षक
  75. पावन – पवित्र
  76. धनुर्मण्डलसंस्था - धनुमंडल में रहने वाले
  77. धनदा - धन के दाता
  78. धनुष्मत् - विशेष आकार वाले
  79. तनुप्रकाशदेह – तन को प्रकाश देने वाले
  80. तामस – ताम गुण वाले
  81. अशेषजनवन्द्य – सभी सजीव द्वारा पूजनीय
  82. विशेषफलदायिन् - विशेष फल देने वाले
  83. वशीकृतजनेश – सभी मनुष्यों के देवता
  84. पशूनां पति - जानवरों के देवता
  85. खेचर – आसमान में घूमने वाले
  86. घननीलाम्बर – गाढ़ा नीला वस्त्र पहनने वाले
  87. काठिन्यमानस – निष्ठुर स्वभाव वाले
  88. आर्यगणस्तुत्य – आर्य द्वारा पूजे जाने वाले
  89. नीलच्छत्र – नीली छतरी वाले
  90. नित्य – लगातार
  91. निर्गुण – बिना गुण वाले
  92. गुणात्मन् - गुणों से युक्त
  93. निन्द्य – निंदा करने वाले
  94. वन्दनीय – वन्दना करने योग्य
  95. धीर - दृढ़निश्चयी
  96. दिव्यदेह – दिव्य शरीर वाले
  97. दीनार्तिहरण – संकट दूर करने वाले
  98. दैन्यनाशकराय – दुख का नाश करने वाला
  99. आर्यजनगण्य – आर्य के लोग
  100. क्रूर – कठोर स्वभाव वाले
  101. क्रूरचेष्ट – कठोरता से दंड देने वाले
  102. कामक्रोधकर – काम और क्रोध का दाता
  103. कलत्रपुत्रशत्रुत्वकारण - पत्नी और बेटे की दुश्मनी
  104. परिपोषितभक्त – भक्तों द्वारा पोषित
  105. परभीतिहर – डर को दूर करने वाले
  106. भक्तसंघमनोऽभीष्टफलद – भक्तों के मन की इच्छा पूरी करने वाले
  107. निरामय – रोग से दूर रहने वाला
  108. शनि - शांत रहने वाला
educratsweb.com

Posted by: educratsweb.com

I am owner of this website and bharatpages.in . I Love blogging and Enjoy to listening old song. ....
Enjoy this Author Blog/Website visit http://twitter.com/bharatpages

if you have any information regarding Job, Study Material or any other information related to career. you can Post your article on our website. Click here to Register & Share your contents.
For Advertisment or any query email us at educratsweb@gmail.com

RELATED POST
1. आरती: श्री गंगा मैया जी - Ganga Maa ki aarti
आरती: श्री गंगा मैया जी - Ganga Maa ki aartihttp://educratsweb.com/users/images/3816-contents.jpgहर हर गंगे, जय माँ गंगे, हर हर गंगे, जय माँ गंगे ॥   ॐ जय गंगे माता, श
2. Kuber ji ki Aarti - श्री कुबेर आरती
Kuber ji ki Aarti - श्री कुबेर आरतीhttp://educratsweb.com/users/images/3826-contents.jpgऊँ जै यक्ष कुबेर हरे , स्वामी जै यक्ष जै यक्ष कुबेर हरे।   शरण पड़े भगतों के,
3. Navgrah Aarti- श्री नवग्रह आरती
Navgrah Aarti- श्री नवग्रह आरतीhttp://educratsweb.com/users/images/3828-contents.jpgआरती श्री नवग्रहों की कीजै, कष्ट,रोग,हर लीजै ।   सूर्य तेज़ व्यापे जीवन भर जा
4. Gurdwara Sri Hemkund Sahib History
Gurdwara Sri Hemkund Sahib History Gurudwara Hemkunt in the Himalayas is also regarded as one of the holiest places of the Sikhs. It was there that Sri Guru Gobind Singh the tenth and last Guru of the Sikhs is reported to have meditated in his previous life. In 'Bachitar Natak' the grea
5. Shree Durga Aarti - श्री दुर्गा आरती
Shree Durga Aarti - श्री दुर्गा आरतीhttp://educratsweb.com/users/images/3803-contents.jpgॐ जय अम्बे गौरी , मैया जय श्यामा गौरी ।   तुमको निशदिन ध्यावत हरी ब्रह्मा
6. भगवान श्रीगणेशजी की आरती - Shri Ganesh ji ki aarti
जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा। माता जाकी पार्वती पिता महादेवा ॥ जय...॥   एकदंत, दयावंत, चारभुजा धारी। माथे सिंदूर सोहे मूसे की सवारी ॥ जय...॥  
7. Shiv ji Ki Aarti - शिव जी की आरती | शिव की आरती
Shiv ji Ki Aarti - शिव जी की आरती | शिव की आरतीhttp://educratsweb.com/users/images/3822-contents.jpgॐ जय शिव ओंकारा, प्रभु हर शिव ओंकारा ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव ब्र
8. Bhairo Baba ki Aarti - श्री भैरव आरती
Bhairo Baba ki Aarti - श्री भैरव आरतीhttp://educratsweb.com/users/images/3827-contents.jpgसुनो जी भैरव लाड़िले,कर जोड़ कर विनती करुं । कृपा तुम्हारी चाहिये, मैं ध्यान तुम्हरा ही
9. Maihar Devi ki Aarti - श्री शारदा आरती
Maihar Devi ki Aarti - श्री शारदा आरतीhttp://educratsweb.com/users/images/3834-contents.jpgभुवन विराजी शारदा, महिमा अपरम्पार।   भक्तों के कल्याण को धरो मात अवतार ॥
10. Parvati ji ki Aarti - माँ पार्वती की आरती
Parvati ji ki Aarti - माँ पार्वती की आरती http://educratsweb.com/users/images/3836-contents.jpgजय पार्वती माता जय पार्वती माता ब्रह्म सनातन देवी शुभफल की दाता ।
11. Tulsi ji ki Aarti - तुलसी माता की आरती
Tulsi ji ki Aarti - तुलसी माता की आरती http://educratsweb.com/users/images/3839-contents.jpgजय जय तुलसी माता, सब जग की सुखदाता ।   ॥ जय जय तुलसी माता। ॥   सब
12. आरती: श्री गंगा मैया जी - Ganga Maa ki aarti
आरती: श्री गंगा मैया जी - Ganga Maa ki aartihttp://educratsweb.com/users/images/3844-contents.jpgहर हर गंगे, जय माँ गंगे, हर हर गंगे, जय माँ गंगे ॥   ॐ जय गंगे माता, श
13. शनि देव के 108 नाम ( 108 Names of lord Shanidev in Hindi )
शनि देव के 108 नाम ( 108 Names of lord Shanidev in Hindi )http://educratsweb.com/users/images/3806-contents.jpg
14. Khatu shyam ji ki Aarti - श्री खाटू श्याम जी की आरती
Khatu shyam ji ki Aarti - श्री खाटू श्याम जी की आरतीhttp://educratsweb.com/users/images/3829-contents.jpgॐ जय श्री श्याम हरे,   प्रभु जय श्री श्याम हरे।  
15. शनिदेव के चमत्कारिक सिद्ध पीठ - Shani Temple
शनिदेव के चमत्कारिक सिद्ध पीठ - Shani Temple    भारत भर में शनिदेव के कई पीठ है किंतु तीन ही प्राचीन और चमत्कारिक पीठ है, जिनका बहुत महत्व है। उक्त तीन पीठ पर जाकर ही पापों की क्षमा मांगी ज
16. Ganapati Aarti: Sukhkarta Dukhharta - सुख करता दुखहर्ता वार्ता विघ्नाची
Ganapati Aarti: Sukhkarta Dukhharta - सुख करता दुखहर्ता वार्ता विघ्नाचीhttp://educratsweb.com/users/images/3819-contents.jpgसुख करता दुखहर्ता, वार्ता विघ्नाची
17. पौराणिक कथा – क्यों चढ़ाते है शनि देव को तेल
पौराणिक कथा – क्यों चढ़ाते है शनि देव को तेल :- कथा इस प्रकार है शास्त्रों के अनुसार रामायण काल में एक समय शनि को अपने बल और पराक्रम पर घमंड हो गया था।  उस काल में हनुमानजी के बल और
18. Narmada ji ki Aarti : श्री नर्मदा जी की आरती
Narmada ji ki Aarti : श्री नर्मदा जी की आरतीhttp://educratsweb.com/users/images/3835-contents.pngॐ जय जगदानन्दी, मैया जय आनन्द कन्दी ।   ब्रह्मा हरिहर शंकर रेवा
19. Shree Saraswati Mata Aarti - श्री सरस्वती आरती
Shree Saraswati Mata Aarti - श्री सरस्वती आरतीhttp://educratsweb.com/users/images/3830-contents.jpgजय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता।   सदगुण वैभव शालिनी, त्र
20. Vindhyeshwari Aarti : श्री विन्ध्येश्वरी आरती
Vindhyeshwari Aarti : श्री विन्ध्येश्वरी आरतीhttp://educratsweb.com/users/images/3831-contents.jpgसुन मेरी देवी पर्वतवासिनी, कोई तेरा पार ना पाया ।   पान सुप
21. Shiv ji Ki Aarti - शिव जी की आरती | शिव की आरती
Shiv ji Ki Aarti - शिव जी की आरती | शिव की आरती http://educratsweb.com/users/images/3800-contents.jpgॐ जय शिव ओंकारा, प्रभु हर शिव ओंकारा ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव ब्
22. Shri Satyanarayan Aarti : श्री सत्यनारायण जी की आरती
Shri Satyanarayan Aarti : श्री सत्यनारायण जी की आरतीhttp://educratsweb.com/users/images/3815-contents.jpgजय  लक्ष्मी  रमना  जय  जय  श्री  लक्ष्मी  रमना सत्
23. श्री शनि चालीसा -Shri Shani Chalisa
श्री शनि चालीसा -Shri Shani Chalisahttp://educratsweb.com/users/images/3805-contents.jpg॥दोहा॥   जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल। दीनन के दुख दूर करि, कीजै न
24. ॐ जय कलाधारी हरे - बाबा बालक नाथ आरती
ॐ जय कलाधारी हरे, स्वामी जय पौणाहारी हरे, भक्त जनों की नैया, दस जनों की नैया, भव से पार करे,   ॐ जय कलाधारी हरे ॥  
25. श्री विष्णु सहस्त्रनाम स्तोत्रम
ॐ श्री परमात्मने नमः । ॐ नमो भगवते वासुदेवाय । अथ श्रीविष्णुसहस्त्रनाम स्तोत्रम यस्य स्मरणमात्रेन जन्म
We would love to hear your thoughts, concerns or problems with anything so we can improve our website educratsweb.com ! visit https://forms.gle/jDz4fFqXuvSfQmUC9 and submit your valuable feedback.
Save this page as PDF | Recommend to your Friends

http://educratsweb(dot)com http://educratsweb.com/content.php?id=3806 http://educratsweb.com educratsweb.com educratsweb